ऍम एस डॉस

डॉस का परिचय

डॉस का परिचय (Introduction of DOS)

MS DOS  का पूरा नाम Microsoft Disk Operating system है। MS DOS  एक Character User Interface Operating System (CUI) है। जो लगातार अपनी कुछ विशेषताओं के साथ यूजर को नई सुविधायें उपलब्ध कराता है। यह सबसे लोकप्रिय ऑपरेटिंग सिस्टम था । माईक्रो कम्प्यूटर में यह प्रयोग होता था । सन 1984 में इनटेल 80286 प्रोसेसर युक्त माईक्रो कम्प्यूटर विकसित किये गये तब इनमें MS DOS 3.0 और  MS DOS 4.0 version का विकास किया गया ।

माइक्रोसॉफ्ट के इस आपरेटिंग सिस्टम को डिस्क आपरेटिंग सिस्टम कहा गया क्योंकि यह अधिकतर डिस्क से संबंधित इनपुट आउटपुट कार्य करते थे। MS DOS  एक आपरेटिंग सिस्टम यूजर और हार्डवेयर के बीच मध्यस्थता का कार्य करता है। आपरेटिंग सिस्टम कम्प्यूटर में हार्डवेयर एवं सॉफ्टवेयर को कण्ट्रोल ही नहीं करता है। उनके बीच परस्पर संबंध स्थापित करता है ।जिससे यूजर को कंप्यूटर ऑपरेट करने में कोई समस्या नहीं होती है। MS DOS में कीवोर्ड की सहायता सेकमांड दिये जाते है। डॉस इन कमांड्स को समझ कर उस कार्य को समपन्न करता है,और आउटपुट को प्रदर्शित करता है।

डॉस के कार्य (Functions of DOS)

  • यह कीबोर्ड से कमांड लेता है और उनकी व्याख्या करता है।
  • यह सिस्टम की सभी फाइलों को दिखाता है।
  • यह प्रोग्राम के लिए नई फाइलें और अलॉट्स स्पेस बनाता है।
  • यह पुराने नाम के स्थान पर एक फ़ाइल का नाम बदलता है।
  • यह एक फ्लॉपी में जानकारी की प्रतिलिपि बनाता है।
  • यह एक फ़ाइल का पता लगाने में मदद करता है।
  • यह खोजकर्ताओं को बताता है कि फ़ाइल डिस्क में कहाँ स्थित है।
  • यदि हम चाहते हैं कि फ़ाइल में जानकारी मुद्रित हो, तो यह सूचना का प्रिंटआउट देता है।
  • यह फ़ाइलों और निर्देशिकाओं को छुपाता है ताकि दूसरों द्वारा नहीं देखा जा सके।
  • यह फ़ाइल को स्थायी रूप से हटा देता है।

डॉस की विशेषताएं (Features of DOS)

  • यह फ़ाइल प्रबंधन को बेहतर बनाने में सहायक है। फाइलें बनाना, संपादित करना, हटाना आदि।
  • यह उपयोगकर्ता ऑपरेटिंग सिस्टम है। कोई भी उपयोगकर्ता इस ऑपरेटिंग सिस्टम में एक समय पर काम कर सकता है।
  • यह अचरट्रैक्टर बेस्डफ़ोर्टफेस सिस्टम है। हम पत्र (या इस ऑपरेटिंग सिस्टम में वर्ण) टाइप कर सकते हैं।
  • MS-DOS 16 बिट ऑपरेटिंग सिस्टम है।
  • डॉस सरल टेक्स्ट कमांड ऑपरेटिंग सिस्टम है, यह ग्राफिकल इंटरफ़ेस का समर्थन नहीं करता है
  • डॉस टेक्स्ट आधारित इंटरफ़ेस का उपयोग करता है और इसे संचालित करने के लिए टेक्स्ट और कोड की आवश्यकता होती है|
  • DOS में इनपुट बेसिक सिस्टम कमांड्स के माध्यम से होता है, अर्थात इसे संचालित करने के लिए माउस का उपयोग नहीं किया जा सकता है|
  • डॉस इस बात का बहुविकल्पी समर्थन नहीं करता है कि इसका रैम में एक बार में केवल एक ही प्रक्रिया हो सकती है|
  • उपलब्ध स्टोरेज स्पेस की उच्चतम मात्रा 2 जीबी है|



सिलेबस के अनुसार नोट्स
DCA, PGDCA, O Level, ADCA, RSCIT, Data Entry Operator
यहाँ क्लिक करें