लिनक्स

कर्नल क्या हैं?

कर्नल क्या हैं? (What is kernel)

एक सामान्य उद्देश्य कंप्यूटर में एक साथ कई प्रक्रियाओं को चलाने के लिए, हमें कंप्यूटर पर हार्डवेयर संसाधनों के वितरण (Distribution) को कुशलतापूर्वक और कंप्यूटर पर चलने वाली सभी विभिन्न प्रोसेस के बीच वितरण (Distribution) करने के लिए एक मध्य परत की आवश्यकता होती है। इस मध्य परत को कर्नेल के रूप में जाना जाता है। मूल रूप से कर्नेल कंप्यूटर के सामान्य हार्डवेयर संसाधनों को वर्चुअल करता है, प्रत्येक प्रक्रिया को अपने वर्चुअल संसाधनों के साथ प्रदान करता है। यह मशीन पर चलने वाली एकमात्र प्रक्रिया है। कर्नेल विभिन्न प्रक्रियाओं के बीच टकराव को रोकने और कम करने के लिए भी जिम्मेदार है।

कर्नेल सॉफ्टवेयर का निम्नतम स्तर है जो आपके कंप्यूटर में हार्डवेयर के साथ इंटरफेस करता है। लिनक्स कर्नेल लिनक्स का एक मूलभूत हिस्सा है और इसमें लाखों रेखाएँ होती हैं। यह GPL (GNU General Public License) के तहत जारी किया गया है, जो सोर्स कोड तक सार्वजनिक पहुंच की अनुमति देता है। यह 1991 में एक फिनिश कंप्यूटर विज्ञान के छात्र लिनुस टोरवाल्ड्स द्वारा विकसित किया गया था। आज, दुनिया भर के हजारों डेवलपर्स लिनक्स कर्नेल के विकास में योगदान करते हैं।

Kernel Linux Operating System की कोर प्रोग्राम होती है। Kernel एक ऐसा आॅपरेटिंग सिस्टम प्रोग्राम हेै जो कि कम्प्यूटर हार्डवेयर के संसाधनों को नियंत्रित करके उनका उचित उपयोग यूजर से करवाता है। जैसे ही कम्प्यूटर Start होता है कर्नल लांच हो जाता है। और कम्प्यूटर के आॅफ होने तक लोड रहता है। यह इस बात पर निर्भर नही करता कि आप कौन से साफ्टवेयर या शैल को रन कर रहे है।



लिनक्स कर्नेल के कार्य –

  • I/O management
  • Prcesse management
  • device management
  • file management
  • Memory management
  • Error handling
  • Command execution

अपने Linux इंस्टालेशन के कर्नेल वर्जन का पता लगाने के लिए, आप uname -a कमांड का उपयोग कर सकते हैं|

लिनक्स कर्नेल के कोर सबसिस्टम इस प्रकार हैं:

  • The Process Scheduler
  • The Memory Management Unit (MMU)
  • The Virtual File System (VFS)
  • The Networking Unit
  • Inter-Process Communication Unit

लिनक्स कर्नेल के पहले तीन महत्वपूर्ण सबसिस्टम्स

The Process Scheduler:

यह कर्नेल सबसिस्टम एक साथ सिस्टम पर चल रही सभी प्रोसेस के बीच सीपीयू समय को उचित रूप से वितरित करने के लिए जिम्मेदार होता है।

The Memory Management Unit:

यह कर्नेल उप-इकाई सिस्टम पर चल रही विभिन्न प्रोसेस के बीच मेमोरी रिसोर्सेज के उचित वितरण (Distribution) के लिए जिम्मेदार है। MMU प्रत्येक प्रक्रिया के लिए बस अलग-अलग वर्चुअल एड्रेस स्पेस प्रदान करता है।

The Virtual File System:

यह सबसिस्टम विभिन्न फाइल सिस्टम और फिजिकल स्टोरेज मीडिया में संग्रहीत डेटा तक पहुंचने के लिए एक एकीकृत इंटरफ़ेस प्रदान करने के लिए जिम्मेदार होता है।

सिलेबस के अनुसार नोट्स
DCA, PGDCA, O Level, ADCA, RSCIT, Data Entry Operator
यहाँ क्लिक करें