कंप्यूटर नेटवर्किंग से सम्बंधित इंटरव्यू प्रश्न उत्तर

Computer Networking Interview Questions in Hindi

अगर आप किसी ऐसे जॉब इंटरव्यू के लिए जा रहे हैं जहाँ आपसे Computer Networking से सम्बंधित प्रश्न पूछे जा सकते हैं तो हमने Computer Networking विषय से सम्बंधित 90 से ज्यादा interview questions तैयार किये हैं, जो हमें लगता है कि आपके बहुत ज्यादा काम आयेंगे|

  • 1. Data Communication से आप क्या समझते है?

    जब दो devices के बीच किसी transmission medium (जैसे wire cable) की सहायता से data का आदान-प्रदान होता है, तो इसे data communication के नाम से जाना जाता है|

    Communication system को हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर के संयोजन से बने system का हिस्सा होना चाहिए। Data Communication system की प्रभावशीलता (effectiveness) तीन मूलभूत विशेषताओं पर निर्भर करती है:

    1. वितरण (delivery)
    2. सटीकता (accuracy)
    3. समयबद्धता (timeliness)

  • 2. Network क्या है?

    यह संचार लिंक (communication links) द्वारा जुड़े उपकरणों (devices) का एक समूह है इसमें node एक कंप्यूटर या कोई अन्य उपकरण (device) हो सकता है जो network पर अन्य nodes द्वारा उत्पन्न data को  भेजने (send) और / या प्राप्त (receive) करने में सक्षम हो।

  • 3. Simplex क्या है?

    यह दो उपकरणों(devices) के बीच संचार (Communication)  का तरीका है जिसमें data का प्रवाह(flow) केवल एक दिशा में(unidirectional) होता है अर्थात कोई एक transmit करता है और दूसरा receive करता है|

    जैसे: keyboard और monitor

  • 4. Half-duplex क्या है?

    यह दो उपकरणों(devices) के बीच संचार (Communication)  का तरीका है जिसमें data का प्रवाह(flow) द्वि-दिशात्मक (bi-directional) होता है लेकिन एक ही समय में नहीं।

    अर्थात प्रत्येक devices संचारित(transmit) और प्राप्त(receive) कर सकते है लेकिन एक समय में यातो संचारित(transmit) कर सकते है या प्राप्त(receive) | एक ही समय में संचारित(transmit) और प्राप्त(receive) नहीं कर सकते|

    जैसे:  walkie-talkies half-duplex system हैं।

  • 5. Full Duplex क्या है?

    यह दो उपकरणों (devices) के बीच संचार (Communication)  का तरीका है जिसमें data का प्रवाह(flow) द्वि-दिशात्मक (bi-directional) होता है और यह एक साथ होता है।

    जैसे TELEPHONE

  • 6. टोपोलॉजी (topology) क्या है?

    Network  की टोपोलॉजी को सभी link और एक दूसरे से जुड़ने वाले उपकरणों (nodes) के बीच के ज्यामितीय representation के रूप में परिभाषित किया जाता है। topology में star, bus, ring and mesh शामिल हैं।

    Star- इसमें प्रत्येक device की central controller जिसे hub कहा जाता है से dedicated point to point link होती है|

    Bus -यह multipoint connectionहै। एक लंबी cable नेटवर्क के सभी उपकरणों(devices) को जोड़ने के लिए एक रीढ़ की हड्डी(backbone) के रूप में कार्य करती है।

    Ring-यहाँ प्रत्येक डिवाइस में केवल दो डिवाइसों के साथ इसके दोनों ओर कनेक्शन के लिए एक समर्पित बिंदु(dedicated point to point connection) होता है।

    Mesh- यहाँ प्रत्येक डिवाइस में हर दूसरे डिवाइस के लिए एक dedicated point to point link होती है।

  • 7. वितरित प्रसंस्करण(distributed processing) क्या है?

    यह एक रणनीति (strategy) है जिसमें network द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाएं(services) कई साइटों(sites) पर रहती हैं।

  • 8. Point to point connection क्या है?

    यह दो उपकरणों(devices) के बीच एक समर्पित लिंक(dedicated link) प्रदान करता है। link की पूरी क्षमता(entire capacity) दो उपकरणों(devices) के बीच transmission के लिए आरक्षित(reserved) रहती है|

    जैसे जब हम रिमोट कंट्रोल(remote control) से टीवी चैनल बदलते हैं तो हम रिमोट कंट्रोल और टीवी कंट्रोल सिस्टम के बीच Point to point connection स्थापित करते हैं।

  • 9. Multipoint connection क्या है?

    Multipoint connection में दो से अधिक विशिष्ट उपकरण(specific devices) एकल लिंक(single link) साझा(share) करते हैं।

    यहां चैनल की क्षमता(channel capacity) अस्थायी रूप से साझा की जाती है।

  • 10. LAN, MAN और WAN को परिभाषित कीजिये|

    LAN- Local Area Network (LAN) एक निजी स्वामित्व (privately owned) है जिसमे एक ही कार्यालय, भवन या परिसर में devices को जोडा जाता है।

    यह personal computers और work stations के बीच संसाधनों (resources) को साझा करने की अनुमति देता है।

    MAN- Metropolitan-Area Network (MAN) यह network पूरे शहर में फैला हुआ होता है।

    यह पूरी तरह से private company द्वारा संचालित (operated) हो सकता है, जैसे स्थानीय टेलीफोन कंपनी (local telephone company)|

    WAN – Wide Area Network (WAN) बड़े भौगोलिक क्षेत्रों(geographic areas) जैसे देश,महाद्वीप और पूरी दुनिया पर data, आवाज (voice), छवि (image) और वीडियो को  transfer कर सकता है|

  • 11. इंटरनेट को परिभाषित करें?

    यह कई नेटवर्को का एक नेटवर्क है।

  • 12. प्रोटोकॉल (protocol) क्या है?

    यह नियमों का एक समूह है जो डेटा संचार(data communication) को नियंत्रित करता है। एक प्रोटोकॉल परिभाषित करता है कि क्या संप्रेषित(communicated) किया जाता है, कैसे संप्रेषित(communicated) किया जाता है, और कब इसे संप्रेषित(communicated) किया जाता है। प्रोटोकॉल के प्रमुख तत्व वाक्य रचना(syntax), शब्दार्थ(semantics) और समय(timing) हैं।

  • 13. TCP/IP protocol model क्या है?

    यह पांच स्तरित मॉडल(layered model) है, जो सार्वभौमिक रूप से संगत नेटवर्किंग प्रोटोकॉल(compatible networking protocols) के विकास के लिए दिशानिर्देश प्रदान करता है।

    पांच परतें (five layers) है:- physical, data link, network, transport और application।

  • 14. TCP/IP की पाँच परतों के कार्य बताइए?

    Physical- यह raw bits को एक medium से प्रसारित करता है। यह mechanical और electrical specification प्रदान करता है।

    Data link- यह bits को frame में व्यवस्थित करता है। यह hop to hop delivery प्रदान करता है।

    Network- यह packet को source से destination तक ले जाता है। यह internetworking प्रदान करता है।

    Transport- यह संदेश वितरण (message delivery) और त्रुटि सुधार (error recovery) की प्रक्रिया के लिए विश्वसनीय (reliable) process प्रदान करता है।

    Application- यह नेटवर्क संसाधनों (network resources) तक access की अनुमति देता है।

  • 15. ISO-OSI model क्या है?

    ओपन सिस्टम इंटरकनेक्शन (Open Systems Interconnection) या OSI model को अंतर्राष्ट्रीय संगठन मानकीकरण (International Organization for Standardization) (ISO) द्वारा डिजाइन किया गया था। यह एक सात परत वाला मॉडल (seven layer model) है। यह एक सैद्धांतिक मॉडल (theoretical model) है जिसे यह दिखाने के लिए डिज़ाइन किया गया है कि protocol stack कैसे लागू किया जाना चाहिए।

    यह TCP/IP model की परतो (layers) के अलावा दो अतिरिक्त परतों(layers) को परिभाषित करता है।

    Session- यह संचार प्रणाली (communicating system) के बीच interaction  को स्थापित करने, बनाए रखने और सिंक्रनाइज़ करने के लिए डिज़ाइन किया गया था।

    Presentation-यह दो प्रणालियों (systems) के बीच आदान-प्रदान की गई जानकारी के वाक्यविन्यास और शब्दार्थ (syntax and semantics) को संभालने के लिए डिज़ाइन किया गया था। यह डेटा अनुवाद (data translation), एन्क्रिप्शन (encryption), डिक्रिप्शन (decryption) और कम्प्रेशन (compression) के लिए डिज़ाइन किया गया था।

  • 16. Multiplexing क्या है?

    बेहतर दक्षता (better efficiency) के लिए मल्टीप्लेक्सिंग एक link, physical medium को तार्किक चैनलों (logical channels) में विभाजित करने की process है। इसमें medium नहीं बदलता लेकिन इसमें एक के बजाय कई channel हैं।

  • 17. Switching क्या है?

    Data communication में Switching तीन प्रकार की होती है:-

    1. सर्किट स्विचिंग (Circuit switching)
    2. पैकेट स्विचिंग (Packet switching)
    3. संदेश स्विचिंग (Message switching)

  • 18. माध्यम (medium) पर data को कैसे प्रेषित (transmit) किया जाता है?

    Data को विद्युत चुम्बकीय संकेतों (electromagnetic signals) के रूप में प्रेषित (transmit) होता है।

  • 19. एनालॉग (analog) और डिजिटल (digital) सिग्नल की तुलना करें?

    Analog signals में एक range में अनंत संख्या के मान हो सकते हैं लेकिन digital signal में सीमित संख्या में मान हो सकते हैं।

  • 20. Bandwidth को परिभाषित करे|

    एक माध्यम (medium) से गुजरने वाली आवृत्तियों (frequencies) की सीमा (range) को bandwidth कहा जाता है। यह उच्चतम और निम्नतम आवृत्तियों (frequencies) के बीच का अंतर है|

  • 21. किन कारकों (factors) पर data rate निर्भर करती है?

    Data rate अर्थात कितनी तेजी से हम data भेज सकते हैं (send कर सकते है)|  यह निम्न कारको (factors) पर निर्भर करता है:-

    1. उपलब्ध Bandwidth (Bandwidth available)
    2. संकेतों के स्तर (level of signals) जिनका हम उपयोग कर सकते हैं
    3. Channel की quality  (noise का स्तर)

  • 22. Multiplexing के विभिन्न प्रकार क्या हैं?

    Multiplexing तीन प्रकार की होती है। Frequency division multiplexing और wave division multiplexing एनालॉग सिग्नल के लिए है और डिजिटल सिग्नल के लिए time division multiplexing है।

  • 23. FDM क्या है?

    Frequency division में प्रत्येक signal एक अलग carrier frequency को modulate कर देता है| modulated carrier एक नया signal बनाने के लिए संयोजित होता है जिसे बाद में पूरे लिंक(across the link) पर भेजा जाता है।

    यहां multiplexers signal को modulate और संयोजित(combine) करते हैं जबकि demultiplexes decompose और demodulate करते हैं।

    Guard bands overlapping और एक दूसरे के साथ interfering होने से रोकने के लिए मॉड्यूलेटिंग सिग्नल (modulating signal) रखते हैं।

  • 24. TDM क्या है?

    TDM में n devices के digital signals एक दूसरे के साथ interleaved होते हैं, जो data का एक frame बनाते हैं।

    Framing bits TDM multiplexer को ठीक से synchronize करने की अनुमति देते हैं।

  • 25. विभिन्न प्रकार के transmission media कोन-कोन से हैं?

    Transmission media को मोटे तौर पर दो प्रकारों में वर्गीकृत किया गया है

    • Guided media (wired)
    • Unguided media (wireless)

  • 26. गाइडेड मीडिया (Guided media) क्या हैं?

    जो मीडिया एक डिवाइस से दूसरे डिवाइस में conduct प्रदान करता है उसे गाइडेड मीडिया (Guided media) कहा जाता है। इनमें twisted pair cable, coaxial cable और fiber-optic cable शामिल हैं।

  • 27. अलग-अलग गाइडेड मीडिया (Guided media) के बारे में बताइए|

    Twisted pair cable

    • Twisted pair cable में दो insulated cupper wires twisted होते हैं।
    • आवाज (voice) और डेटा संचार (data communications) के लिए टेलीफोन लाइन का उपयोग किया जाता है।

    Coaxial cable

    Coaxial cable में निम्नलिखित परतें होती हैं:

    • एक धातु की छड़ के आकार का आंतरिक कंडक्टर(metallic rod-shaped inner conductor), रॉड(rod) को कवर करने वाला एक इन्सुलेटर(insulator), एक धातु का बाहरी कंडक्टर(metallic outer conductor (shield)), shield को कवर करने वाला एक इंसुलेटर, और एक प्लास्टिक कवर।
    • Coaxial cable twisted-pair cable की अपेक्षा उच्च आवृत्ति रेंज(higher frequency ranges) के संकेतों को एक स्थान से दूसरे स्थान ले जा सकता है।
    • Coaxial cable का उपयोग केबल टीवी नेटवर्क और ईथरनेट LANs में किया जाता है।

    Fiber-optic cables

    • Fiber-optic cables एक ग्लास या प्लास्टिक इनर कोर (glass or plastic inner core) से बने होते हैं, ये चारो और से  एक आवरण में घिरे होते हैं। Fiber-optic cables प्रकाश के रूप में data signal ले जाते हैं। Signal को प्रतिबिंब(reflection) द्वारा आंतरिक कोर(inner core) के साथ प्रचारित(propagated) किया जाता है।
    • Fiber-optic cable की विशेषताएं है:- शोर प्रतिरोध (noise resistance), कम क्षीणन(low attenuation) और उच्च बैंडविड्थ क्षमताएं (high bandwidth capabilities)।
    • इसका उपयोग backbone networks, cable TV networks, और fast Ethernet networks में किया जाता है।

  • 28. वायरलेस संचार(wireless communication) से आपका क्या अभिप्राय है?

    जब भौतिक संवाहक (physical conductor) का उपयोग किए बिना Unguided media विद्युत चुम्बकीय तरंगो (electromagnetic waves) को transport करता है,तो इस प्रकार के संचार को वायरलेस संचार (wireless communication) कहा जाता है।यहां signal हवा के माध्यम से broadcast होते हैं|

  • 29. Switching से क्या अभिप्राय है?

    यह एक विधि (method) है जिसमें संचार उपकरण (communication devices) एक दूसरे से कुशलतापूर्वक जुड़े होते हैं।

    एक switch मध्यस्थ हार्डवेयर या सॉफ्टवेयर (intermediary hardware or software) है जो उपकरणों (devices) को अस्थायी रूप से एक साथ जोड़ता है।

  • 30. Switching methods कोन कोन सी हैं?

    तीन मूलभूत Switching methods हैं: circuit switching, packet switching और message switching।

    Circuit switching में, दो devices के बीच एक direct physical connection होता है यह connection space division switches, time division switches या दोनों switches के द्वारा स्थापित किया जाता है|

    Packet switching में data एक packet switched network का उपयोग करके संचारित किया जाता है। packet switched network एक नेटवर्क है जिसमें data को स्वतंत्र इकाइयों में प्रेषित (transmit) किया जाता है जिसे packet कहा जाता है।

  • 31. Data link layer का क्या कार्य है?

    Data link layer एक hop (कंप्यूटर या राउटर) से पैकेट को अगले hop तक ले जाने के लिए जिम्मेदार है। Data link layer के कार्यो में पैकेटिंग, एडर्सिंग, एरर कंट्रोल, फ्लो कंट्रोल, मीडियम एक्सेस कंट्रोल शामिल हैं।

  • 32. Errors के प्रकार क्या हैं?

    त्रुटियों को एकल-बिट त्रुटि या फट त्रुटि के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है। एकल बिट त्रुटि में प्रति डेटा इकाई में एक बिट त्रुटि है। एक फट त्रुटि में प्रति डेटा यूनिट में दो या अधिक बिट त्रुटियां होती हैं।

  • 33. Redundancy से आपका क्या अभिप्राय है?

    Redundancy error detection में अतिरिक्त bit भेजने की अवधारणा है। 3 सामान्य redundancy method है:- parity check, cyclic redundancy check (CRC), और checksum|

  • 34. Parity check को परिभाषित करे|

    parity check में, प्रत्येक data uni में एक parity bit को जोड़ा जाता है ताकि कुल 1s की संख्या सम (या विषम parity के लिए विषम) हो। parity check सभी single bit errors का पता लगा सकती है। यदि प्रत्येक data unit में त्रुटियों की कुल संख्या विषम हो तो यह burst errors का पता लगा सकती है Two dimensional parity checks में, bits के एक block को rows में विभाजित किया जाता है और bits की एक redundant पंक्ति को पूरे ब्लॉक के साथ जोड़ा जाता है।

  • 35. Cyclic redundancy check (CRC) को परिभाषित करें।

    CRC binary division से व्युत्पन्न redundant bits के एक क्रम को data unit में जोड़ता है। CRC generator में विभाजक(divisor) को अक्सर बीजगणितीय बहुपद(algebraic polynomial) के रूप में दर्शाया जाता है।

  • 36. Hamming code क्या है?

    Hamming code एक error correction method है, जिसमे redundant bits का  उपयोग किया जाता है। Bits की संख्या data bits की लंबाई का एक function है। M bits की एक data unit के लिए hamming code में, हम redundant bits की संख्या निर्धारित करने के लिए सूत्र 2r> = m + r + 1 का उपयोग करते हैं। Data units के bit transmission के क्रम को फिर से व्यवस्थित करके(rearranging), Hamming code, burst errors को सही कर सकता है।

  • 37. Flow control का क्या अर्थ है?

    यह sender की data rate का नियमन है ताकि receiver buffer अभिभूत(overwhelmed) न हो। Flow control, data की मात्रा को प्रतिबंधित करने के लिए उपयोग की जाने वाली प्रक्रियाओं के एक set को संदर्भित(refers) करता है जिसे sender acknowledgement के लिए प्रतीक्षा करने से पहले भेज सकता है।

  • 38. Error control से आपका क्या तात्पर्य है?

    Error control मुख्य रूप से Error का पता लगाने और retransmission के तरीकों को संदर्भित (refer) करता है। जब भी किसी एक्‍सचेंज में किसी error का पता चलता है, तो निर्दिष्ट फ्रेम (specified frames) को पुन: अंकित किया जाता है। इस process को Automatic Repeat Request (ARQ) कहा जाता है।

  • 39. Stop and Wait ARQ को परिभाषित करे।

    Stop and Wait ARQ में sender एक frame भेजता है और अगले frame में भेजने से पहले receiver acknowledgement की प्रतीक्षा करता है।

  • 40. Go-Back-N ARQ को परिभाषित करे?

    Go-Back-N ARQ में, एक ही समय में कई frame transit में हो सकते हैं। यदि कोई error है, तो अंतिम Unacknowledged frame के साथ retransmission शुरू होता है, भले ही बाद में frame सही तरीके से आए। यहाँ डुप्लिकेट फ़्रेम(Duplicate frames) को छोड़ दिया जाता है।

  • 41. Selective Repeat ARQ को परिभाषित करे?

    Selective Repeat ARQ में, एक ही समय में कई frames transit में हो सकते हैं। यदि कोई त्रुटि(error) आती है, तो केवल unacknowledged frame को retransmitted किया जाता है।

  • 42. Pipelining से क्या तात्पर्य है, क्या त्रुटि नियंत्रण(error control) में कोई Pipelining होती है?

    ऐसी process जिसमे पिछले कार्य के समाप्त होने से पहले नये कार्य को शुरू किया जाता है तो इस process को Pipelining कहा जाता है। Stop and Wait ARQ में कोई pipelining नहीं है लेकिन यह Go-Back-N ARQ और Selective Repeat ARQ में pipelining लागू(apply) होती है।

  • 43. HDLC क्या है?

    यह एक bit oriented data link protocol है जिसे point to point और multi point links पर half duplex और full duplex communication का समर्थन करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। HDLC  को उनके स्टेशन प्रकार(station type), कॉन्फ़िगरेशन(configuration) और उनके प्रतिक्रिया मोड(response modes) के आधार पर characterized किया जाता है|

  • 44. Point to point protocol का क्या मतलब है?

    पॉइंट टू पॉइंट प्रोटोकॉल को उन उपयोगकर्ताओं के लिए एक समर्पित लाइन(dedicated line) प्रदान करने के लिए डिज़ाइन किया गया था, जिन्हें telephone line या cable TV connection के माध्यम से internet access की आवश्यकता होती है। ये कनेक्शन निम्न चरणों से गुजरता है: idle, establishing, authenticating, networking और terminating|

  • 45. Point to point protocol stack का क्या मतलब है?

    Point to point protocol  link का उपयोग करने के लिए, शामिल पार्टियों को प्रमाणित (authenticate) करने और नेटवर्क लेयर तक data को ले जानेके लिए  अन्य protocol के एक stack का उपयोग करता है, protocol के तीन set परिभाषित किए गए हैं: link control protocol, Authentication protocol और network control protocol.

  • 46. Line control protocol से आपका क्या तात्पर्य है?

    यह link की स्थापना(establishment), रखरखाव(maintaining), विन्यास(configuring) और समाप्ति(terminating) के लिए जिम्मेदार है।

  • 47. Authentication protocol से आपका क्या तात्पर्य है?

    Authentication का अर्थ उस उपयोगकर्ता की पहचान को मान्य करना है जिसे resources के एक set  तक पहुँचने की आवश्यकता है।

    यह 2 प्रकार का होता है

    1. Password Authentication Protocol(PAP)
    2. Challenge Handshake Authentication Protocol(CHAP)

    PAP दो चरणों वाली process है। उपयोगकर्ता एक authentication identification और password भेजता है। system भेजी गई सूचना की validity को निर्धारित करता है ।CHAP तीन चरण की process है। system उपयोगकर्ता को एक value भेजता है। उपयोगकर्ता value को manipulate करता है और परिणाम(result) भेजता है। system परिणाम का सत्यापन करता है।

  • 48. Network control protocol से आपका क्या तात्पर्य है?

    Network control protocol नेटवर्क लेयर से आने वाले data को encapsulation की अनुमति देने के लिए प्रोटोकॉल का एक सेट है जिसे PPP की सेवाओं(services) की आवश्यकता होती है।

  • 49. CSMA से आपका क्या अभिप्राय है?

    टक्कर (collision) की संभावना को कम करने के लिए CSMA method विकसित की गई थी। CSMA में प्रत्येक station  data को भेजने से पहले पहले medium को सुनता (या माध्यम की स्थिति की जाँच करें) है। यह टकराव(collision) को समाप्त नहीं कर सकता।

  • 50. Bluetooth से आपका क्या तात्पर्य है?

    यह एक wireless LAN technology है, जिसे टेलीफोन, नोटबुक, कंप्यूटर, कैमरा, प्रिंटर आदि से कनेक्ट करने के लिए डिज़ाइन किया गया है। Bluetooth LAN एक adhoc network है| यह IEEE 802.15 standard द्वारा परिभाषित protocol का कार्यान्वयन(implementation) है।

  • 51. IP address क्या है?

    Internet address (IP address) 32 bit address है जो विशिष्ट रूप से (uniquely) और सार्वभौमिक रूप से (universally) इंटरनेट पर host या router को परिभाषित करता है।

    नेटवर्क को पहचानने वाले IP address के हिस्से को netid कहा जाता है। IP address का वह भाग जो नेटवर्क पर होस्ट या राउटर की पहचान करता है, hostid कहलाता है।

  • 52. Subnetting से आपका क्या तात्पर्य है?

    Subnetting एक बड़े नेटवर्क को कई छोटे नेटवर्को र्में विभाजित करता है। IP addressing में पदानुक्रम(hierarchy) का एक मध्यवर्ती स्तर(intermediate level) जोड़ता है।

  • 53. Fiber optics cable के क्या फायदे हैं?

    Fiber optics cable के फायदे है:-

    • शोर प्रतिरोध (Noise resistance) -क्योंकि ये प्रकाश(light) का उपयोग करते हैं इसलिए बाहरी शोर का कोई प्रभाव नहीं पड़ता ।
    • Less signal attenuation - Fiber optics की data को transmit करने की दूरी अन्य निर्देशित मीडिया की तुलना में काफी अधिक है।
    • उच्च बैंडविड्थ (Higher bandwidth)- Fiber optics उच्च बैंडविड्थ(higher bandwidth) का समर्थन कर सकता है।

  • 54. Fiber optics cable के नुकसान क्या हैं?

    Fiber optics cable के नुकसान हैं:-

    • लागत (Cost) - Fiber optics cable की स्थापना / रखरखाव(Installation/maintenance) काफी महंगी है|
    • नाजुकता (Fragility) - Fiber optics cable अधिक नाजुक है।

  • 55. रेडियो तरंग (radio wave) का प्रसार प्रकार (propagation type) क्या हैं?

    रेडियो तरंग प्रसार(Radio wave propagation) आवृत्ति पर निर्भर करता है। यह पाँच प्रकार का होता हैं।

    1. सतह प्रसार (surface propagation)
    2. ट्रोपोस्फेरिक प्रसार (Tropospheric propagation)
    3. आयनोस्फेरिक प्रसार (Ionospheric propagation)
    4. दृष्टि प्रसार की रेखा (Line of sight propagation)
    5. अंतरिक्ष प्रसार (space propagation)

  • 56. जियोसिंक्रोनस सैटेलाइट्स (Geosynchronous Satellites) से आपका क्या तात्पर्य है?

    Satellite communication सिग्नलों को रिले करने के लिए जियोसिंक्रोनस ऑर्बिट में एक उपग्रह (Satellite) का उपयोग करता है। Satellite को पृथ्वी के समान गति से चलना चाहिए ताकि यह एक निश्चित स्थान(certain spot) के ऊपर स्थिर रहे ।.. केवल एक कक्षा भू-समकालिक हो सकती है। यह कक्षा(orbit) भूमध्य रेखा पर (geosynchronous) होती है और पृथ्वी की सतह से लगभग 22,000 मील की दूरी पर होती है|

  • 57. Media की उपयुक्तता(suitability) के मूल्यांकन के कारक क्या हैं?

    Media की उपयुक्तता(suitability) के मूल्यांकन के कारक है:-cost, throughput, attenuation, Electromagnetic  interference (EMI), security.

  • 58. आप medium access control (MAC) से आप क्या समझते है।

    Multi-Access channel पर आगे कौनसा frame जाना है, यह निर्धारित करने के लिए उपयोग किए जाने वाले protocol, data link layer के एक उप-परत (sublayer) से संबंधित होते हैं, जिसे multi-access channel (MAC) उप-परत (sublayer) कहा जाता है। यह data link layer का एक छोटा हिस्सा है।

  • 59. आप ALOHA से क्या समझते है?

    यह चैनल आवंटन समस्या (channel allocation problem) को हल करने के लिए प्रयोग किया जाता है। इसका उपयोग निम्न कार्यो के लिए किया जाता है:

    1. ग्राउंड आधारित रेडियो प्रसारण (ground based radio broadcasting)
    2. एक ऐसे नेटवर्क में जिसमें एक चैनल के उपयोग के लिए असंगठित उपयोगकर्ता प्रतिस्पर्धा कर रहे हो।

    यह 2 प्रकार का होता है:

    1. Pure aloha
    2. Slotted aloha

  • 60. Pure aloha क्या है?

    यह उपयोगकर्ताओं को data को transmit करने की सुविधा देता है। Collision हो सकता है, लेकिन feedback property के कारण प्रेषक (sender) संदेश की स्थिति जान सकते हैं। एक समय में अधिक बिट्स के प्रेषित (transmit) होने पर conflict उत्पन्न हो सकते हैं।

    इससे सम्बंधित कुछ मान्यताएँ (assumptions) हैं:

    1. सभी frame का आकार सभी उपयोगकर्ता के लिए समान होता है।
    2. टकराव (collision) तब होता है जब फ्रेम एक साथ प्रेषित होते हैं|
    3. उपयोगकर्ताओ  की अनिश्चित जनसंख्या(indefinite population)।
    4. N=number of frames/frame time
    5. यह poisson’s distribution का पालन करता है यदि N> 1 में टकराव (collision) होगा 0 <1

  • 61. Slotted ALOHA क्या है?

    इस पद्धति में समय को असतत अंतराल (discrete intervals) में विभाजित किया जाता है, प्रत्येक अंतराल (interval) एक frame के अनुरूप होता है। इसके लिए उपयोगकर्ता को स्लॉट (slot) सीमाओं के अनुसार कार्य करने की आवश्यकता होती है। इसमें किसी भी समय data भेजने के बजाय इसमें अगले slot की शुरुआत के लिए प्रतीक्षा की जाती है।

  • 62. आप persistent CSMA से क्या समझते हैं (carrier sense multiple access)?

    जब किसी station के पास भेजने के लिए frame होता है, तो यह पहले channel को यह देखने के लिए सुनता है कि क्या कोई अन्य व्यक्ति उस समय frame को प्रसारित (transmit) कर रहा है। यदि channel व्यस्त(busy) रहता है तो यह   इंतजार करता है। इसके अलावा जब टकराव (collision) होता है तो यह प्रतीक्षा करता है और फिर frame को send करता है। यह channel के निष्क्रिय (idle) होने पर संभावना (probability) 1 के साथ frame भेजता है।

  • 63. Non persistent CSMA (carrier sense multiple access) से आपका क्या तात्पर्य है?

    यहां यदि कोई station frame नहीं भेज रहा है तो एक station खुद ही frame भेजना करना शुरू कर देता है। यदि कोई channel  पहले से ही उपयोग में होता है, तो station लगातार इसे sense नहीं कर पाता, बल्कि यह यादृच्छिक समय (random period)  की प्रतीक्षा करता है और फिर send करता है। यह channel का बेहतर उपयोग करता है,लेकिन इसमें delay अधिक होता है|

  • 64. Persistent CSMA(carrier sense multiple access) से आपका क्या तात्पर्य है?

    यह slotted चैनलों पर लागू होता है। जब कोई station frame भेजने के लिए तैयार हो जाता है, तो यह channel को senses करता है। यदि यह idle  होता है तो यह probability P के साथ, probability Q = P-1 के साथ transmit होता है।

    यह अगले slot तक defer करता है। यदि वह slot भी idle है, तो frame या तो ट्रांसमिट हो जाता है या probability P और Q के साथ खराब हो जाता है। यह प्रक्रिया तब तक दोहराई जाती है जब तक या तो frame ट्रांसमिट नहीं हो जाता है या कोई दूसरा station frame transmit  करने लगता है।

  • 65. FDDI क्या है?

    यह 1000 स्टेशनों से भी अधिक दूरी पर 100Mbps पर चलने वाला high performance fiber optic token ring LAN है। FDDI में होने वाली data accessing एक समय तक सीमित होती है। FDDI cabling दो fiber rings से मिलकर बनी होती हैं।

    1. एक दक्षिणावर्त संचारण (one transmitting clockwise)
    2. एक संचारण वामावर्त (one transmitting counterclockwise)

  • 66. Firewalls क्या है?

    यह एक electronic downbridge है जिसका उपयोग network  की सुरक्षा बढ़ाने के लिए किया जाता है। इसके विन्यास (configuration) के दो घटक (components) हैं।

    1. दो राउटर (routers)
    2. आवेदन गेटवे (Application gateway)

    LAN के माध्यम से यात्रा करने वाले पैकेटों का यहां निरीक्षण किया जाता है और कुछ मानदंडों (criteria) को पूरा करने वाले पैकेटों को forwarded किया जाता है और अन्य को drop कर दिया जाता है।

  • 67. Repeaters क्या है?

    Repeater signal  के कमजोर या corrupted होने से पहले signal  को receive करता है, यह original bit pattern को पुन: बनाता है, और refreshed copy  को link पर वापस डालता है। यह OSI model की physical layer पर संचालित होता है।

  • 68. Bridges क्या है?

    ये बड़े नेटवर्क को छोटे घटकों(components) में विभाजित करते हैं। ये दो अलग हुए LAN के बीच frame को relay कर सकते हैं। ये partitioning traffic के माध्यम से सुरक्षा(security) प्रदान करते हैं। ये OSI मॉडल के physical and data link layer पर काम करते हैं।

  • 69. Routers क्या है?

    Router कई interconnected नेटवर्कों के बीच पैकेटो को relay करता है। ये connected network से पैकेट प्राप्त करते हैं और इसे दूसरे नेटवर्क पर भेजते हैं। इनके पास नेटवर्क लेयर एड्रेस और कुछ सॉफ्टवेयर होते हैं जो उन्हें यह निर्धारित करने में सक्षम करते हैं कि कई रास्तों में से ट्रांसमिशन के लिए कौन सा रास्ता सबसे अच्छा है। OSI मॉडल के physical, data link and network layer पर ये काम करते हैं।

  • 70. Gateway क्या है?

    यह एक प्रोटोकॉल कनवर्टर है। Gateway किसी प्रोटोकॉल के लिए एक पैकेट को स्वरूपित स्वीकार कर सकता है और इसे एक अन्य प्रोटोकॉल के लिए प्रारूपित पैकेट में बदल सकता है। यह OSI model की सभी सात परतों पर संचालित होता है।

  • 71. Data Terminal Equipment (DTE) से आपका क्या तात्पर्य है?

    यह एक उपकरण(device) है जो binary digital data का source या destination स्रोत है। phycal layer पर यह एक terminal computer हो सकता है। ये जानकारी को उत्पन्न(generate) कर सकते है और जानकारी का उपभोग भी कर सकते हैं।

  • 72. Data Circuit terminating Equipment (DCE) से आपका क्या तात्पर्य है?

    Data Circuit terminating Equipment (DCE) में कोई भी कार्यात्मक इकाई (functional unit) शामिल होती है जो किसी network के माध्यम से एनालॉग या डिजिटल सिग्नल के रूप में data को transmit या receives करती है। DTE digital data उत्पन्न (generate) करता है और उन्हें DCE में पास करता है, DCE data को transmission media द्वारा  स्वीकार्य रूप (acceptable form) में परिवर्तित करता है। transmission media परिवर्तित संकेत (converted signal) को दूसरे DCE को नेटवर्क पर भेजता है।

  • 73. Protocol stack का क्या मतलब है?

    किसी system द्वारा प्रयुक्त प्रोटोकॉल की सूची(list), प्रति परत एक प्रोटोकॉल (one protocol per layer) को प्रोटोकॉल स्टैक कहा जाता है।

  • 74. Peer से आपका क्या मतलब है?

    विभिन्न मशीनों पर संबंधित परतों (layers) को समाहित (comprising) करने वाली Entities को peer कहा जाता है।  peer हो सकते है:-

    • Hardware device.
    • Processes
    • Human being

    peers protocol का उपयोग करके communicate करते हैं।

  • 75. Broadcasting से आपका क्या तात्पर्य है?

    Broadcast system एड्रेस फील्ड के एक विशेष कोड का उपयोग करके packet को उसके सभी गंतव्य(destination)  तक transmit करने की अनुमति देता है। जब पैकेट को transmit किया जाता है तो उसे network पर प्रत्येक मशीन द्वारा प्राप्त(received) और processed किया जाता है।

  • 76. Broadcast network के क्या फायदे हैं?

    • इसकी सहायता से एक एकल संचार चैनल(single communication channel) पर सभी कंप्यूटरों द्वारा साझा किया जा सकता है।
    • Packets सभी कंप्यूटर द्वारा प्रेषित और प्राप्त(transmit and receive) किए जाते हैं।
    • Multicasting का उपयोग नेटवर्क में किया जाता है।

  • 77. Point To Point network से आपका क्या तात्पर्य है?

    Point To Point network में मशीनों के बीच कई कनेक्शन होते हैं। बड़े network Point To Point network का उपयोग करते हैं। Routing algorithm Point To Point network में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। यह store and forword तकनीक का उपयोग करता है। यह एक packet switching network है।

  • 78. Layers के design issue क्या हैं?

    layers के design issue है:-

    Addressing technique इसमें source और destination address शामिल होते है|

    • संचार के प्रकार (Types of communication)
    • त्रुटि नियंत्रण (Error control)
    • संदेश का क्रम (Order of message)
    • गति मिलान (Speed matching)
    • मल्टीप्लेक्सिंग और डीमुल्टिप्लेक्सिंग (Multiplexing and demultiplexing)

  • 79. Application layer के protocol कोन-कोन से हैं?

    Application layer के protocol हैं:-

    • TELNET
    • FTP
    • SMTP
    • DNS

  • 80. Transport layer के protocol कोन-कोनसे हैं?

    Transport layer के protocol है :-

    • TCP
    • UDP

  • 81. TCP को परिभाषित करे|

    यह एक connection oriented protocol है। इसमें एक machine पर byte streams होती हैं, जो network में किसी भी मशीन पर बिना किसी error के deliver की जा सकती हैं। transmitting के दौरन यह stream को discrete messages में fragments करता है और internal layer को pass करता है, destination पर message को output stream में reassembles करता है|

  • 82. UDP को परिभाषित करे|

    यह एक अविश्वसनीय कनेक्शन रहित प्रोटोकॉल (unreliable connectionless protocol) है। इसका उपयोग one-shot, client-server type, request-reply queries और applications के लिए किया जाता है जिसमें सटीकता (accuracy) के बजाय शीघ्र वितरण (prompt delivery) की आवश्यकता होती है।

  • 83. IP को परिभाषित करे?

    Internetwork protocol  (IP), TCP/IP protocol द्वारा उपयोग किया जाने वाला ट्रांसमिशन तंत्र (transmission mechanism) है। यह एक अविश्वसनीय और कनेक्शन रहित डेटाग्राम प्रोटोकॉल (unreliable and connectionless datagram protocol) है। यह त्रुटि जाँच और ट्रैकिंग (error checking and tracking) प्रदान करता है।

  • 84. Client server model से आपका क्या तात्पर्य है?

    Client server model में, client request करने के लिए एक program run करता  है और server service प्रदान करने के लिए एक program run करता है। दो program एक दूसरे के साथ communicate करते हैं। एक server program कई client programs को services प्रदान कर सकता है।

  • 85. TCP/IP इंटरनेट से जुड़े प्रत्येक कंप्यूटर के पास क्या जानकारी होनी चाहिए?

    TCP/IP से जुड़े प्रत्येक कंप्यूटर में निम्नलिखित जानकारी होनी चाहिए-

    • कंप्यूटर का IP addesss
    • कंप्यूटर का subnet mask
    • Router का IP addesss
    • Server का IP addesss

  • 86. Domain Name System (DNS) क्या है?

    Domain Name System (DNS) एक client server application है जो इंटरनेट पर प्रत्येक host को एक unique user friendly name से पहचानता है।

  • 87. TELNET क्या है?

    TELNET एक client –server application है जो उपयोगकर्ता को remote system पर log on करने की अनुमति देता है, जिससे उपयोगकर्ता remote system को access कर सकता है। TELNET Terminal Network का एक संक्षिप्त नाम है।

  • 88. Local login और remote login से आपका क्या तात्पर्य है?

    जब कोई उपयोगकर्ता local time-sharing system में log in  करता है, तो उसे local login कहा जाता है। जब कोई उपयोगकर्ता किसी remote machine पर स्थित application program को access करना चाहता है, तो वह remote login करता है।

  • 89. Network Virtual Terminal क्या है?

    TELNET द्वारा प्रदान किया गया एक सार्वभौमिक इंटरफ़ेस (universal interface) Network Virtual Terminal  (NVT) character set कहलाता है। इस इंटरफ़ेस से TELNET characters  (data or command) का अनुवाद ( करता है जो स्थानीय टर्मिनल (local terminal) से NVT के रूप में आते हैं और उन्हें network पर deliver करते हैं।

  • 90. Simple Mail Transfer Protocol का क्या अर्थ है?

     इंटरनेट पर Electronic mail का समर्थन करने वाले TCP/IP protocol को Simple Mail Transfer Protocol कहा जाता है। SMTP एक ही या अलग-अलग कंप्यूटर पर उपयोगकर्ताओं के बीच mail exchange की सुबिधा प्रदान करता है और एक या एक से अधिक प्राप्तकर्ता (recipient) को संदेश भेजने का समर्थन करता है संदेश  में text, voice,video,और graphics शामिल हो सकते है। इंटरनेट के बाहर के नेटवर्क पर उपयोगकर्ताओं के लिए संदेश भेजने की सुबिधा भी प्रदान करता है|

  • 91. Hypertext Transfer Protocol (HTTP) क्या है?

    यह World Wide Web पर data access करने के लिए उपयोग किया जाने वाला मुख्य protocol  है। यह protocol  सादे टेक्स्ट, हाइपरटेक्स्ट, ऑडियो, वीडियो, (plain text, hypertext, audio, video) आदि के रूप में data transfer करता है।

  • 92. URL क्या है?

    यह World Wide Web पर किसी भी प्रकार की जानकारी को निर्दिष्ट (specify) करने के लिए एक मानक (standard) है।

  • 93. World Wide Web क्या है?

    World Wide Web पूरी दुनिया में फैली सूचनाओं का भंडार (repository) है, जिसे एक साथ जोड़ा जाता है या link किया जाता है| यह लचीलापन (flexibility), पोर्टेबिलिटी (portability) और user-friendly सुविधाओं का एक अनूठा संयोजन (unique combination) है। World Wide Web आज एक वितरित (distributed) client-server service है, जिसमें एक browser का उपयोग करने वाला client  server का उपयोग करके किसी भी service को access कर सकता है।

  • 94. HTML क्या है?

    Hypertext Markup Language (HTML) static web pages बनाने के लिए एक भाषा है|

Related Notes

    Subject Wise Notes

    error: Content is protected !!