Category - सी++ प्रोग्रामिंग

C++ एक मध्यम स्तरीय प्रोग्रामिंग भाषा (Medium Level Programming Language) है। जिसे 1980 की शुरुआत में बेल लेबोरेटरीज में किया गया, सी + + प्रोग्रामिंग भाषा का विकास बजर्नी स्त्रौस्त्रूप(Bjarne Stroustrup) ने किया था। यह प्रोग्रामिंग लैंग्वेज ‘C प्रोग्रामिंग भाषा‘ (C Programming Language) पर आधारित है। यह पहले से उपलब्ध C प्रोग्रामिंग भाषा का एक उन्नत रूप है, जिसे हम C ++ प्रोग्रामिंग भाषा के रूप में जानते है।
नीचे सी++ प्रोग्रामिंग से सम्बंधित नोट्स दिए गए हैं हम आशा करते हैं की आपको हमारे द्वारा दी गई जानकारी पसंद आयेगी|


सी++ प्रोग्रामिंग

पॉइंटर्स क्या है?

पॉइंटर एक विशेष प्रकार का वेरिएबल होता है, जिसका उपयोग दूसरे वेरिएबल या ऑब्जेक्ट के एड्रेस को स्टोर करने के लिए किया जाता है। Pointer Variable Address को...

सी प्रोग्रामिंग सी++ प्रोग्रामिंग

लाइब्रेरी फाइल एवं बिल्ट-इन-फंक्शन

लाइब्रेरी फाइल एवं बिल्ट-इन-फंक्शन (Library files and In-Built Functions) ‘सी’ प्रोग्रामिंग भाषा में दो प्रकार के फंक्शन प्रयोग किए जाते हैं। प्रथम...

सी++ प्रोग्रामिंग

C++ प्रोग्रामिंग में मेमोरी मैनेजमेंट ऑपरेटर

C++ प्रोग्रामिंग में मेमोरी मैनेजमेंट ऑपरेटर Dynamic Memory Allocation जब हम C++ प्रोग्राम में कोई भी वेरिएबल डिक्लेअर करते हैं तो प्रोग्राम एक्सीक्यूट होने के...

सी प्रोग्रामिंग सी++ प्रोग्रामिंग

प्रोग्राम का कंपाइलेशन और एग्जीक्यूशन

किसी भी Language में Program को Type करने के बाद उसमें लिखे गये Instruction को Computer के समझने योग्‍य बनाने के लिये उसे मशीनी Language में Convert (बदलना)...

सी प्रोग्रामिंग सी++ प्रोग्रामिंग

Data Type in C and C++

जब भी हम किसी भी प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में कोई प्रोग्राम बनाते हैं और उस प्रोग्राम में हमें कोई वैल्यू यूजर से लेकर स्टोर करनी होती है तो उसे में वेरिएबल में...