DDR2 and DDR 3 Image
अंतर कंप्यूटर फंडामेंटल्स

DDR2 और DDR3 में अंतर

DDR2 और DDR3 में अंतर (Difference between DDR2 and DDR3)

DDR 2, DDR 3, DDR रेम मेमोरी के नये वर्जन है | जिसमे DDR3 एक ज्यादा एडवांस्ड वर्जन है यह उच्च डेटा ट्रांसफर गति, कम बिजली की खपत, मेमोरी रीसेट विकल्प, अधिक मेमोरी, जैसी अधिक क्षमताओं के साथ उपस्थित होता है। DDR 2 और DDR 3 में मुख्य अंतर डाटा रेट का होता है जहाँ पर DDR 3 DDR 2 की तुलना में दो गुना ज्यादा गति प्रदान करता है | 

टेक्नोलॉजी की गति के साथ, मेमोरी को और तेज बनाने के लिए कई वर्जन विकसित किये गये जिसमे से DDR एक नया वर्जन है | पिन से चिप में बिट ट्रांसफर करने की गति को बढ़ाने के लिए कई तकनीकों का उपयोग किया जाता है। प्रभावी ढंग से घड़ी की गति का उपयोग किया जाता है जिससे डेटा बाहरी रूप से घड़ी के बढ़ते और गिरने वाले एज पर data का transfer करना होता है, यही कारण है कि इन मेमोरी को डबल डेटा रेट मेमोरी के रूप में जाना जाता है।

 

इस पोस्ट में आप जानेंगें-
  1. DDR 2 और DDR 3 का तुलना चार्ट
  2. DDR 2 और DDR 3 की परिभाषा
  3. DDR 2 और DDR 3  में महत्वपूर्ण अंतर
  4. निष्कर्ष

1. DDR 2 और DDR 3 का तुलना चार्ट

तुलना के आधार

DDR2

DDR3

घड़ी की आवृत्ति

 

400 – 800 Mhz 800 – 1600 Mhz
ट्रांसफर डाटा रेट 400 – 800 Mbps 800 – 1600 Mbps
वोल्टेज 1.8 volts 1.5 volts
बिट चौड़ाई की जरुरत 4 bit 8 bit
मेमोरी रीसेट ऑप्शन इसमें कोई प्रावधान नहीं है इसमें प्रावधान है
बिजली की खपत अधिक कम
गति कम अधिक
विलंब 2 – 5 7 – 11
प्रदर्शन DDR3 से बेहतर है मीडियम
कीमत कम  अधिक 

2. DDR2 की परिभाषा 

DDR 2  DDR (डबल डेटा रेट) मेमोरी का दूसरा वर्जन है । रैम के इन संस्करणों को ब्लॉक-ट्रांसफरिंग के लिए एक उच्च डाटा रेट प्राप्त करने के लिए विकसित किया गया था। यह 400 से 1066 मेगाहर्ट्ज की घड़ी रेट पर डेटा ट्रांसफर कर सकता है। DDR 2 वर्जन DDR का उत्तराधिकारी होता है जहां रैम चिप और प्रीफैच बफर ( Prefetch buffer ) के बीच परिचालन आवृत्ति (operational frequency) पर मुख्य परिवर्तन लागू होता है और दोनों मापदंडों (Parameters) की मात्रा में वृद्धि की जाती है । प्रीफ़ैच बफर एक 4 बिट मेमोरी कैश है जो DDR 2 की रैम चिप में रहती है । बफर का प्रयोग रैम चिप में किया जाता है |

DDR 2  एक 240 पिन DIMM (डुअल इन-लाइन मेमोरी मॉड्यूल) आर्किटेक्चर है जो 1.8 वोल्ट पर संचालित होता है। ये DIMM मदरबोर्ड के एक सिंगल बोर्ड में एक या एक से अधिक रैम चिप में बने हुये होते है| DDR2 के वोल्टेज की गर्मी के प्रभाव को खत्म करने के लिए इसकी एंटीकेडेंट DDR तकनीक के द्वारा कम किया जाता है। DDR DIMM डिजाइन के 144 पिन और 2.4 वोल्ट के वोल्टेज पर कार्य करता है । DDR 2 और DDR  के बीच कोई अनुकूल नहीं होता है , क्योंकि दोनों अलग-अलग मदरबोर्ड सॉकेट और DIMM  कुंजी का उपयोग करते हैं।

DDR3 की परिभाषा 

DDR 3, DDR 2 का एडवांस्ड वर्जन है जिसने प्रीफ़ेच बफर को 8 बिट तक बढ़ा दिया है और ऑपरेटिंग आवृत्ति 1600 Mzz तक कर दी गई है। हालांकि, बिजली की मात्रा 1.5 वोल्ट तक कम हो गई है जो उच्च आवृत्ति के हीटिंग प्रभाव को भी कम करती है । DDR 3 के पिन आर्किटेक्चर में 240 पिन भी हैं, लेकिन इन्हें DDR 2 के मदरबोर्ड रैम में उपयोग नहीं किया जा सकता है क्योकि ये अलग-अलग नोट किये हुए होते है |

DDR 3 में एक यूनिक ऑप्शन उपलब्ध होता है जो सॉफ्टवेयर रिसेट एक्शन के द्वारा मेमोरी को क्लियर करता है | मेमोरी रीसेट विकल्प यह सुनिश्चित करता है कि सिस्टम को रिबूट करने के बाद मेमोरी को खाली किया जाए ।

3. DDR 2 और DDR 3  में महत्वपूर्ण अंतर

  • DDR 2 मेमोरी 400 से 800 मेगाहर्ट्ज की सीमा पर काम करती हैं और 800 एमबीपीएस तक डेटा रेट्स को उत्पन्न करती हैं । इसके विपरीत ,  DDR 3  800 से 1600 मेगाहर्ट्ज घड़ी की आवृत्ति पर संचालित होता है और 1600 एमबीपीएस की स्पीड तक डेटा ट्रांसफर करता है ।
  • DDR 2 अधिक बिजली की खपत करता है क्योंकि इसकी पूर्ति के लिए 1.8 वोल्ट की आवश्यकता होती है | इसके विपरीत, DDR 3 की पूर्ति के लिए 1.5 वोल्ट की आवश्यकता होती है जो DDR 2 से कम है और यह उच्च आवृत्ति के कारण उत्पन्न होने वाले हीटिंग प्रभाव को भी काफी कम कर देता है।
  • DDR 2 में प्रीफ़ैच बफ़र 4-बिट आकार का होता है जबकि DDR 3 में यह 8-बिट का होता है।
  • मेमोरी रीसेट ऑप्शन DDR3 में उपलब्ध हैं लेकिन DDR2 में यह उपलब्ध नहीं होता है ।
  • DDR 3, DDR 2 की तुलना में अपेक्षाकृत अधिक तेज़ है।
  • DDR 3, DDR 2 की तुलना में महंगा होता है।

निष्कर्ष

DDR 2 पहले का वर्जन है और एक पुरानी तकनीक है, और DDR 3  DDR  के बाद का वर्जन है जहां DDR 3 में कई सुधार किये गये है और यह अधिक सुविधाएँ प्रदान करता है जैसे कि स्टोरेज स्पेस, कम बिजली की खपत, तेज घड़ी की गति, सिस्टम में लचीलापन आदि।

Subject Wise Notes

error: Content is protected !!