एम् एस एक्सेस 2013

एमएस एक्सेस 2013 में कण्ट्रोल टूल्स का प्रयोग कैसे करें

एमएस एक्सेस 2013 में कण्ट्रोल टूल्स का प्रयोग कैसे करें
(How to Use Control tools in MS Access 2013 )

Control किसी फॉर्म या रिपोर्ट के भाग होते हैं जिनका उपयोग आप डेटा दर्ज करने, संपादित करने या प्रदर्शित करने के लिए करते हैं। Control आपको अपने डेटाबेस एप्लिकेशन में डेटा के साथ देखने और काम करने देता है। सबसे अधिक बार उपयोग किया जाने वाला Control Text Box होता है, लेकिन अन्य नियंत्रणों में कमांड बटन, लेबल, चेक बॉक्स और सबफ़ॉर्म / सब रिपोर्ट Control शामिल होते हैं। विभिन्न प्रकार के Control हैं जो आप बना सकते हैं, लेकिन इनमें से सभी दो श्रेणियों में उपलध हैं Bound और Unbound 

Bound Controls

  • बाउंड नियंत्रण वे हैं जो आपके डेटाबेस के भीतर एक विशिष्ट डेटा स्रोत से जुड़े होते हैं जैसे फ़ील्ड और टेबल या क्वेरी।
  • टेक्स्ट, तिथियां, संख्या, चेक बॉक्स, चित्र या यहां तक ​​कि ग्राफ भी हो सकते हैं।
  • आप अपने डेटाबेस में फ़ील्ड से आने वाले मान प्रदर्शित करने के लिए बाउंड कण्ट्रोल का उपयोग करते हैं। 

Unbound Controls

  • दूसरी तरफ अनबाउंड नियंत्रण डेटा स्रोत से बंधे नहीं हैं, और वे केवल फॉर्म में ही मौजूद हैं।
  • ये टेक्स्ट, चित्र या आकार जैसे रेखाएं या आयत हो सकते हैं।

MS Access 2013 में कई प्रकार के tools होते है। जिन tools का प्रयोग करना है उसको सिलेक्ट करते है। इसके बाद फॉर्म मे जहाँ पर रखना होता है वहाँ पर क्लिक करते है। तो वह टूल वहाँ पर सेट हो जाता है।

1. Select Object-

इस टूल का प्रयोग object को सिलेक्ट करने के लिये किया जाता है। इससे किसी भी object को फॉर्म एवं रिपोर्ट मे एक स्थान से दूसरे स्थान पर move किया जा सकता है एवं object को सिलेक्ट करके उसकी properties में editing की जाती है।

2. Text box-

इस Tool मे text को टाईप किया जा सकता है। इसकी सहायता से टेबिल के फील्ड मे डाटा को जोडा जाता है। जैसे Name, Father name आदि।

3. label-

यह टूल दूसरे टूल के लिये label का कार्य करता है। इससे उस फील्ड की पहचान होती है,कि उस टूल का क्या प्रयोग है। इसमे रन टाईम text को टाईप नही किया जा सकता है। डिजाइन टाईम में ही इसमे property को सेट किया जाता है।

4. Option Button-

इस button को radio button भी कहा जाता है। इसका प्रयोग तब किया जाता है जब दो या दो से अधिक ऑप्शन मे से किसी एक को चुनना होता है। जैसे Male या Female, Yes या No, कौन से कोर्स मे प्रवेश लिया आदि।

How to Use Option Button

5. Check Box-

इसका प्रयोग तब किया जाता है। जब कई option को चुनना होता है।

How to Use Check box

6. Command Button-

इस टूल का प्रयोग फॉर्म or report मे निर्देश देने के लिए किया जाता है। जैसे Add record, delete record, next record, previous, first and last, ok cancel आदि buttons का निर्माण इसी से होता है।

7. Line-

इसकी सहायता से फॉर्म या रिपोर्ट मे लाईन को खीचा जा सकता है। जिससे फार्म या रिपोर्ट को सुन्दर बनाया जा सकता है। या एक समान फील्ड को अलग किया जा सकता है।

8. Rectangle-

इससे फॉर्म या रिपोर्ट मे Rectangle बनाया जा सकता है। जिससे फॉर्म या रिपोर्ट सुन्दर दिखने लगती है।

9. Option group-

इससे कई टूल का group बनाया जा सकता है। जिससे इनको एक स्थान से दूसरे स्थान पर आसानी से मूव किया जा सकता है। इससे फॉर्म या report को सुन्दर बनाया जा सकता है। option group से एक समान फील्ड का ग्रुप बनाया जा सकता है। जिससे इसे फीड करने मे समस्या नही होती है। इसमे विजार्ड आता है।

  • इसके पहले डायलॉग बॉक्स जिसमे ऑप्शन के लेबिल टाईप करते है।
  • दूसरे डायलॉग बॉक्स मे किस ऑप्शन को डिफाल्ट करना है इसको चुनते है।
  • तीसरे डायलॉग बॉक्स मे उसकी value सेट करते है।
  • चौथे डायलॉग बॉक्स मे यह चुनते है। कि उसको टेबिल के किस फील्ड से जोडना है।
  • पांचवे डायलॉग बॉक्स मे उसकी स्टाईल को चुनते है। और यह भी सिलेक्ट करते है। कि ऑप्शन के तौर पर किसका प्रयोग करना है। option/check/ toggle button

10. Combo Box-

इसमे लिस्ट आईटम को जोडा जाता है। यह कम जगह का प्रयोग करता है। इसका प्रयोग तब किया जाता है। जब लिस्ट में से किसी एक आईटम को चुनना है। जब इस टूल को फार्म या रिर्पोट पर प्रयोग करते है। तो विजार्ड स्टार्ट हो जाता है।

How to Use Combo box in MS Access 2013

11. list Box-

लिस्ट बाक्स मे आईटम लिस्ट रूप मे प्रदर्शित होते है। इसको भी combo box की तरह सेट किया जाता है।

12. Bound Object Frame-

इसमे उस फील्ड को जोडते है। जिसमे object को जोडा जाता है। जैसे photo आदि। इसमे object को insert किया जाता है।