लिनक्स

लिनक्स की विशेषताये

लिनक्स क्या हैं? (What is Linux?)

Linux एक Multi Operating System है, जो Intel 80386 पर्सनल कम्न्यूटर पर उपयोग करने के लिए डिजाइन किया गया। लाइनक्स के विकास की शुरूआत 1960 के दशक में हुई। सन् 1968 में AT & T बेल प्रयोगशाला के शोधकर्ताओं ने संयुक्त प्रयत्न से एक ऑपरेटिंग सिस्टम बनाया जिसे MULTICS ( Multiplexed Information Computer System कहा गया, इसके बाद 1969 में UNIX का विकास किया गया। Linux का विकास UNIX से ही हुआ है। लाइनक्स का विकास टोरवैल्ड ने किया | सन् 1991 में इसका पहला वर्जन 0.11 रिलीज किया गया। Linux का  Graphical interface, X window System पर आधारित है |

लिनक्स UNIX ऑपरेटिंग सिस्टम के लोकप्रिय वर्जन में से एक है। यह एक ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर है क्योंकि इसका सोर्स कोड स्वतंत्र रूप से उपलब्ध है। यह उपयोग करने के लिए स्वतंत्र है। लिनक्स को UNIX संगतता को देखते हुए डिजाइन किया गया था। इसकी कार्यक्षमता सूची UNIX से काफी मिलती-जुलती है।

लिनक्स सिस्टम के घटक (Components of Linux)

लिनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम में मुख्य रूप से तीन घटक होते हैं

कर्नेल – कर्नेल लिनक्स का मुख्य भाग है। यह इस ऑपरेटिंग सिस्टम की सभी प्रमुख गतिविधियों के लिए जिम्मेदार है। इसमें विभिन्न मॉड्यूल शामिल हैं और यह अंतर्निहित हार्डवेयर के साथ सीधे इंटरैक्ट करता है। कर्नेल सिस्टम या एप्लिकेशन प्रोग्राम में निम्न स्तर के हार्डवेयर विवरण को छिपाने के लिए आवश्यक अमूर्तता प्रदान करता है।

सिस्टम लाइब्रेरी – सिस्टम लाइब्रेरी लिनक्स का विशेष कार्य या प्रोग्राम हैं, जिनके उपयोग से एप्लिकेशन प्रोग्राम या सिस्टम यूटिलिटीज कर्नेल की विशेषताओं तक पहुंचते हैं। ये लाइब्रेरी ऑपरेटिंग सिस्टम की अधिकांश कार्यक्षमता को लागू करते हैं और कर्नेल मॉड्यूल के कोड को एक्सेस करने की आवश्यकता नहीं होती है।



सिस्टम यूटिलिटी – सिस्टम यूटिलिटी प्रोग्राम विशिष्ट स्तर के कार्य करने के लिए जिम्मेदार होते हैं।

लिनक्स की विशेषताये (FEATURE’S OF LINUX)

  1. Linux is portable

Linux को सी प्रोग्रामिंग लेंग्वेज में लिखा गया है जिसका किसी प्रकार के कम्प्यूटर हार्डवेयर से सम्बन्ध नहीं रखा गया यह किसी भी प्रकार के कम्प्यूटर पर चलाने में सक्षम है जैसे PCAT, MACINTOS

2. Linux is a multi user and multitasking O.S.

Linux  में दी गई मल्टी यूजर सुविधायें अन्य ऑपरेटिंग सिस्टमो की तुलना में अधिक शशक्त है ,लाइनेक्स में भी अन्य ऑपरेटिंग सिस्टम के सामान ही अनेक यूजर अकाउंट तो रख सकते है, लेकिन साथ ही अनेक यूजर एक login करके अपने कार्य कर सकते है इसके अलावा यूजर अपना अलग-अलग डेस्क टॉप चुन सकते है । तथा स्वतंत्र रूप से अपनी अलग डायरेक्टरी पासवर्ड दिया जा सकता है अर्थात कोई भी प्रयोक्ता किसी अन्य प्रयोक्ता की डायरेक्ट्री में किसी तरह का बदलाव नहीं कर सकता है

3. Network information service

विभिन्न प्रकार के कई कम्प्यूटर को आपस में जोड़कर उनका उपयोग करने के लिए एक जाल स्वरूप संरचना बनायी जाती है। जिसे नेटवर्किंग कहते है। लाइनेक्स विशेष रूप से नेटवर्किंग में कार्य करने के लिये विकसित किया गया है। लाइनेक्स के द्वारा हम पासवर्ड को शेयर कर सकते है तथा फाईलो को समूहों में बाटकर नेटवर्क पर उपयोग में ला सकते है।

4. Multitasking

लाइनेक्स में किसी प्रोग्राम को छोटे छोटे कार्यों में विभाजित कर दिया जाता है। कई कार्यों को एक साथ किसी तरह से करने की आपरेटिंग सिस्टम की क्षमता को ही मल्टीटास्किंग कहते है।

5. Virtual Memory

यदि हम किसी बड़े प्रोग्राम या एप्लीकेशन को संपादित करते है। तो हमें कुछ फिजिकल मेमोरी की आवश्यकता होती है जो कि हार्ड डिस्क में जमा कर दी जाती है और आवश्यकता पड़ने पर इसे उपयोग में लाया जा सकता है।

6. Linux is network  friendly

Linux  नेटवर्क फ्रेंडली ऑपरेटिंग सिस्टम है , लाइनक्स का उपयोग दिन प्रतिदिन लगातार बढ़ रहा है यहाँ तक की विभिन्न एप्लीकेशन  सॉफ्टवेयर जैसे एंटीवायरस आदि को भी समय पर इन्टरनेट के माध्यम से अपडेट करना आवश्यक होता जा रहा है ,तात्पर्य यह है की धीरे धीरे प्रत्येक कंप्यूटर यूजर को इन्टरनेट से जुड़े रहना आवश्यक हो गया है अतः यह स्वाभाविक ही है की इन्टरनेट की लोकप्रियता और विकास के बाद आने वाले सभी ऑपरेटिंग सिस्टम इन्टरनेट से सम्बंधित शक्तिशाली टूल से सुसज्जित होते है ।आज किसी भी नेटवर्क की संगतता उसे परखने की महत्वपूर्ण कसौटी बन चुकी है चूंकि लाइनेक्स का विकास अनेक प्रोग्रामरो ने आपस में मिलकर इन्टरनेट के माध्यम से ही किया अतः इसमें विशेष रूप से इन्टरनेट को अधिक प्राथमिकता दी गई है लाइनक्स ऑपरेटिंग सिस्टम अपने आप में सशक्त इन्टरनेट सेवा प्रदाता कार्य करने की क्षमता रखता है साथ ही यह किसी भी ऑपरेटिंग सिस्टम पर क्लाईंट या सर्वर के रूप में कार्य कर सकता है

7. Linux is open

Linux distribution के साथ इसके source code भी उपलब्ध होते है जिसे हम अपनी आवश्यकतानुसार परिवर्तन कर सकते है ,इस अर्थ में लाइनेक्स एक खुला सिस्टम है।

8. Multi programming

लिनक्स एक मल्टीग्रोमिंग सिस्टम है, जिसका अर्थ है कि एक ही समय में कई एप्लिकेशन चल सकते हैं।

9. Hierarchical File System

लिनक्स एक स्टैंडर्ड फ़ाइल स्ट्रक्चर प्रदान करता है जिसमें सिस्टम फाइलें / उपयोगकर्ता फाइलें व्यवस्थित होती हैं।

10. Shell 

लिनक्स एक विशेष इंटर प्रिटर प्रोग्राम प्रदान करता है जिसका उपयोग ऑपरेटिंग सिस्टम के कमांड को एक्सिक्यूट करने के लिए किया जा सकता है। इसका उपयोग विभिन्न प्रकार के ऑपरेशन, कॉल एप्लिकेशन प्रोग्राम करने के लिए किया जा सकता है|

11. Security

लिनक्स उपयोगकर्ता सुरक्षा प्रदान करता है जैसे पासवर्ड सुरक्षा / विशिष्ट फ़ाइलों के लिए नियंत्रित उपयोग / डेटा का एन्क्रिप्शन।

लिनक्स की अन्य विशेषताएं

लिनक्स दुनिया भर में तेज, मुफ्त और उपयोग में आसान, पावर लैपटॉप और सर्वर है। लिनक्स में अपने उपयोगकर्ताओं को प्रयोग करने के लिए कई और सुविधाएँ हैं जैसे:

लाइव सीडी / यूएसबी: लगभग सभी लिनक्स डिस्ट्रीब्यूशन में लाइव सीडी / यूएसबी सुविधा होती है जिसके द्वारा उपयोगकर्ता सिस्टम पर इसे इनस्टॉल किए बिना भी ओएस चला सकते है।

ग्राफिकल यूजर इंटरफेस (एक्स विंडो सिस्टम): लोगों को लगता है कि लिनक्स एक कमांड लाइन ओएस है, कहीं न कहीं यह सच भी है, लेकिन जरूरी नहीं कि लिनक्स में ऐसे पैकेज हों, जिन्हें विंडोज के रूप में पूरे ओएस ग्राफिक्स बनाने के लिए इंस्टॉल किया जा सके।

अनुकूलित कीबोर्ड: लिनक्स दुनिया भर में उपयोग किया जाता है और इसलिए कई भाषाओं में उपलब्ध है, और अपने अधिकांश कस्टम कीबोर्ड का समर्थन करता है।

एप्लीकेशन सपोर्ट: लिनक्स का अपना सॉफ्टवेयर रिपॉजिटरी है जहां से उपयोगकर्ता लिनक्स टर्मिनल या शेल में एक कमांड जारी करके हजारों एप्लिकेशन डाउनलोड और इंस्टॉल कर सकते हैं। जरूरत पड़ने पर लिनक्स विंडोज एप्लिकेशन भी चला सकता है।

सिलेबस के अनुसार नोट्स
DCA, PGDCA, O Level, ADCA, RSCIT, Data Entry Operator
यहाँ क्लिक करें