ऑपरेटिंग सिस्टम

ओपन सोर्स तथा प्रोपराइटरी सॉफ्टवेयर क्या हैं?

ओपन सोर्स तथा प्रोपराइटरी सॉफ्टवेयर क्या हैं?
(What are open source and Proprietary software)

ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर क्या हैं (What are Open Source Software)

ओपन-सोर्स सॉफ्टवेयर (OSS) ऐसा सॉफ्टवेयर है, जो सोर्स कोड के साथ वितरित किया जाता है, जिसे उपयोगकर्ताओं द्वारा पढ़ा या संशोधित किया जा सकता है और इसका सोर्स कोड (प्रोग्रामर ने जिस मीडियम में सॉफ्टवेयर का निर्माण तथा परिवर्तन किया है) इंटरनेट पर फ्री रूप से उपलब्ध होता है|

  • ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर को स्वतंत्र रूप से वितरित किया जा सकता हैं|
  • इसमें सोर्स कोड को सॉफ्टवेयर के साथ शामिल किया जा सकता हैं|
  • ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर के सोर्स कोड में कोई भी सुधार कर सकता हैं|
  • सोर्स कोड के संशोधित वर्जन को पुनर्वितरित किया जा सकता है|
  • साथ ही, एक ओपन-सोर्स सॉफ़्टवेयर लाइसेंस को अन्य सॉफ़्टवेयर के संचालन के बहिष्करण या हस्तक्षेप की आवश्यकता नहीं होती हैं|

Open Source Software

  • GNU/Linux
  • Mozilla Firefox
  • VLC media player
  • SugarCRM
  • GIMP
  • VNC
  • Apache web server
  • LibreOffice

प्रोपराइटरी सॉफ्टवेयर क्या हैं (What are Proprietary Software)

Proprietary सॉफ्टवेयर, जिसे Closed Source सॉफ्टवेयर के रूप में भी जाना जाता है, यह एक कॉपीराइटेड सॉफ्टवेयर होता है तथा इसका उपयोग सीमित होता है| प्रोपराइटरी सॉफ्टवेयर का सोर्स सामान्यतः बहुत सुरक्षित रखा जाता है| प्रोपराइटरी सॉफ्टवेयर इसके मालिक/निर्माता की प्रॉपर्टी होती है तथा यूजर या संस्थाओं द्वारा पूर्व परिभाषित कंडीशंस के तहत उपयोग किया जाता है और यूजर इसके सोर्स कोड को एक्सेस नहीं कर सकते हैं इस सॉफ्टवेयर में यूजर पुनर्वितरित या सुधार नहीं कर सकते हैं Proprietary सॉफ्टवेयर एक विशिष्ट हार्डवेयर प्लेटफॉर्म या ऑपरेटिंग सिस्टम पर काम करने के लिए डिज़ाइन किया गया सॉफ्टवेयर है।

Proprietary Software

  • Microsoft Windows
  • Microsoft Office
  • Adobe Flash Player
  • PS3 OS
  • Adobe Photoshop
  • Google Earth
  • Skype

ओपन सोर्स तथा प्रोपराइटरी सॉफ्टवेयर में अंतर (Difference between Open Source and Proprietary Software) 

कुछ सॉफ्टवेयर में सोर्स कोड होता है जिसमे सुधार और नियत्रण केवल उस व्यक्ति, टीम, या संगठन के हाथ में होता हैं जिसने इसे बनाया है लोग इस तरह के सॉफ़्टवेयर को “Proprietary” या “Closed Source” सॉफ़्टवेयर कहते हैं।

Proprietary सॉफ्टवेयर के केवल मूल लेखक कानूनी रूप से उस सॉफ़्टवेयर की प्रतिलिपि बना सकते हैं, निरीक्षण कर सकते हैं और बदल सकते हैं और Proprietary सॉफ्टवेयर का उपयोग करने के लिए, कंप्यूटर उपयोगकर्ताओं को सहमत होना चाहिए (आमतौर पर इस सॉफ़्टवेयर को चलाने के लिए पहली बार प्रदर्शित किए गए लाइसेंस पर हस्ताक्षर करके) कि वे सॉफ़्टवेयर के साथ कुछ भी नहीं करेंगे माइक्रोसॉफ्ट ऑफिस और एडोब फोटोशॉप Proprietary सॉफ्टवेयर के उदाहरण हैं।

ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर अलग है। इसके लेखक इसका सोर्स कोड दूसरों को उपलब्ध कराते हैं जो उस कोड को देखना चाहते हैं, उसे कॉपी कर सकते हैं, उससे सीख सकते हैं, उसे बदल सकते हैं, या शेयर कर सकते हैं। LibreOffice और GNU image Manipulate Program ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर के उदाहरण हैं।

ओपन सोर्स लाइसेंस, सॉफ्टवेयर के उपयोग, अध्ययन, संशोधन और वितरण के तरीके को प्रभावित करते हैं। सामान्य तौर पर, ओपन सोर्स लाइसेंस कंप्यूटर उपयोगकर्ताओं को किसी भी उद्देश्य के लिए ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर का उपयोग करने की अनुमति देते हैं। कुछ ओपन सोर्स लाइसेंस- जिसे कुछ लोग “कॉपीलेफ्ट” लाइसेंस कहते हैं – यह निर्धारित करते हैं कि जो कोई भी संशोधित ओपन सोर्स प्रोग्राम जारी करता है, उसे उस प्रोग्राम के लिए सोर्स कोड भी जारी करना चाहिए। इसके अलावा, कुछ ओपन सोर्स लाइसेंस यह निर्धारित करते हैं कि जो कोई भी प्रोग्राम को बदल देता है और दूसरों के साथ साझा करता है, उसे उस प्रोग्राम के सोर्स कोड को बिना लाइसेंस शुल्क के चार्ज करना चाहिए।

डिज़ाइन के अनुसार, ओपन सोर्स सॉफ़्टवेयर लाइसेंस सहयोग और साझाकरण को बढ़ावा देते हैं क्योंकि वे अन्य लोगों को सोर्स कोड में संशोधन करने की अनुमति देते हैं और उन परिवर्तनों को अपनी परियोजनाओं में शामिल करते हैं। वे कंप्यूटर प्रोग्रामर को जब भी चाहें, ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर को एक्सेस करने, देखने और संशोधित करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं, जब तक वे दूसरों को ऐसा करने देते हैं जब वे अपना काम साझा करते हैं।