Classification of SQL Commands

टेक्निकली रुप से कहे तो SQL एक डाटा सब लैंग्वेज है मतलब यह ऐसी लैंग्वेज है जिसका उपयोग डेटाबेस से interact करने के लिए करते है|

अब इसे ही हम दूसरे शब्दों में कहें तो SQL स्टेटमेंट सिर्फ डेटाबेस के लिए instructions हैं और यह  C और C++ या BASIC आदि जैसे प्रोग्रामिंग लैंग्वेज से बिल्कुल अलग होते हैं|

SQL Commands का वर्गीकरण

SQL कई भिन्‍न उद्देश्‍यों के कई प्रकार की कमांड्स देती हैं। SQL कमांड्स को निम्‍न श्रेणियों में विभाजित किया जा सकता हैं –

  1. डाटा डेफिनेशन लैंग्‍वेज (DDL) कमांड्स।
  2. डाटा मेनिप्‍यूलेशन लैंग्‍वेज (DML) कमांड्स।
  3. ट्रांजेक्‍शन कंट्रोल लैंग्‍वेज (TCL) कमांड्स।
  4. सेशन कंट्रोल कमांड्स।
  5. सिस्‍टम कंट्रोल कमांड्स।

1. DDL कमांड्स

जैसा कि नाम से स्‍पष्‍ट हैं, यह हमें डाटा डेफिनेशन से संबंधित काम करने की क्षमता देती हैं। इस कमांड्स के द्वारा निम्‍नलिखित प्रकार के टॉस्‍क परफॉर्म किए जा सकते हैं –

  1. Create, Alter and drop schema object – DDL कमांड का यह सेक्‍शन टेबल व्‍यू या इंडेक्‍स आदि जैसे ऑब्‍जेक्‍ट्स को निर्मित करने, डिफाईन करने, परिवर्तित करने या डिलीट करने में उपयोगी होता है। CREATE कमांड का उपयोग स्‍कीमा आब्‍जेक्‍ट्स को निर्मित करने में होता है। ALTER कमांड्स का उपयोग पहले से मौजूद कमांड्स को रूपांतरित या परिवर्तित करने में होता है और DROP कमांड्स का उपयोग स्‍कीमा आब्‍जेक्‍ट्स डिलीट करने या घटाने में किया जाता है।
  2. Grant and Revoke Privileges and roles – DDL कमांड का यह सेक्‍शन स्‍कीमा आब्‍जेक्‍ट्स पर काम करने की अनुमति या विशेषाधिकार देने या उसे आमंत्रित करने में किया जाता है।
  3. Analyze, audit or add Command – DDL कमांड के इस सेक्‍शन का उपयोग किसी टेबल, इंडेक्‍स या क्‍लस्‍टर पर इफॉर्मेशन को एनालाईज (विश्‍लेषित) करने में किया जाता है ताकि ऑडिटिंग आप्‍शन स्‍थापित किऐ जा सकें या डाटा डिक्‍शनरी में कमेंट्स जोड़े जा सके।

2. DML कमांड्स

डाटा मेनिप्‍यूलेशन लैंग्‍वेज (DML) वह लैंग्‍वेज हैं, जो यूजर्स को उस दशा में एक्‍सेस, या मेनिप्‍यूलेट करने की योग्‍यता देता है, जैसा उचित डाटा मॉडल ने ऑग्रेनाईज कर रखा है।

DMLs मूलत: दो प्रकार के होते हैं :-

  1. प्रोसिजरल DMLs (Procedural DML) में यूजर के लिए यह आवश्‍यक होता है कि वह स्‍पेसिफॉय करे कि कौन-सा डाटा चाहिए और कैसे उसे प्राप्‍त किया जाए।
  2. नॉन-प्रोसिजरल DML’s (Non-Procedural DML) में यूजर को यह स्‍पेसिफॉय करना होता है कि कौन से डाटा की आवश्‍यकता है। इसमें यह स्‍पेसिफॉय नहीं करना होता है कि इसे कैसे प्राप्‍त किया जाए।

3. TCL कमांड्स

ये एक ट्रांजैक्शन कार्य कि एक पूरी यूनिट होती है एक ट्रांजैक्शन तब पूरा होता है, यदि इसके सभी चरण सही से पूरे हो गए हो| तो ट्रांजैक्शन मैनेज और कंट्रोल करने के लिए ट्रांजैक्शन कंट्रोल कमांड्स  का उपयोग किया जाता है|


यह कमांड्स DML कमांड्स द्वारा किए बदलाव को मैनेज करते हैं|

4. सेशन कंट्रोल स्‍टेटमेंट्स

ये किसी यूजर सेशन की प्रापट्रीज को डायनामिकली मैनेज करते हैं।

  • ALTER SESSION :- यह वे कंडीशन या पैरामीटर मॉडीफॉय करता है जो आपके डाटाबेस कनेक्‍शन को प्रभावित करते हैं।
  • SET ROLE :- यह स्‍टेटमेंट वर्तमान में Session के लिए सक्षम रोल्‍स को सक्षम या अक्षम करता है।

SQL commands syntax

SQL पूर्वनिर्धारित आदेश (Predefined Commands) का सेट उपलब्ध कराती है जो हमें रिलेशनल डेटाबेस पर काम करने में मदद करता है लेकिन, इन पर चर्चा करने के पहले हमें SQL कमांड्स में उपयोग की जाने वाली टर्मिनोलॉजी से परिचित होना चाहिए|

Keywords: कीवर्ड्स वे शब्द होते हैं जिनका SQL में एक विशेष अर्थ होता है, इन्हें इंस्ट्रक्शन मानकर ही चला जाता है|

कमांड्स या स्टेटमेंट: वे इंस्ट्रक्शन होते हैं जो आप SQL डेटाबेस को देते हैं कमांड्स एक या एक से अधिक लॉजिकल आधार पर विशेष हिस्सों के बने होते हैं, जिन्हें Clauses कहते है|


Clauses: इसकी शुरुआत कीवर्ड से होती है जिसके लिए सामान्य रूप से उन्हें enrolled किया जाता है यह कीवर्ड्स और आर्गुमेंट्स की बनी होती हैं| Clauses के उदाहरण “FROM Sales” और “WHERE Value=1500.00” है|

आर्गुमेंट्स: किसी Clauses के अर्थ को पूरा बदल देता है उपरोक्त उदाहरण में “Sales” आर्गुमेंट्स है, FROM, FROM Clause का कीवर्ड् है, इसी प्रकार “Value =1500.00” Where Clause का arguments है|

ऑब्जेक्ट्स: डेटाबेस में रचनाएं होती हैं जिन्हें नाम देकर मेमोरी में स्टोर किया जाता है इनमें Base Table व्यूज और इंडेक्ससेस शामिल होते हैं|

नीचे दिए गए टेबल में कुछ Syntax Statement उपयोग में लाए जाने वाले Symbols का सारांश दिया गया है-

SymbolMeaning
lये “or “ जो सिम्बोल है उसे जरूरत पर बदला जा सकता हैं|
{ }जो भी इसके अंदर लिखा होता है वह solve करने के लिए एक यूनिट की तरह माना जाता है
[ ]इसका मतलब है जो भी इसके अंदर है उसमे से किसी को भी choose कर सकते है
इसका मतलब है कि जो कुछ भी पहले है उसे बार बार दोहराया जा सकता है
..,…इसका मतलब है इसके पहले जो भी है उसे comma से अलग की गई समसयायो या घटनाओ के साथ कई बार दोहरा जा सकता है
< ><> इसके अंदर SQL या दूसरे special term (नियम) लिखे होते है
error: Content is protected !!