अंतर

वायरस और वर्म्स में अंतर

वायरस और वर्म्स में अंतर (Difference between Virus and Worms)

वायरस और वर्म्स malicious programs हैं, जो सीडी, पेन ड्राइव, ईमेल अटैचमेंट और इंटरनेट से डाउनलोड की जाने वाली फाइलों के माध्यम से हमारे कंप्यूटर में प्रवेश करते हैं। दोनों में कुछ समानताएँ और भिन्नताएँ हैं। प्रमुख अंतरों में से एक यह है कि वर्म्स को दोहराने के लिए किसी भी मानवीय कार्रवाई की आवश्यकता नहीं होती है, जबकि वायरस संक्रमित फाइल चलाने के दौरान वायरस को दोहराता है।

इस पोस्ट में आप जानेंगे-
  1. वायरस और वर्म्स का तुलना चार्ट
  2. वायरस और वर्म्स की परिभाषा
  3. वायरस और वर्म्स में मुख्य अंतर
  4. निष्कर्ष

वायरस और वर्म्स का तुलना चार्ट

तुलना का आधार
वायरस
वर्म्स
अर्थवायरस खुद को निष्पादन योग्य फ़ाइलों से जोड़ता है और एक प्रणाली से दूसरे में स्थानांतरित करता है।वर्म्स एक malicious programs है जो खुद को दोहराता है और नेटवर्क के माध्यम से विभिन्न कंप्यूटरों में फैल सकता है।
मानव क्रियाजरूरत हैआवश्यक नहीं
फैलने की गतिवर्म्स की तुलना में धीमीतेज
मैलवेयर को हटा रहा हैएंटीवायरस, फोर्मेटिंगवायरस हटाने के लिए टूल, फोर्मेटिंग
सिस्टम का उपयोग कर सुरक्षित रखेंएंटीवायरस सॉफ्टवेयरएंटीवायरस, फ़ायरवॉल

वायरस की परिभाषा

वायरस एक सॉफ्टवेयर प्रोग्राम है जो खुद को दोहरा सकता है, और पेन ड्राइव, डिस्क ड्राइव, ईमेल अटैचमेंट के साथ-साथ डाउनलोड की गई फ़ाइलों के माध्यम से सिस्टम में प्रवेश कर सकता है। यह विभिन्न तरीकों से प्रणाली को नुकसान पहुंचाता है जैसे: डिस्क स्थान का उपयोग करनाहार्ड डिस्क ड्राइव को पूरी तरह से मिटा देनाव्यक्तिगत डेटा, टेक्स्ट फ़ाइलों को संशोधित करनाऔर कंप्यूटर को भी रोक सकते हैं। वायरस को पूरे सिस्टम में संलग्न और फैलाने के लिए एक होस्ट की आवश्यकता होती है। यह खुद को कंप्यूटर की निष्पादन योग्य (Executable Files) फ़ाइलों से जोड़ सकता है और ईमेल के माध्यम से दूसरे में स्थानांतरित हो सकता है। सभी वायरस मानव निर्मित होते हैं और इनका लक्ष्य कंप्यूटर को नुकसान पहुंचाना है।

वर्म्स की परिभाषा

वर्म्स स्वयं-प्रतिकृति फ़ाइलें हैं जो एक संक्रमित कंप्यूटर की मेमोरी में रहते हैं। यह एक वायरस के समान है यह वायरस का एक उप-वर्ग है। यह ईमेल, नेटवर्क आदि के माध्यम से एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में फैलता है, वर्म्स उपयोगकर्ता के ईमेल एड्रेस बुक का उपयोग करके खुद को एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर में स्थानांतरित कर सकते हैं। इससे सिस्टम संसाधन धीमा हो सकता है या कार्य को पूरी तरह से रोक सकता है।

वायरस और वर्म्स के बीच महत्वपूर्ण अंतर

  • वर्म्स कंप्यूटर नेटवर्क का उपयोग खुद को फैलाने के लिए करते हैं जबकि वायरस निष्पादन (Executable) योग्य फ़ाइलों के माध्यम से विभिन्न प्रणालियों में फैलते हैं।
  • वायरस की तुलना में वर्म्स के फैलने की गति तेज होती है।
  • वायरस लक्ष्य कंप्यूटर की फ़ाइलों को नुकसान पहुंचाता है, नष्ट करता है या बदल देता है, जबकि, वर्म्स किसी भी फाइल को संशोधित नहीं करता है, बल्कि संसाधनों को नुकसान पहुंचाता है।
  • वायरस को दोहराने के लिए मानव क्रिया की आवश्यकता होती है, जबकि, वर्म्स नहीं करते हैं।
  • वर्म्स स्वतंत्र फ़ाइलें हैं जो एक संक्रमित कंप्यूटर की मेमोरी के भीतर मौजूद हैं, जबकि, वायरस निष्पादन (Executable) योग्य फाइलें हैं या संचालित करने के लिए खुद को अन्य निष्पादन (Executable) योग्य फाइलों से जोड़ते हैं।
  • वायरस को फैलाने के लिए होस्ट की आवश्यकता होती है जबकि वर्म्स को किसी होस्ट की आवश्यकता नहीं होती है।
  • वायरस लक्ष्य कंप्यूटर पर डेटा को दूषित या संशोधित करता है, जबकि, वर्म बैंडविड्थ का उपभोग करके, फ़ाइलों को हटाने या ईमेल भेजकर नेटवर्क को नुकसान पहुंचाता है।

निष्कर्ष

वर्म्स और वायरस दोनों मैलवेयर प्रोग्राम हैं जो खुद को दोहराते हैं और इसका उद्देश्य नेटवर्क या इंटरनेट को नुकसान पहुंचाना है। किसी भी malicious programs से सिस्टम को रोकने के लिए, एक अपडेट एंटीवायरस सॉफ़्टवेयर या फ़ायरवॉल इंस्टाल होना चाहिए।

सिलेबस के अनुसार नोट्स
DCA, PGDCA, O Level, ADCA, RSCIT, Data Entry Operator
यहाँ क्लिक करें