अंतर

OCR और MICR में अंतर

OCR और MICR में अंतर (Difference between OCR and MICR)

OCR और MICR character recognition तकनीकें हैं जो प्रिंटेड टेक्स्ट को इलेक्ट्रिकल सिग्नल में और अंत में एक इलेक्ट्रॉनिक डॉक्यूमेंट में परिवर्तित करती हैं। इन तकनीकियों के बीच पूर्व का अंतर यह है कि OCR का उपयोग किसी भी प्रकार के प्रिंटेड टेक्स्ट को पढ़ने के लिए किया जाता है। इसके विपरीत, MICR का उपयोग विशिष्ट उद्देश्य के लिए किया जाता है जैसे कि बैंकों में कुछ विशिष्ट फ़ॉन्ट में प्रिंटेड चेक सूचना को पढ़ने के लिए।

OCR और MICR द्वारा स्कैन की गई प्रिंटेड सामग्री बहुत भिन्न होती है जहां OCR द्वारा स्कैन किए गए पेज किसी भी साधारण स्याही से बने हो सकते हैं। इसके विपरीत, MICR में, लेजर प्रिंटर का उपयोग करके जानकारी प्रिंटेड की जाती है। OCR तकनीक में कोई मैग्नेटिक फील्ड शामिल नहीं है। दूसरी ओर, MICR में रीडिंग यूनिट्स को एक मैग्नेटिक क्षेत्र द्वारा पारित किया जाता है, जिसके माध्यम से स्याही के कणों को चुंबकित किया जाता है।

इस पोस्ट में आप जानेंगे-

  1. OCR और MICR का तुलना चार्ट
  2. OCR और MICR की परिभाषा
  3. OCR और MICR में मुख्य अंतर
  4. निष्कर्ष

OCR और MICR का तुलना चार्ट

तुलना का आधार
OCR
MICR
पूरा नामOptical Character RecognitionMagnetic Ink Character Recognition
उपयोगकिसी भी प्रकार के प्रिंटेड टेक्स्ट को स्कैन करने के लिएचेकों में मौजूद विशेष जानकारी को स्कैन करने के लिए।
स्कैन किए गए फोंटअनेक प्रकार की आकृतियों से युक्तE-138 और CMC-7 जैसे पूर्व-परिभाषित फोंट का उपयोग किया जाता है।
स्याही का प्रकारकिसी भी प्रकार की स्याही का उपयोग किया जा सकता हैकेवल लोहे के ऑक्साइड का उपयोग करके बनाई गई चुंबकीय स्याही को नियोजित किया जा सकता है।
स्कैन किए गए दस्तावेज़ का उपयोगसुधार या प्रिंटिंग के लिए स्टोर टेक्स्टस्कैन किए गए डेटा की जानकारी का उपयोग चेक में सुधार करने के लिए किया जाता है।

OCR की परिभाषा

ऑप्टिकल कैरेक्टर रेकोग्निशन (Optical Character Recognition) अथवा ओ.सी.आर.(OCR) एक ऐसी तकनीक है | जिसका प्रयोग किसी विशेष प्रकार के चिन्ह, अक्षर, या नंबर को पढ़ने के लिये किया जाता है इन कैरेक्टर को प्रकाश स्त्रोत के द्वारा पढ़ा जा सकता हैं| ओ.सी.आर (OCR) उपकरण टाइपराइटर से छपे हुए कैरेक्टर्स, कैश रजिस्टर के कैरक्टर और क्रेडिट कार्ड के कैरेक्टर को पढ़ लेता हैं| ओ.सी.आर (OCR) के फॉण्ट कंप्यूटर में संग्रहित रहते है | जिन्हें ओ.सी.आर. (OCR) स्टैंडर्ड कहते हैं|

OCR (Optical Character Recognition) एक स्कैनर है जो पेजों को स्कैन करता है। OCR का सॉफ्टवेयर टेक्स्ट को सुधारने योग्य टेक्स्ट फॉर्मेट (ASCII) में परिवर्तित करता है, जिसे हम वर्ड प्रोसेसिंग एप्लीकेशन में भी उपयोग कर सकते हैं और परिवर्तन लागू कर सकते हैं। यह ग्रिड डॉट्स को निकालने और डॉट्स के इन एरे को समतुल्य ASCII टेक्स्ट में परिवर्तित करके काम करता है जिसे कंप्यूटर अक्षरों, संख्याओं या विशेष प्रतीकों के रूप में प्रस्तुत कर सकता है।



 

OCR सॉफ्टवेयर सभी प्रकार के प्रिंटेड कैरेक्टर को पढ सकता है। हालाँकि, पारंपरिक OCR में स्क्रिप्ट फ़ॉन्ट और लिखावट को स्कैन करना और पहचानना कठिन था, लेकिन OCR के नवीनतम स्मार्ट सिस्टम में बड़ी संख्या में फ़ॉन्ट होते हैं।

हालाँकि, OCR की सटीकता स्कैनर की गुणवत्ता के आधार पर भिन्न होती है। उदाहरण के लिए, 1,200 डीपीआई (डॉट्स प्रति इंच) वाला टेक्स्ट 72 डीपीआई स्कैन करने की तुलना में स्कैन करने के लिए अधिक समय लेगा लेकिन इस मामले में सटीकता अधिक होगी।

MICR की परिभाषा

मैग्नेटिक इंक कैरेक्टर रिकोग्निशन (Magnetic Ink Character Recognition) व्यापक रूप से बैंकिंग में प्रयोग होता है, जहाँ लोगो को चेकों की बड़ी संख्या के साथ काम करना होता हैं| इसे संक्षेप में एम.आई.सी.आर.(MICR) कहाँ जाता हैं| एम.आई.सी.आर (MICR) का प्रयोग चुम्बकीय स्याही (Megnatic Ink) से छपे कैरेक्टर को पढ़ने के लिये किया जाता हैं| यह मशीन तेज व स्वचलित होतीहैं साथ ही इसमें गलतियां होने के अवसर बिल्कुल न के बराबर होते हैं|

MICR (Magnetic Ink Character Recognition) भी कैरेक्टर स्कैनिंग तकनीक है, लेकिन यह मैग्नेटिक इंक और स्पेशल कैरेक्टर का इस्तेमाल करती है। MICR डॉक्यूमेंट को स्कैन करने के लिए, इसे एक विशेष स्कैनर के अधीन किया जाता है जो विशेष स्याही को चुंबकित करता है और फिर मैग्नेटिक जानकारी को कैरेक्टर्स में परिवर्तित करता है। बैंकिंग प्रणाली इस तकनीक का उपयोग बड़ी मात्रा में चेक के तेजी से प्रोसेसिंग के लिए करती है।

MICR को नियोजित करने वाले बैंक इसे चेक पर लागू करते हैं। इन चेकों में बैंक का पहचान कोड, चेक संख्या और खाता संख्या होती है, जो पहले उस पर एक अद्वितीय मैग्नेटिक स्याही द्वारा प्रिंटेड होती है जिसमें लौह ऑक्साइड के कण होते हैं। मैग्नेटिक प्रिंटिंग का उपयोग करने का लाभ यह है कि यह कैरेक्टर को आसानी से पढ़ने में मदद करता है, भले ही ओवरराइटिंग या निशान मौजूद हों।

हालांकि, MICR एप्लीकेशन में उपयोग किए जाने वाले कैरेक्टर E-138 और CMC -7 जैसे विशेष फोंट हैं। भारत, कनाडा, यूके और यूएस जैसे विभिन्न देशों ने MICR अक्षर लागू किए हैं जो चेक में कागज के नीचे E-13B फ़ॉन्ट में होते हैं।

OCR और MICR के बीच मुख्य अंतर

  • OCR तकनीक का उपयोग किसी भी प्रकार के टेक्स्ट को पढ़ने और इसे इलेक्ट्रॉनिक डॉक्यूमेंट में परिवर्तित करने के लिए किया जाता है। जबकि, MICR केवल विशेष कैरेक्टर को स्कैन करता है।
  • OCR से स्कैन होने वाले टेक्स्ट के फॉण्ट किसी भी आकार में हो सकते हैं इसके विपरीत, MICR के लिए, उपयोग किए जाने वाले विशेष प्रकार के फ़ॉन्ट E-138 और CMC-7 होते हैं।
  • OCR स्कैन करने योग्य सामग्री को प्रिंट करने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली स्याही किसी भी प्रकार की हो सकती है। इसके विपरीत, MICR में स्याही को चुंबकित किया जाता है जो लोहे के ऑक्साइड से बना होता है।
  • MICR और इसकी जानकारी आउटपुट के रूप में बैंकों में उपयोग की जाती है। इसके विपरीत, हम OCR आउटपुट का उपयोग एप्लीकेशन के अनुसार विभिन्न स्थानों में कर सकते है।

निष्कर्ष

MICR जानकारी को स्कैन और सुधार करने की एक तेज़ और अत्यधिक सुरक्षित तकनीक प्रदान करता है। यही कारण है कि MICR मुख्य रूप से बैंकों में उपयोग किया जाता है। इसके विपरीत, OCR का उपयोग किसी भी एप्लिकेशन में किया जा सकता है जैसे कि स्वचालित डेटा प्रोसेसिंग और डेटा एंट्री| इसलिए, OCR एप्लिकेशन में बहुत अधिक सुरक्षा मुद्दे शामिल नहीं हैं। यद्यपि OCR प्रिंटेड टेक्स्ट का इलेक्ट्रॉनिक डॉक्यूमेंट बनाने में मदद करता है।

सिलेबस के अनुसार नोट्स
DCA, PGDCA, O Level, ADCA, RSCIT, Data Entry Operator
यहाँ क्लिक करें