अंतर

एनालॉग और डिजिटल सिग्नल में अंतर

एनालॉग और डिजिटल सिग्नल में अंतर
(Difference Between Analog and Digital Signal)

एनालॉग और डिजिटल सिग्नल के विभिन्न रूप हैं। सिग्नल का उपयोग एक डिवाइस से दूसरे डिवाइस तक जानकारी ले जाने के लिए किया जाता है। एनालॉग सिग्नल एक निरंतर तरंग (continuous wave) है जो एक समय अवधि में बदलती रहती है। एनालॉग और डिजिटल सिग्नल के बीच मूलभूत अंतर यह है कि एनालॉग सिग्नल को साइन तरंगों द्वारा दर्शाया जाता है जबकि, डिजिटल सिग्नल को स्क्वायर तरंगों द्वारा दर्शाया जाता है।

इस पोस्ट में आप जानेंगे-
  1. एनालॉग और डिजिटल का तुलना चार्ट
  2. एनालॉग और डिजिटल की परिभाषा
  3. एनालॉग और डिजिटल में मुख्य अंतर
  4. निष्कर्ष

एनालॉग और डिजिटल का तुलना चार्ट

तुलना का आधार
एनालॉग सिग्नल
डिजिटल सिग्नल
बुनियादीएनालॉग सिग्नल एक निरंतर तरंग (continuous wave) है जो एक समय अवधि में बदलती है।एक डिजिटल सिग्नल एक असतत लहर (discrete wave) है जो बाइनरी फॉर्म में जानकारी लेती है।
प्रतिनिधित्वएनालॉग सिग्नल को साइन वेव द्वारा दर्शाया जाता है।डिजिटल सिग्नल को स्क्वायर तरंगों द्वारा दर्शाया जाता है।
विवरणएक एनालॉग सिग्नल को आयाम, अवधि या आवृत्ति और चरण द्वारा वर्णित किया जाता है।एक डिजिटल सिग्नल को बिट दर और बिट अंतराल द्वारा वर्णित किया जाता है।
रेंजएनालॉग सिग्नल की कोई निश्चित सीमा नहीं है।डिजिटल सिग्नल की एक परिमित सीमा होती है यानी 0 और 1 के बीच।
विरूपणएनालॉग सिग्नल में विकृति होने की संभावना अधिक होती है।एक डिजिटल सिग्नल में विकृति का खतरा कम होता है।
संचारितएनालॉग सिग्नल एक तरंग के रूप में डेटा संचारित करता है।एक डिजिटल सिग्नल बाइनरी फॉर्म यानी 0 और 1 में डेटा ले जाता है।
उदाहरणमानव आवाज एक एनालॉग सिग्नल का सबसे अच्छा उदाहरण है।कंप्यूटर में ट्रांसमिशन के लिए उपयोग किए जाने वाले सिग्नल डिजिटल सिग्नल हैं।

 एनालॉग सिग्नल की परिभाषा

एनालॉग सिग्नल एक तरह की निरंतर तरंग (continuous wave) का रूप है जो समय के साथ बदलता रहता है। एनॉलॉग सिग्नल को आगे सरल और समग्र संकेतों में वर्गीकृत किया जाता है। सरल एनालॉग सिग्नल एक साइन वेव है जिसे आगे विघटित नहीं किया जा सकता है। दूसरी ओर, एक समग्र एनालॉग सिग्नल (composite analog signal) को कई साइन तरंगों (Sine Wave) में विघटित किया जा सकता है। एक एनालॉग सिग्नल को आयाम (amplitude), अवधि (period ) या आवृत्ति और चरण (frequency and phase) का उपयोग करके वर्णित किया गया है। आयाम (amplitude) सिग्नल की अधिकतम ऊंचाई को चिह्नित करता है। आवृत्ति (frequency) उस दर को चिह्नित करती है जिस पर सिग्नल बदल रहा है।

टेलीफ़ोन पर की जाने वाली बातचीत में हमारी आवाज को एक स्थान से दूसरे स्थान तक भेजना एनालॉग सिगनलों के माध्यम से होता है। , एनालॉग सिगनलों का डाटा कम्युनिकेशन, डाटा ट्रांसमिशन और कंप्यूटर नेटवर्क के सम्बंद में बहुत महत्व है, क्योकि लम्बी दुरी में डाटा का सम्प्रेषण एनालॉग सिगनलों के माध्यम से ही किया जाता है।

डिजिटल सिग्नल की परिभाषा

डिजिटल सिग्नल कुछ हद तक एनालॉग सिग्नल से अलग होते हैं। डिजिटल सिग्नल बाइनरी फॉर्म में सूचना या डेटा को वहन करता है यानी डिजिटल सिग्नल बिट्स के रूप में सूचना का प्रतिनिधित्व करता है। डिजिटल सिग्नल को सरल साइन तरंगों (Simple Sine Wave) में विघटित किया जा सकता है जिन्हें हार्मोनिक्स कहा जाता है। प्रत्येक सरल तरंग में विभिन्न आयाम (amplitude), आवृत्ति (Frequency) और चरण (Phase) होते हैं। डिजिटल सिगनलों के सम्बन्ध में हम प्रायः दो शब्दो का उपयोग करते है, बिट रेट (Bit Rate) और बिट अंतराल (Bit Interval), किसी एक बिट को भेजने में लगने वाले समय को बिट अंतराल कहा जाता है, उदाहरण के लिए, यदि हम एक सेकंड में 8 बिट डाटा सम्प्रेषित करते है, तो बिट अंतराल 1/8  अर्थात 0.125 सेकंड होगा। एक सेकंड में भेजी जाने वाली बिटो की संख्या को बिट रेट कहा जाता है, यहाँ बिट रेट 8 बिट प्रति सेकण्ड(Bit Per Second) है, जिसे संक्षेप में इंच लिखा जाता है।

डिजिटल सिग्नल शोर के लिए अधिक प्रतिरक्षा है; इसलिए, यह शायद ही किसी भी विकृति का सामना करता है। एनालॉग सिग्नल की तुलना में डिजिटल सिग्नल प्रसारित करना आसान होता है और अधिक विश्वसनीय होता है। डिजिटल सिग्नल में मूल्यों की एक सीमित सीमा होती है। डिजिटल सिग्नल की सीमा 0 से 1 के बीच होती है।

एनालॉग और डिजिटल सिग्नल के बीच महत्वपूर्ण अंतर

  • एनालॉग सिग्नल निरंतर तरंग का प्रतिनिधित्व करता है जो समय अवधि में बदलता रहता है। दूसरी ओर, एक डिजिटल सिग्नल एक गैर- निरंतर तरंग (noncontinuous wave) का प्रतिनिधित्व करता है जो बाइनरी फॉर्मेट में जानकारी ले जाता है|
  • एक एनालॉग सिग्नल हमेशा निरंतर साइन लहर (Sine wave) द्वारा दर्शाया जाता है जबकि, एक डिजिटल सिग्नल को स्क्वायर तरंगों (Square Wave) द्वारा दर्शाया जाता है।
  • एनालॉग सिग्नल की बात करते समय हम तरंग के आयाम (amplitude), अवधि (period ) या आवृत्ति और चरण (frequency and phase) के संबंध में व्यवहार का वर्णन करते हैं। दूसरी ओर, असतत संकेतों की बात करते समय हम बिट दर और बिट अंतराल के संबंध में वेव के व्यवहार का वर्णन करते हैं।
  • एनॉलॉग सिग्नल की सीमा तय नहीं है, जबकि डिजिटल सिग्नल की रेंज 0 से 1 के बीच है।
  • शोर के जवाब में एनालॉग सिग्नल में विकृति होने की संभावना अधिक होती है, लेकिन डिजिटल सिग्नल में शोर की प्रतिक्रिया में प्रतिरोधक क्षमता होती है इसलिए यह विकृति का सामना शायद ही कभी करता है।
  • एनालॉग सिग्नल तरंग के रूप में डेटा को प्रसारित करता है, जबकि एक डिजिटल सिग्नल द्विआधारी रूप में डेटा को बिट्स के रूप में प्रसारित करता है।
  • एनालॉग सिग्नल का सबसे अच्छा उदाहरण मानव आवाज है, और डिजिटल सिग्नल का सबसे अच्छा उदाहरण कंप्यूटर में डेटा का संचरण है।

निष्कर्ष:

डिजिटल सिग्नल आजकल एनालॉग सिग्नल की जगह ले रहा है, लेकिन ऑडियो ट्रांसमिशन के लिए एनालॉग सिग्नल अभी भी सबसे अच्छा है।

%d bloggers like this: