What is Solid State Drive (SSD)?

आज के समय में किसी भी कंप्यूटर या लैपटॉप की स्पीड बढाने का सबसे आसान तरीका है की अपनी पुरानी हार्डडिस्क की जगह SSD का प्रयोग करना, क्यूंकि अब SSD की कीमत पहले से बहुत कम हो गयी है|

पर क्या आप जानते हैं की SSD क्या होती है (What is SSD), और SSD कितने  प्रकार (Types of SSD) की होती हैं, और कैसे SSD पुरानीं हार्डडिस्क के मुकाबले ज्यादा स्पीड पर काम करती है? तो इस लेख में आपको इन सभी प्रश्नों के जवाब मिल जायेंगे|

What is Solid State Drive (SSD)?

SSD को Solid State Drive भी कहते है, SSD एक स्टोरेज डिवाइस है | यह देखने में हार्डडिस्क की तरह ही होती है, लेकिन इसकी स्टोरेज कैपेसिटी हार्डडिस्क से कही ज्यादा होती है |इसमे हार्डडिस्क की तरह ना ही कोई मोटर होती है और ना ही कोई spinning disk होती है | यह integrated circuit को डाटा स्टोर करने के लिए एक मेमोरी की तरह इस्तेमाल करती है|

SSD बिलकुल रैम की तरह ही सेमीकंडक्टर से बना होता है लेकिन यह एक स्थाई स्टोरेज होता है| जिसमे डाटा को स्थाई रूप से स्टोर कर सकते है |जिस प्रकार से पेन ड्राइव और मेमोरी कार्ड डाटा को स्टोर करते है ठीक उसी तरह से SSD भी डाटा को स्टोर करता है, एक तरह से कह सकते है की SSD का छोटा रूप ही पेन ड्राइव है |

SSD कैसे काम करती है (Working of SSD)?

एक SSD का mechanical arm नहीं होता है इसलिए data को Read and Write करने के लिए एक embedded processor (या Brain) जिसे Controller भी कहा जाता है का इस्तेमाल होता है जिसकी मदद से बहुत सारे काम जैसे की data को read और write किया जाता है|

SSD की speed को पता करने के लिए controller का इस्तमाल होता है| ये जो भी decision लेता है जैसे data को store, retrieve, cache और clean up करने के लिए ये सभी चीजे ही drive की overall speed को determine करते हैं|

एक अच्छा controller ही एक अच्छे SSD की असली पहचान है, SSD को plastic या फिर metal case में encased कर के रखा जाता है, ये दिखने में एक battery के तरह ही होता है|


SSD का form factor एक regular hard drive के सामान ही होता है, इसके standard size कुछ इस प्रकार है 1.8”,2.5”, और 3.5” size जो की बड़ी आसानी से housing और connectors में fit हो जाता है |

Solid State Drive (SSD) की विशेषताये

  • Speed: SSD की सबसे बड़ी खासियत है की यह HDD से काफी तेज़ स्पीड से डाटा को रीड राइट कर सकता है| स्पीड ज्यादा होने की वजह से इसकी एक्सेस टाइम भी बहुत ही कम होता है|
  • Shock resistant: यह फिजिकल शॉक के प्रति रेसिस्टेंट होता है| यदि इसे झटका भी लग जाये या तेज़ी से नीचे गिर जाये तो भी यह खराब नहीं होता है|
  • Low Power Consumption: HDD की तुलना में यह पॉवर की खपत बहुत ही कम करता है| और कम पॉवर में ही यह बेहतर परफॉरमेंस देता है|
  • Long life : इसके अन्दर कोई मूविंग पार्ट या मकेनिकल पार्ट नहीं होता है| इसी कारण इसकी लॉन्ग लाइफ होती है |

Solid State Drive (SSD) की कामियां

  • High price rate and low storage :सबसे बड़ी खामी यह है की यह बहुत ही ज्यादा महँगी होती है| जितने मूल्य में 1TB की HDD खरीद सकते है उतने मूल्य में सिर्फ 256 GB की SSD ही मिल पायेगी| यह एक नयी technology है, इसी कारण यह अभी हाई स्टोरेज में उपलब्ध नहीं है|
  • Lack of availability : SSD आपको हर मार्किट में देखने को नहीं मिलेगी, यह बड़े शहरों के मार्किट में ही उपलब्ध है| इसका बड़ा कारण इसका मार्किट प्राइस ही है| प्राइस अधिक होने के कारण छोटे शहरो के लोग इसे अवॉयड कर देते है| और इसकी जगह पर HDD को प्रेफर करते है| इसे आप online भी खरीद सकते है | हालाँकि अब SSD आसानी से प्राप्त हो जाती है|

SSD के प्रकार

SATA SSD डिस्क

इस प्रकार का SSD (Serial Advanced Technology Attachment) लैपटॉप की हार्ड ड्राइव के समान होता है, जो हार्ड डिस्क की तरह एक साधारण SATA कनेक्टर को सपोर्ट करता है।

यह SSD का सबसे सरल फॉर्म फ़ैक्टर है जिसे आप देखकर पहचान सकते हैं, सबसे पहले इस प्रकार का SSD मार्केट में आया और अभी भी चलता है। इन एसएसडी का उपयोग आज के किसी भी पीसी में किया जा सकता है|

MTS-SSD डिस्क

  • MTS-SSD डिस्क कनेक्टिविटी और फॉर्म फैक्टर में सिंपल SATA SSD से unique होता है, यह आकार में बहुत छोटा है और सिंपल SSD की तुलना में दिखने में बहुत ही Unique होता है|
  • यह सामान्य रैम स्टिक और कनेक्टिविटी के मामले में शो होता है, हर पीसी में इसका उपयोग नहीं किया जा सकता है क्योंकि इसका उपयोग करने के लिए आपके सिस्टम में SATA पोर्ट का होना बहुत जरूरी है, ऐसे SSD का उपयोग लैपटॉप में किया जाता है|

M.2 SSD डिस्क

  • ये SSD, M-SATA SSD डिस्क के बराबर होती हैं। लेकिन यह एक अपडेटेड वर्जन है।
  • यह SATA SSD से तेज है लेकिन छोटा होने के बावजूद यह दोनों तरह की कनेक्टिविटी को सपोर्ट करता है मतलब आप इसे सामान्य SATA केबल से भी कनेक्ट कर सकते हैं।
  • M.2 SSD डिस्क PCI-E एक्सप्रेस पोर्ट के समान है। लेकिन यह थोड़ा छोटा है।

SSHD SSD डिस्क

  • SSHD को पूरी तरह से SSD नहीं कहा जा सकता क्योंकि यह सॉलिड स्टेट ड्राइव और हार्ड डिस्क दोनों से मिलकर बना होता है।
  • इसमें SSD की कुछ मेमोरी और कुछ हार्ड डिस्क होती है, मतलब यह हार्ड डिस्क और SSD दोनों के बीच की चीज है। SSHD डिस्क का उपयोग आज के लैपटॉप में किया जाता है|
error: Content is protected !!