इन्टरनेट और ई-कॉमर्स नेटवर्किंग

डाटा सेंटर क्या होता है इनके प्रकार और सेवाएं

data center its types and services

डाटा केंद्र और इसके विभिन्न प्रकार (Data Centers and its Type)

नोट: डाटा केंद्र और डाटा सेंटर को एक ही पढ़ा जाये|

आज के डिजिटल युग में फेसबुक, गूगल और अमेज़न जैसी कंपनी अपना सारे यूजर का डाटा, सारी इनफार्मेशन अपने बनाये डाटा सेंटर में ही रखते हैं, और इन डाटा सेंटर पर हजारों की तादाद में ढेरो सर्वर होते हैं| इन सर्वर की इन्टरनेट कनेक्टिविटी की स्पीड भी गीगाबाइट में होती है| जैसे जब भी जीमेल खोलते हैं या अमेज़न की वेबसाइट पर कोई आर्डर करते हैं या फिर फेसबुक पर किसी फोटो को लाइक करते हैं तो ये सब डाटा, डाटा सेंटर पर जाकर स्टोर हो जाता है, और ये सब काम इतना गति से होता है की आपको इनके मीलों दूर रखे होने का जरा भी पता नहीं लग पता है|

डाटा केंद्र (Data Center) एक ऐसा केंद्रित संग्रहण क्षेत्र है जो डाटा और सूचना को स्टोर करता है, उसका प्रबंधन करता है और उसका विस्तार करता है| डाटा और सूचना का भंडार डाटा केंद्र (data center) अत्याधिक सुरक्षित (secure) है और इसमें दोष प्रतिरोधी (fault resistant) सुविधा है| जो ग्राहक उपकरणों (equipment) की मेजबानी (hosting) करता है और दूरसंचार नेटवर्क (telecommunication network) से जुड़ता है| डाटा केंद्र का उद्देश्य विश्वनीय (reliable), सुरक्षित (secure) और स्केलेबल (scalable) वातावरण में सर्वर के लिए स्थान और बैंडविथ कनेक्टिविटी प्रदान करना है|

डाटा केंद्रों को अक्सर इंटरनेट होटल (internet hotel), सर्वर फॉर्म (server farm), डाटा वेयरहाउस (data warehouse) कॉर्पोरेट डाटा केंद्र, इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर (ISP) या वायरलेस सर्विस प्रोवाइडर (WASP) के रूप में जाना जाता है| ये सुविधाएं हजारों सर्वर (server), स्विच (switch), राउटर (router) और संग्रहण सरणिया (storage array) और अन्य सम्बद्ध (associated) दूरसंचार उपकरण (telecom equipment) को जोड़ कर रख सकती है अर्थात इस तरह के डाटा केंद्र में एक नेटवर्क ऑपरेशन केंद्र (NOC) हो सकता है जो एक प्रतिबंधित एक्सेस एरिया है (प्रतिबंधित एक्सेस एरिया एक ऐसा क्षेत्र है जहाँ बिना अनुमति प्रवेश नहीं किया जा सकता), और जो सर्वर की गतिविधियो (server activity), वेब ट्रेफिक (web traffic), नेटवर्क के प्रदर्शन (Network performance) की लगातार देखरेख (monitor) करते हैं और इंजीनियरों को थोड़ी सी भी (slight irregularities) अनियमितता की रिपोर्ट करते हैं इस प्रकार इंजीनियर किसी भी संभावित घटना के होने से पहले उसका पता लगा लेते है|

डाटा केंद्र विभिन्न प्रकार की आवश्यकताओं की पूर्ती करते है और इसी आधार की पर डाटा केन्द्रो को मुख्य दो श्रेणियों में बांटा जा सकता है :-

निजी डाटा सेण्टर (Private data center)

एक निजी डाटा सेण्टर (जिसे कैप्टिव (captive) या एंटरप्राइज़ (enterprise) डाटा केंद्र भी कहा जाता है) जिसे स्वयं IT department के द्वारा प्रतिबंधित किया जाता है, यह सभी कार्यो को सुचारु रूप से चलाने के लिए सभी आवयश्यक एप्लीकेशन, स्टोरेज (storage), वेबहोस्टिंग (web hosting) और E-Business (electronic business) कार्यो को प्रदान करता है|

सार्वजनिक डाटा केंद्र (Public data center)

सार्वजनिक डाटा केंद्र (जिसे इंटरनेट डाटा केंद्र (internet data center) भी कहा जाता है) उपकरणो के एकत्रीकरण (equipment collection)से लेकर वेबहोस्टिंग के प्रबंधन (managing webhosting) तक की सुविधाएं प्रदान करता है आमतौर पर क्लाइंट अपने डाटा और एप्लीकेशन को इंटरनेट के माध्यम से एक्सेस (access) करते हैं|

डाटाकेंद्रों द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाओं के प्रकार (Types of services provided by data centers)

डाटाकेंद्र द्वारा प्रदान की जाने वाली सेवाओं में से कुछ प्रमुख सेवाएँ निम्नानुसार हैं:

  1. डाटाबेस मॉनिटरिंग (Database monitoring):- डेटाबेस की मॉनिटरिंग डाटाबेस एजेंट (database agent) के द्वारा की जाती है, जो व्यापक स्वचालित प्रबंधन (comprehensive automated management) के माध्यम से डाटाबेस की उच्च उपलब्धता को उपलब्ध कराता है।
  2. वेब निगरानी (Web monitoring):- इसका मुख्य उद्देश्य आगंतुक (visitors) के दृष्टिकोण (point of view) से वेबसाइट के प्रदर्शन (performance), उसकी उपलब्धता (availability), अखंडता (integrity) और जवाबदेही (responsiveness) का आकलन (assess) और निगरानी (monitor) करना है।यह HTTP, FTP सेवााओं की स्थिति पर भी रिपोर्ट करता है, URL उपलब्धता की निगरानी करता है, प्रतिक्रिया समय, वेब सामग्री सटीकता (accuracy) और परिवर्तनों की पुष्टि (verify) करता है।
  3. बैकअप और पुनर्स्थापना (Backup and restore):- डाटा केंद्र केंद्रीकृत (centralized), बहु-प्रणाली प्रबंधन (multi-system management) क्षमता प्रदान करते हैं| डाटा केंद्र ऑपरेटिंग सिस्टम, डाटाबेस, खुली फ़ाइलों और अनुप्रयोगों (applications) के लिए विशेष बैकअप एजेंटों (specialized backup agents) का उपयोग करके डाटा के संग्रहण के लिए एक एकीकृत प्रबंधन समाधान (integrated management solution) भी प्रदान करते हैं।

डाटा केंद्र के सुचारु संचालन के लिए डाटा केंद्र के महत्वपूर्ण घटक

सबसे खराब परिस्थितियों में भी, उपकरण को मज़बूती से चलाने के लिए डाटा केंद्र निम्नलिखित बुनियादी ढांचो (infrastructures) के साथ बनाया गया है:



  1. नेटवर्क की कनेक्टिविटी भौतिकी रूप से (ऑप्टिकल फाइबर और कॉपर जैसी केबलो के माध्यम से) और विभिन्न सेवाओं जैसे अंतरराष्ट्रीय बैंडविड्थ के माध्यम से
  2. दोहरी डीजी सेट और दोहरी यूपीएस की सुविधा (Dual DG sets and dual UPS)
  3. तापमान नियंत्रण के लिए एचवीएसी सिस्टम (HVAC systems for temperature control)
  4. आग बुझाने की प्रणालियाँ (Fire extinguishing systems)
  5. शारीरिक सुरक्षा प्रणाली (Physical security systems)- स्वाइप कार्ड (swipe card) / बायोमेट्रिक एंट्री सिस्टम (biometric entry systems), सीसीटीवी (CCTV), गार्ड (guards) इत्यादि|
  6. उठा हुआ फर्श (Raised flooring)
  7. नेटवर्क उपकरण (Network equipment)
  8. नेटवर्क प्रबंधन सॉफ्टवेयर (Network management software)
  9. ऑप्टिकल फाइबर कनेक्टिविटी (Multiple optical fiber connectivity)
  10. नेटवर्क सुरक्षा (Network security) – सार्वजनिक और निजी नेटवर्क को अलग (segregating) करना, फायरवॉल (firewall) स्थापित करना और घुसपैठ (नेटवर्क में किसी के अनचाहे प्रवेश) का पता लगाना (Intrusion Detection Systems (IDS))

सिलेबस के अनुसार नोट्स
DCA, PGDCA, O Level, ADCA, RSCIT, Data Entry Operator
यहाँ क्लिक करें


Rs. 50 जीतने का मौका
सब्सक्राइब करें और जीतें
यहाँ क्लिक करें