डोमेन नाम क्या होता है और इनके प्रकार

Domain Name Kya hai in Hindi – इन्टरनेट पर सभी जानकारी वेबसाइट का रूप में उपलब्ध रहती है, तो जब भी हम किसी जानकारी तक पहुंचना चाहते हैं तो हमें या तो किसी भी सर्च इंजन (Search Engine) का प्रयोग करना होता है या फिर उस वेबसाइट का नाम हमें मालूम हो जिस पर वांछित जानकारी उपलब्ध है| तो जो वेबसाइट का नाम है वही डोमेन नाम  (Domain Name) कहलाता है|

Domain Name Kya hai in Hindi – इन्टरनेट पर सभी जानकारी वेबसाइट का रूप में उपलब्ध रहती है, तो जब भी हम किसी जानकारी तक पहुंचना चाहते हैं तो हमें या तो किसी भी सर्च इंजन (Search Engine) का प्रयोग करना होता है या फिर उस वेबसाइट का नाम हमें मालूम हो जिस पर वांछित जानकारी उपलब्ध है| तो जो वेबसाइट का नाम है वही डोमेन नाम  (Domain Name) कहलाता है|

Domain name, Internet में Administrative ऑटोनमी, Authority और control के अधिकार को define करता है |

डोमेन नाम क्या है (What is Domain Name)

डोमेन नाम आपकी वेबसाइट का नाम है। डोमेन नाम वह पता है जहां इंटरनेट यूजर आपकी वेबसाइट तक पहुंच सकते हैं। इंटरनेट पर वेबसाइट खोजने और पहचानने के लिए डोमेन नाम का उपयोग किया जाता है। कंप्यूटर IP address का उपयोग करते हैं, जो संख्या की एक श्रृंखला है। डोमेन नाम अक्षरों और संख्याओं का कोई भी संयोजन हो सकता है, और इसका उपयोग विभिन्न डोमेन नाम एक्सटेंशन, जैसे .com, .net आदि में किया जाता है।

उपयोग करने से पहले डोमेन नाम पंजीकृत होना चाहिए। प्रत्येक डोमेन नाम यूनिक होता है। हर वेबसाइट का डोमेन नाम अलग अलग होता हैं दो वेबसाइट का डोमेन नाम एक जैसा नहीं होता हैं यदि कोई www.Computerhindinotes.com टाइप करता है, तो यह आपकी वेबसाइट पर जाएगा किसी और वेबसाइट पर नहीं।

डोमेन नाम दुनिया भर में उपयोग किए जाते हैं, विशेष रूप से नेटवर्क और डेटा संचार की दुनिया में। निम्नलिखित बिंदु बताते हैं कि वे कैसे काम करते हैं और उनका उपयोग कैसे किया जाता है:

  • डोमेन नाम के दो भाग होते हैं जिन्हें एक डॉट द्वारा अलग किया जाता है, जैसे example.com।
  • डोमेन नाम सिंगल आईपी एड्रेस या आईपी एड्रेस के समूह की पहचान करने के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • एक होस्ट या संगठन वैकल्पिक नाम के रूप में डोमेन नाम का उपयोग कर सकते हैं क्योंकि डोमेन नाम अल्फ़ान्यूमेरिक (सभी संख्याओं के विपरीत) हैं, जिससे उन्हें याद रखना आसान हो जाता है।
  • किसी वेबसाइट की पहचान करने के लिए URL के हिस्से के रूप में डोमेन नाम का उपयोग किया जाता है।
  • डॉट का अनुसरण करने वाला हिस्सा Top level Domain (TLD) या समूह है, जिसका डोमेन नाम उदाहरण के लिए, .gov अमेरिकी सरकार के डोमेन के लिए TLD है।


आपको एक डोमेन नाम की आवश्यकता क्यों है (Why do you need a domain name)

इंटरनेट पर, आपका डोमेन नाम आपकी वेबसाइट की विशिष्ट पहचान है। किसी भी व्यक्ति, व्यवसाय या संगठन को इंटरनेट उपस्थिति की योजना बनाकर डोमेन नाम में निवेश करना चाहिए। अपना स्वयं का डोमेन नाम, वेबसाइट और ईमेल पते होने से आपको और आपके व्यवसाय को प्रोफेशनल रूप मिलता हैं। व्यवसाय के लिए डोमेन नाम पंजीकृत करने का एक और कारण कॉपीराइट और ट्रेडमार्क की रक्षा करना, साख बनाना, ब्रांड जागरूकता बढ़ाना और सर्च इंजन स्थिति बनाना है।

डोमेन नाम वेबसाइट के उद्येश्य को पहचानता है। उदाहणार्थ, यहाँ .com डोमेन नाम बताता है कि यह एक व्यापारिक साइट है। इसी प्रकार लाभ न कमाने वाले संगठन .org तथा स्कूल तथा विश्वविद्यालय आदि .edu डोमेन नामो का उपयोग करते है। नीचे दी गई सूची मे URL मे सामान्यतया प्रयोग किये जाने वाले डोमेन नाम और उनका पूरा नाम बताया गया है।

Abbreviation (Extensions)
Full Forms
.comCommercial Internet Sites
.netInternet Administrative Site
.orgOrganization Site
.eduEducation Sites
.firmBusiness Site
.govGovernment Site
.intInternational Institutions
.milMilitary Site
.mobiMobile Phone Site
.intInternational Organizations site
.ioIndian Ocean (British Indian Ocean Territory)
.milU.S. Military site
.govGovernment site
.storeA Retail Business site
.webInternet site
.inIndia
.auAustralia
.aeArab Emirates
.saSaudi Arabia
.usUnited States
.ukUnited Kingdom
.khCambodia
.thThailand
.cnChina
.vnVietnam
.jpJapan
.sgSingapore
.nzNew Zealand
.myMalaysia

डोमेन नाम पंजीकरण (Domain Name Registration)

आप डोमेन नाम के रूप में किसी शब्द या वाक्यांश का उपयोग कर सकते हैं। यदि डोमेन किसी कंपनी के लिए है, तो आप अपनी कंपनी का नाम डोमेन में रख सकते हैं, इससे आपके ग्राहकों के लिए आपको इंटरनेट पर ढूंढना आसान हो जाता है।

यद्यपि एक लंबा डोमेन याद रखना कठिन है, इसमें अधिक कीवर्ड शामिल हो सकते हैं, जो महत्वपूर्ण है क्योंकि कुछ खोज इंजन किसी डोमेन नाम में कीवर्ड का उपयोग खोज एल्गोरिदम के हिस्से के रूप में करते हैं। लेकिन उन डोमेन नामों से सावधान रहें जो बहुत लंबे हैं|

वेबसाइट तैयार करने के बाद इंटरनेट पर इसकी उपस्थिति को सुनिश्चित करने के लिए साइट को अपने डोमेन नेम की आवश्यकता होती है। यूजर इस डोमेन के नाम का प्रयोग कर इंटरनेट पर आपके द्वारा उपलब्ध उत्पादों तथा सेवाओं को ढूंढने के लिए करते हैं। उदाहरण के तौर पर https://computerhindinotes.com पर आप हमारे द्वारं बनाये गए हिंदी नोट्स प्राप्त कर सकते हैं।

डोमेन के नाम का रजिस्ट्रेशन हम कई विभिन्न कंपनियों के द्वारा करवा सकते हैं। ऐसी कंपनियां जो डोमेन के नाम का रजिस्ट्रेशन करवाती हैं उन्हें ‘डोमेन रजिस्ट्रार’ कहा जाता है। डोमेन के नाम का रजिस्ट्रेशन मुख्य रूप से वही कंपनियां अपने माध्यम से करवाती हैं जिनके होस्ट सर्वर पर आप अपना वेबसाइट अपलोड करते हैं। पर पिछले कुछ समय में इस व्यवस्था में बदलाव हुआ है, अब डोमेन रजिस्टर और वेब स्पेस खरीदने के लिए आप अलग अलग कंपनी को चुन सकते हैं|


कुछ लोकप्रिय डोमेन रजिस्ट्रार (Domain Registrar) के नाम निम्नलिखित है।

  • Google
  • GoDaddy
  • NameCheap
  • ResellerClub
  • Netfirms

इनके आलावा भी लाखों ऐसी कंपनी है जिनसे आप अपना डोमेन रजिस्टर करवा सकते हैं. जब हम किसी डोमेन रजिस्ट्रार की सहायता से अपना डोमेन रजिस्टर कराते हैं तो वह हमें एक निश्चित राशि के बदले में डोमेन कंट्रोल पैनल और उसका यूजर नेम, पासवर्ड उपलब्ध कराता है। इस यूजर नेम और पासवर्ड की सहायता से हम डोमेन कंट्रोल पैनल में login करके वेब स्पेस प्रोवाइडर द्वारा दिए गए Name Server को डोमेन के साथ लिंक कर सकते हैं। वेबसाइट को चालू करने के लिए यह एक अति महत्वपूर्ण कार्य होता है

डोमेन नाम के प्रकार (Types of Domain Name)

  1. Top-level-Domains
  2. Second-level-Domains
  3. Third-level-Domains
  4. Country Domains

1. Top Level Domains

ये शीर्ष-स्तरीय डोमेन (TLD) डोमेन नाम एक्सटेंशन के रूप में जाने जाते हैं| एक TLD (Top Level Domain) एक डोमेन नाम का अंतिम घटक होता है, उदाहरण के लिए, downloads.computerhindinotes.com में “com” top level domain कहलायेगा|

1985 में, इंटरनेट असाइन्ड नंबर्स अथॉरिटी (IANA) ने छह टॉप लेवल डोमेन नाम जारी किए। जो कि निम्नलिखित थे

  1. .com – Commercial का संक्षिप्त रूप है, .com आम उपयोग में पहला  Top-level-Domain था। वैसे .com शुरू में वाणिज्यिक संगठनों (commercial organizations) द्वारा उपयोग के लिए बनाया गया था| पर 1990 के दशक के मध्य तक, .com व्यवसायों, वेबसाइटों और ईमेल के लिए सबसे लोकप्रिय और आमतौर पर इस्तेमाल किया जाने वाला  Top-level-Domain बन गया था।
  2. .net – Network का संक्षिप्त रूप है, .net स्पष्ट रूप से उन संस्थानों के लिए बनाया गया था, जो नेटवर्किंग सम्बधित कार्यों से जुड़े हुए हैं, जैसे कि इंटरनेट सेवा प्रदाता या एक इंफ्रास्ट्रक्चर कंपनी। पर धीरे धीरे यह डोमेन भी किसी भी organization द्वारा प्रयोग किया जाने लगा और यह अधिक लोकप्रिय शीर्ष-स्तरीय डोमेन में से एक बन गया, कई लोग इसे .com डोमेन का उपयोग करने के करीब दूसरे के रूप में देखते थे।
  3. .edu – Education का संक्षिप्त रूप है, .edu शिक्षण संस्थानों के लिए बनाया गया था। .edu अमेरिका के शैक्षिक केंद्रों के लिए जारी किया जाता है और अन्य देशों के शैक्षिक संस्थान अपने देश-स्तरीय डोमेन के संयोजन में .edu का उपयोग करते हैं जैसे भारत में .edu.in का प्रयोग किया जाता है|
  4. .org – Organization का संक्षिप्त रूप है, .org गैर-लाभकारी संस्थाओं के लिए बनाया गया था। जैसा कि हमने इन अन्य शीर्ष-स्तरीय डोमेन के साथ देखा है, की समय के साथ ऐसा नहीं हो पाया। इन दिनों .org का उपयोग गैर-लाभकारी संस्थाओं, लाभकारी व्यवसायों, स्कूलों और समुदायों द्वारा एक शीर्ष-स्तरीय डोमेन के रूप में किया जाता है।
  5. .mil – Military का संक्षिप्त रूप है, .mil अमेरिकी सैन्य शाखाओं के लिए स्पष्ट रूप से बनाया गया था। अन्य विभिन्न प्रकार के शीर्ष-स्तरीय डोमेन के विपरीत, यह प्रतिबंध अभी भी कायम है।
  6. .gov – Government का संक्षिप्त रूप है, यह डोमेन अमेरिका की सरकारी एजेंसियों और कर्मियों के उपयोग के लिए प्रतिबंधित है और अन्य देशों के सरकारी एजेंसियों अपने देश-स्तरीय डोमेन के संयोजन में .gov का उपयोग करते हैं जैसे भारत में .gov.in का प्रयोग किया जाता है|

2. Second Level Domains

Second level domains जैसे कि “computerhindinotes.com” और “google.com” मुख्य रूप से व्यक्तियों या संगठनों से related होते है| Second-level Domains का उपयोग hosts इंटरनेट एप्लीकेशन जैसे web hosting तथा e-mail addressing के लिये किया जाता है|

Second level domain names में 61 करैक्टर्स तक हो सकते है| कई वर्षो तक करैक्टर्स को 26 letters, 10 नंबर्स तथा hyphen करैक्टर तक सीमित रखा गया है, लेकिन पहला और आखिरी करैक्टर hyphen नहीं हो सकता था|

3. Third-level-Domains

Third Level domains उनके द्वारा डिज़ाइन किये जाते है, जिनके स्वयं के second-level domains होते है| Third Level domains का उपयोग स्पेशल purposes के लिये अलग-अलग domains को सेट अप करने के लिये किया जाता है| जैसे कि एक WEB एक्सेस तथा एक मेल के लिये एक domain या एक स्पेशल purpose के लिये अलग साइट है, जैसे –

  • www.computerhindinotes.com
  • mail.computerhindinotes.com
  • downloads.computerhindinotes.com

4. Country domains

दुनिया में हर देश का एक unique alphabetic designation के साथ हि उनका स्वयं का टॉप-लेवल डोमेन होता है | जैसे

  • .in- India
  • .au- Australia
  • .at- Austria
  • .ca- Canada
  • .us- united state

वेब-स्पेस पंजीकरण (Web-space Registration)

आजकल कई कंपनियां अपने वेब सर्वर पर यूजर की साइट के लिए स्थान उपलब्ध कराती हैं जो कंपनी सर्वर पर स्थान उपलब्ध करते हैं उन्हें ‘होस्ट सर्वर’ कहते हैं, ये कंपनी कई तकनीकी सुविधाएं उपलब्ध कराती हैं जैसे कि सॉफ्टवेयर तकनीकी सहयोग इत्यादि। एक बार जब आप अपने डोमेन के लिए वेब स्पेस का रजिस्ट्रेशन करा लेते हैं तो उसके पश्चात आप अपनी साइट की फाइलों को FTP या होस्टिंग कण्ट्रोल पैनल की सहायता से अपलोड कर सकते हैं, इसके बाद ही इन्टरनेट के माध्यम से यूजर आपकी साइट को एक्सेस कर सकते हैं|

कुछ कंपनी जो अपने सर्वर पर स्थान उपलब्ध कराती हैं वह निम्नलिखित हैं

  • GoDaddy
  • Bigrock
  • BlueHost
  • HostGatorcds
  • CyberDairy Solutions

जब हम किसी भी होस्टिंग प्रोवाइडर से अपनी वेबसाइट के लिए स्पेस खरीदते हैं तो हमें एक होस्टिंग कंट्रोल पैनल मिलता है जिसकी सहायता से हम अपनी साइड के कंटेंट को कंट्रोल कर सकते हैं।

कुछ लोकप्रिय कण्ट्रोल पैनल के नाम निम्नलिखित हैं|

  • cPanel
  • Plesk
  • Webmin
  • zPanel
error: Content is protected !!