इन्टरनेट एंड वेब पेज डिजाइनिंग

नेटवर्क क्या है और नेटवर्क के प्रकार

कंप्यूटर नेटवर्क क्या है ? (what is Computer Network)

जब एक से अधिक कंप्यूटर को किसी माध्यम के द्वारा आपस में जोड़ा जाता हैं और जानकारी को शेयर किया जाता हैं तब इस तकनीक को नेटवर्क कहा जाता हैं यह कनेक्शन तार सहित और तार रहित भी हो सकता है, Wire Medium की बात करे तो वो twisted pair cable, Coaxial cable और Fiber Optics Cable में से कुछ भी हो सकता है| अगर Wireless Medium की बात करें तो वो Radio Wave, Bluetooth, Infrared, Satellite में से कुछ भी हो सकता है|

कंप्यूटिंग में एक नेटवर्क दो या दो से अधिक डिवाइसों का समूह है जिसके द्वारा हम कम्युनिकेशन कर सकते हैं। व्यावहारिक रूप से, नेटवर्क में भौतिक और वायरलेस कनेक्शन से जुड़े कई अलग-अलग कंप्यूटर सिस्टम शामिल होते हैं। नेटवर्क कंप्यूटर, सर्वर, मेनफ्रेम, नेटवर्क डिवाइस या एक दूसरे से जुड़े हुए अन्य उपकरणों का एक संग्रह है जो आपस में डाटा शेयर करने की अनुमति प्रदान करता है। नेटवर्क का एक उत्कृष्ट उदाहरण इंटरनेट है, जो पूरे विश्व में लाखों लोगों को जोड़ता है|

नेटवर्क उपकरणों के उदाहरण (Examples of network devices)

  • डेस्कटॉप कंप्यूटर, लैपटॉप, मेनफ्रेम और सर्वर
  • कंसोल और थिन क्लाइंट (Thin Client)
  • फायरवॉल
  • ब्रिजस (Bridges)
  • रिपीटर (Repeaters)
  • नेटवर्क इंटरफ़ेस कार्ड
  • स्विचेस, केंद्र, मॉडेम और रूटर
  • स्मार्टफोन और टैबलेट
  • वेबकैम
पहला कंप्यूटर नेटवर्क कौन सा था?

ARPANET पहला पैकेट स्विचिंग का उपयोग करने वाले पहले कंप्यूटर नेटवर्क था, जिसे  1960 के दशक के मध्य में विकसित किया गया था| इसे ही आधुनिक इंटरनेट का प्रत्यक्ष पूर्ववर्ती माना जाता है| पहला ARPANET संदेश 29 Oct, 1969 को भेजा गया था।

नेटवर्क के प्रकार (Types of Network)

LAN (Local Area Network) :-

इसका पूरा नाम Local Area Network है यह एक ऐसा नेटवर्क है जिसका प्रयोग दो या दो से अधिक कंप्यूटर को जोड़ने के लिए किया जाता है| लोकल एरिया नेटवर्क स्थानीय स्तर पर काम करने वाला नेटवर्क है इसे संक्षेप में लेन कहा जाता हैं| यह एक ऐसा कंप्यूटर नेटवर्क है जो स्थानीय इलाकों जैसे- घर, कार्यालय, या भवन समूहों को कवर करता है|



विशेषताये:-

  1. यह एक कमरे या एक बिल्डिंग तक सीमित रहता है |
  2. इसकी डाटा हस्तांतरित (Data Transfer) Speed अधिक होती है |
  3. इसमें बाहरी नेटवर्क को किराये पर नहीं लेना पड़ता है |
  4. इसमें डाटा सुरक्षित रहता है |
  5. इसमें डाटा को व्यवस्थित करना आसान होता है |
    lan

MAN (Metropolitan Area Network) :-

इसका पूरा नाम Metropolitan Area Network हैं यह एक ऐसा उच्च गति वाला नेटवर्क है जो आवाज, डाटा और इमेज को 200 मेगाबाइट प्रति सेकंड या इससे अधिक गति से डाटा को 75 कि.मी. की दूरी तक ले जा सकता है| यह लेन (LAN) से बड़ा तथा वेन (WAN) से छोटा नेटवर्क होता है | इस नेटवर्क के द्वारा एक शहर को दूसरे शहर से जोड़ा जाता है |

इसके अंतर्गत दो या दो से अधिक लोकल एरिया नेटवर्क एक साथ जुड़े होते हैं. यह एक शहर के सीमाओ के भीतर का स्थित कंप्यूटर नेटवर्क होता हैं. राउटर, स्विच और हब्स मिलकर एक मेट्रोपोलिटन एरिया नेटवर्क का निर्माण करता हैं|

विशेषताये:-

  1. इसका रखरखाव कठिन होता है |
  2. इसकी गति उच्च होती है |
  3. यह 75 कि.मी. की दूरी तक फैला रहता है |
    3-man

WAN (Wide area Network) :-

इसका पूरा नाम Wide Area Network होता है | यह क्षेत्रफल की द्रष्टि से बड़ा नेटवर्क होता है| यह नेटवर्क न केवल एक बिल्डिंग, न केवल एक शहर तक सीमित रहता है बल्कि यह पूरे विश्व को जोड़ने का कार्य करता है अर्थात् यह सबसे बड़ा नेटवर्क होता है इसमें डाटा को सुरक्षित भेजा और प्राप्त किया जाता है |

इस नेटवर्क मे कंप्यूटर आपस मे लीज्ड लाइन या स्विच सर्किट के दुवारा जुड़े रहते हैं. इस नेटवर्क की भौगोलिक परिधि बड़ी होती है जैसे पूरा शहर, देश या महादेश मे फैला नेटवर्क का जाल. इन्टरनेट इसका एक अच्छा उदाहरण हैं. बैंको का ATM सुविधा वाईड एरिया नेटवर्क का उदाहरण हैं.

विशेषताये:-

  1. यह तार रहित नेटवर्क होता है|
  2. इसमें डाटा को संकेतो (Signals) या उपग्रह (Sate light) के द्वारा भेजा और प्राप्त किया जा सकता है |
  3. यह सबसे बड़ा नेटवर्क होता है |
  4. इसके द्वारा हम पूरी दुनिया में डाटा ट्रान्सफर कर सकते है |
    17d1c375cab9c86e64c0b5987e1d6fc5109739c3

नेटवर्क टोपोलॉजी (Network Topology)

नेटवर्क टोपोलॉजी, ज्यामितीय ग्राफ के संदर्भ में आपस में जुड़े उपकरणों के संबंध का वर्णन करता है| नेटवर्क में जुड़े हर डिवाइस को कोने के रूप में प्रस्तुत किया जाता है, और उनके मध्य कनेक्शन रेखाओं के द्वारा दर्शाए जाते हैं। यह वर्णन करता है कि प्रत्येक डिवाइस के कितने कनेक्शन हैं, किस क्रम में, और किस प्रकार के पदानुक्रम में हैं|

नेटवर्क टोपोलॉजी सामान्यत: निम्नलिखित प्रकार की होती है:-

  1. रिंग टोपोलॉजी (Ring Topology)
  2. बस टोपोलॉजी (Bus Topology)
  3. स्टार टोपोलॉजी (Star Topology)
  4. मेश टोपोलॉजी (Mesh Topology)
  5. ट्री टोपोलॉजी (Tree Topology)

कंप्यूटर नेटवर्क का दायरा (Scope of Computer Network)

निम्नलिखित कुछ तरीके हैं जिनसे कंप्यूटर नेटवर्क व्यवसाय के लिए फायदेमंद हो सकता है।

  1. फ़ाइल साझाकरण(File Sharing): फ़ाइल साझाकरण(File Sharing) नेटवर्क द्वारा प्रदान किया जाने वाला सबसे आम फ़ंक्शन है और इसमें सर्वर या सर्वर पर सभी डाटा  फ़ाइलों को एक साथ समूहीकृत (grouping) करना शामिल है। जब किसी संगठन की सभी डाटा  फ़ाइलों को एक स्थान पर संग्रहीत (group)किया जाता है, तो कर्मचारियों के लिए दस्तावेज़ और अन्य डाटा  साझा(share) करना आसान होता है। यह फाइलों को व्यवस्थित (systematic way) तरीके से व्यवस्थित (arrange) करने में भी मदद करता है। नेटवर्क ऑपरेटिंग सिस्टम भी केवल अधिकृत कर्मियों अर्थात ऐसे काम  करने वाले जिनको सिस्टम  पर कार्य करने का अधिकार है(authorized personnel) ऐसे लोगो के लिए इन फ़ाइलों तक पहुंच को प्रतिबंधित(restrict access) करने में मदद करता है।
  2. प्रिंट शेयरिंग  (Print Sharing): एक नेटवर्क वातावरण(network environment) में, एक प्रिंटर को कई उपयोगकर्ताओं (multiple users) द्वारा साझा किया जा सकता है। यह उन प्रिंटर की संख्या को कम कर सकता है जिन्हें संगठन को खरीदना, बनाए रखना और आपूर्ति करना चाहिए। नेटवर्क प्रिंटर अक्सर उन प्रिंटरों की तुलना में अधिक तेज़ (faster) और अधिक सक्षम (capable) होते हैं जो stand alone computers से जुड़े होते हैं।
  3. ई-मेल (E-Mail): आंतरिक (Internal) या “समूह ई-मेल(group email)” कार्यालय में कर्मचारियों को एक दूसरे के साथ जल्दी और प्रभावी ढंग से संवाद करने में सक्षम बनाता है। ग्रुप ईमेल एप्लिकेशन (Group email applications) संपर्क प्रबंधन (contact management), शेड्यूलिंग (scheduling) और कार्य सौंपने (task assignment) के लिए क्षमताओं (capabilities ) को भी प्रदान करते हैं।
  4. फैक्स शेयरिंग (Fax Sharing): जब एक साझा मॉडेम (shared modem) सीधे नेटवर्क सर्वर से जुड़ा होता है तो यह फैक्स को सीधे भेज / प्राप्त (send/receive) कर सकता है। इस सुविधा के साथ उपयोगकर्ता अपने कंप्यूटर से सीधे कागज पर मुद्रित करने की आवश्यकता के बिना (without any need for printing them on to paper) दस्तावेजों को फैक्स कर सकते हैं। इनकमिंग फैक्स भी नेटवर्क द्वारा संभाला जा सकता है और ईमेल के माध्यम से सीधे उपयोगकर्ताओं(users) के कंप्यूटरों को भेजा जा सकता है। इस सुविधा के साथ हर फैक्स की हार्ड कॉपी प्रिंट करना आवश्यक नहीं है।
  5. रिमोट एक्सेस(Remote Access): कभी-कभी कर्मचारियों को दूरस्थ स्थानों (remote locations) से अपने ईमेल, दस्तावेजों या अन्य डाटा  तक पहुंचने  की आवश्यकता हो सकती है। इस सुविधा की मदद से उपयोगकर्ता टेलीफोन के माध्यम से अपने संगठन के नेटवर्क (organization’s network) में डायल(dial) कर सकते हैं और सभी नेटवर्क संसाधनों(network resources) तक पहुंच सकते हैं जैसे कि वे कार्यालय में हैं।
  6. साझा डाटा बेस( Shared Databases): यह फ़ाइल साझाकरण (file sharing) का एक सबसेट (subset) है। यदि संगठन (organization) एक व्यापक डाटा बेस (extensive database) रखता है – उदाहरण के लिए, सदस्यता (membership), ग्राहक(client), अनुदान (grants) या वित्तीय लेखांकन डाटा बेस (financial accounting database ) – एक नेटवर्क एक ही समय में कई उपयोगकर्ताओं(multiple users at the same time) को डाटा बेस उपलब्ध कराने का एकमात्र प्रभावी तरीका (effective way) है|
  7. दोष सहिष्णुता (Fault Tolerance): दोष सहिष्णुता (Fault Tolerance) की स्थापना एक प्रक्रिया है जो यह सुनिश्चित करती है, कि आकस्मिक डाटा  हानि (accidental data loss) के खिलाफ रक्षा की कई लाइनें हों। आकस्मिक डाटा  हानि (accidental data loss) का एक उदाहरण हार्ड ड्राइव की विफलता या गलती से किसी फ़ाइल को हटाना (hard drive failure or someone deleting a file by mistake) हो सकता है। एक नेटवर्क में निरर्थक हार्डवेयर (redundant hardware), टेप लाइब्रेरी, यूपीएस आदि  प्रबंधन (maintenance) से इसे रोका जा सकता है।
  8. इंटरनेट एक्सेस और सुरक्षा(Internet Access and Security): जब कंप्यूटर नेटवर्क से जुड़े (network connected) होते हैं, तो वे इंटरनेट से एक सामान्य नेटवर्क कनेक्शन साझा (share) कर सकते हैं। यह वर्ल्ड वाइड वेब पर उपलब्ध संसाधनों के लिए ईमेल, दस्तावेज़ हस्तांतरण और पहुँच (access to the resources) की सुविधा प्रदान करता है।
  9. संचार और सहयोग (Communication and collaboration): एक नेटवर्क कर्मचारियों को फाइलें साझा करने (employees to share files), अन्य लोगों के काम को देखने (view other people’s work) और विचारों को अधिक कुशलता से आदान-प्रदान (exchange) करने में मदद करता है। एक बड़े कार्यालय में कोई भी ई-मेल (e-mail) और इंस्टेंट मैसेजिंग (instant messaging ) टूल का उपयोग कर सकता है ताकि वह जल्दी से संवाद (communicate quickly) कर सके और भविष्य के संदर्भ (future reference) के लिए संदेशों को संग्रहित (store) कर सके।
  10. संगठन(Organization): नेटवर्क शेड्यूलिंग सॉफ़्टवेयर (Network scheduling software) हर किसी के शेड्यूल की लगातार जाँच किए बिना मीटिंग की व्यवस्था करने में मदद करता है। इस सॉफ़्टवेयर में आमतौर पर अन्य सहायक सुविधाएँ शामिल हैं जैसे साझा पता पुस्तिकाएं (shared address books), टू-डू सूचियाँ(to-do lists), आदि।

कंप्यूटर नेटवर्क का उपयोग करने के लाभ (Benefits of using a computer network)

जैसे-जैसे व्यवसाय बढ़ता है, कर्मचारियों के बीच अच्छे संचार(good communication) की आवश्यकता होती है। संगठन (Organization) कंप्यूटर नेटवर्क पर सामान्य फ़ाइलें, डाटा बेस और व्यावसायिक अनुप्रयोग सॉफ़्टवेयर(business application software) जैसी जानकारी साझा(sharing information ) करके दक्षता(efficiency) में सुधार कर सकते हैं।

नेटवर्क का उपयोग करने के लाभ निम्नलिखित हैं:

  1. संचार में सुधार कर सकते हैं (Can improve communication): संगठन (Organization) अपने कंप्यूटरों को जोड़ने और मानकीकृत प्रणालियों (standardized systems) पर काम करके संचार में सुधार कर सकते हैं, ताकि:
    • कर्मचारी (Staff), आपूर्तिकर्ता (suppliers) और ग्राहक (customers) अपनी जानकारी साझा कर सकते हैं और एक दूसरे के साथ अधिक आसानी से संपर्क कर सकते हैं,
    • सूचना साझा करना (Information sharing) व्यवसाय को और अधिक कुशल (efficient) बना सकता है – उदा। एक नेटवर्क में एक आम डाटा बेस में संग्रहीत फ़ाइल साझा करना संभव है। इससे हम एक ही डाटा  को कई बार कुंजीबद्ध (being keyed) होने से बचा सकते हैं, जिससे समय बर्बाद होगा और परिणाम में त्रुटियां हो सकती हैं|
    • कर्मचारी प्रश्नों को बेहतर तरीके से संभाल सकते हैं। इसलिए, वे अपने ग्राहकों को सेवा की बेहतर गुणवत्ता प्रदान कर सकते हैं।
  2. लागत कम करना और दक्षता में सुधार करना (Reduce costs and improve efficiency): एक केंद्रीकृत डाटा बेस (one centralized database) में जानकारी संग्रहीत करने और कार्य को व्यवस्थित करने से (streamlining working practices), संगठन (organisation) लागत (costs) को कम कर सकता है और दक्षता (efficiency) में सुधार कर सकता है।

    इसके साथ:

    • कर्मचारी (Staff ) एक ही समय में अधिक से अधिक ग्राहकों से निपट (deal )सकते हैं।
    • नेटवर्क प्रशासन(Network administration) को केंद्रीकृत(centralised) किया जा सकता है। तो, कम आईटी समर्थन(less IT support) की आवश्यकता है।
    • बाह्य उपकरणों(output devices ) जैसे प्रिंटर, स्कैनर, बाहरी डिस्क(external discs), टेप ड्राइव और इंटरनेट एक्सेस(Internet access) साझा करके लागत को कम(reduced) किया जा सकता है।
  3. त्रुटियों में कमी (Reduction in errors): सभी कर्मचारी सूचना के एक ही स्रोत से काम कर सकते हैं। इसलिए, संगठन त्रुटियों को कम कर सकते हैं और स्थिरता में सुधार (improve consistency) कर सकते हैं क्योंकि मैनुअल और निर्देशिकाओं (manuals and directories) के मानक संस्कर ण(standard versions) उपलब्ध कराए जा सकते हैं और डाटा के निर्धारित आधार पर एकल बिंदु (single point) से बैकअप ( backed up) लिया जा सकता है। यह स्थिरता(consistency) सुनिश्चित करता है।

सिलेबस के अनुसार नोट्स
DCA, PGDCA, O Level, ADCA, RSCIT, Data Entry Operator
यहाँ क्लिक करें


Rs. 50 जीतने का मौका
सब्सक्राइब करें और जीतें
यहाँ क्लिक करें