Internet of Things (IoT) क्या है?

what is internet of things

इन्टरनेट ऑफ़ थिंग्स  (Internet Of Things) इन्टरनेट पर उपलब्ध भौतिक वस्तुओ (physical objects) का एक नेटवर्क है जो कि सेंसर, सॉफ्टवेयर और दूसरी तकनीकों के साथ एम्बेडेड है जिससे इन्टरनेट पर उपलब्ध दूसरे उपकरणों (devices) को जोड़ा जा सके और डेटा का आदान प्रदान किया जा सके| इस post में हम IoT के बारे में विस्तार से जानेगे|

IoT क्या है?

इन्टरनेट ऑफ थिंग्स (IoT) भौतिक वस्तुओं (physical objects) या लोगो द्वारा कहे जाने वाले “चीजें (things)” का एक नेटवर्क है जो सॉफ्टवेयर, इलेक्ट्रॉनिक्स, नेटवर्क और सेंसर के साथ एम्बेडेड है जो इन वस्तुओं को डेटा एकत्र करने और एक्सचेंज करने की अनुमति देता है। IoT का लक्ष्य कंप्यूटर, मोबाइल, टैबलेट जैसे मानक उपकरणों से अपेक्षाकृत कम स्मार्ट उपकरणों (dumb devices) जैसे toaster तक इन्टरनेट कनेक्टिविटी (internet connectivity) का विस्तार करना है।

IoT डेटा संग्रह (data collection), AI एल्गोरिथम और नेटवर्क की शक्ति के साथ हमारे जीवन के पहलुओं में सुधार करके लगभग हर चीज़ को “smart” बनाता|

इस IoT ट्यूटोरियल में, हम विभिन्न IoT अवधारणाओं जैसे IoT कॉन्सेप्ट्स (IoT concepts), IoT परिचय (IoT introduction), IoT के मूल सिद्धांत (fundamentals of IoT) आदि सीखेंगे।

IoT का इतिहास (History of IoT)

1970– जुड़े उपकरणों (connected devices) का वास्तविक विचार प्रस्तावित किया गया था|

1990– John Romkey ने एक toaster बनाया जिसे इन्टरनेट पर चालू/बंद (turned on/off) किया जा सकता था|

1995– Siemens ने M2M . के लिए निर्मित पहला सेलुलर मॉड्यूल पेश किया|

1999– “इन्टरनेट ऑफ थिंग्स (Internet of Things)” शब्द का इस्तेमाल केविन एश्टन (Kevin Ashton) ने P&G में अपने काम के दौरान किया था जिसे व्यापक रूप से स्वीकार किया गया था|

2004 – गार्जियन, बोस्टन ग्लोब और साइंटिफिक अमेरिकन जैसे प्रसिद्ध प्रकाशनों में इस शब्द का उल्लेख किया गया था|

2005- UN के अंतर्राष्ट्रीय दूरसंचार संघ ( International Telecommunications Union (ITU)) ने इस विषय पर अपनी पहली रिपोर्ट प्रकाशित की।

2008– Internet of Things (IOT)का जन्म हुआ|

2011– मार्केट रिसर्च कंपनी गार्टनर ने अपने शोध में “The Internet of Things” तकनीक को शामिल किया|

IoT कैसे काम करता है? (How IoT Works)

पूरी IoT प्रक्रिया स्मार्टफोन, स्मार्टवॉच, इलेक्ट्रॉनिक उपकरण जैसे टीवी, वॉशिंग मशीन जैसे उपकरणों से शुरू होती है जो आपको IoT प्लेटफॉर्म के साथ संवाद (communicate) करने में मदद करती है। अब हम IoT सिस्टम के चार मूलभूत घटकों के बारे में जानेंगे:

1. सेंसर/डिवाइस (Sensors/Devices)

सेंसर या डिवाइस एक प्रमुख घटक हैं जो आपको आसपास के वातावरण से लाइव डेटा एकत्र करने में मदद करते हैं। इस data में जटिलता के विभिन्न स्तर हो सकते हैं। यह एक साधारण तापमान निगरानी सेंसर (simple temperature monitoring sensor) हो सकता है, या यह वीडियो फीड (video feed) के रूप में हो सकता है।

एक उपकरण में विभिन्न प्रकार के सेंसर हो सकते हैं जो संवेदन के अलावा कई कार्य करते हैं। उदाहरण, मोबाइल फोन एक ऐसा उपकरण है जिसमें जीपीएस (GPS), कैमरा जैसे कई सेंसर होते हैं|

2. कनेक्टिविटी (Connectivity)

सभी एकत्रित डेटा (collected data) को क्लाउड इंफ्रास्ट्रक्चर (cloud infrastructure) में भेजा जाता है। संचार के विभिन्न माध्यमों का उपयोग करके सेंसर को क्लाउड से जोड़ा जाना चाहिए। इन संचार माध्यमों में मोबाइल या सैटेलाइट नेटवर्क (satellite networks), ब्लूटूथ (Bluetooth), WI-FI, WAN आदि शामिल हैं।

3. डेटा प्रोसेसिंग (Data Processing)

एक बार जब वह डेटा एकत्र हो जाता है, और यह क्लाउड पर पहुंच जाता है, तो सॉफ्टवेयर एकत्रित डेटा पर प्रोसेसिंग करता है। यह प्रक्रिया केवल तापमान की जांच (checking the temperature)कर सकती है और  एसी (AC) या हीटर (heater) जैसे उपकरणों पर उसे रीड किया जा सकता है । हालाँकि, यह कभी-कभी बहुत जटिल भी हो सकता है जैसे कि वीडियो पर कंप्यूटर विज़न का उपयोग करके वस्तुओं (objects) की पहचान करना।

4. यूजर इंटरफेस (User Interface)

जानकारी को अंतिम उपयोगकर्ता के लिए किसी तरह उपलब्ध होना चाहिए जो उनके फोन पर अलार्म ट्रिगर करके या उन्हें ईमेल या टेक्स्ट संदेश के माध्यम से अधिसूचना (notification) भेजकर प्राप्त किया जा सके। उपयोगकर्ता को कभी-कभी एक इंटरफ़ेस (interface) की आवश्यकता हो सकती है जो सक्रिय रूप से उनके IoT सिस्टम की जाँच करता है।

उदाहरण के लिए, उपयोगकर्ता के घर में एक कैमरा स्थापित है। वह वेब सर्वर की मदद से वीडियो रिकॉर्डिंग और सभी फीड (feeds) एक्सेस करना चाहता है।

हालांकि, यह हमेशा एकतरफा संचार (communication) नहीं होता है। IoT एप्लिकेशन और सिस्टम की जटिलता के आधार पर, उपयोगकर्ता एक क्रिया (action) करने में सक्षम हो सकता है जो कैस्केडिंग प्रभाव (cascading effects) पैदा कर सकता है।

उदाहरण के लिए, यदि कोई उपयोगकर्ता रेफ्रिजरेटर के तापमान में किसी भी बदलाव का पता लगाता है, तो IoT तकनीक के द्वारा उपयोगकर्ता को अपने मोबाइल फोन की मदद से तापमान को समायोजित (adjust) करने में सक्षम होना चाहिए।

IoT अनुप्रयोग (IoT Applications)

1. स्मार्ट थर्मोस्टैट्स (Smart Thermostats)

आपके उपयोग के पैटर्न (usage pattern) को जानकर आपको हीटिंग बिलों (heating bills) पर संसाधन (resource) बचाने में मदद करता है।

2. कनेक्टेड कार Connected Cars

IoT ऑटोमोबाइल कंपनियों को बिलिंग, पार्किंग, बीमा, और अन्य संबंधित सामान को स्वचालित रूप से संभालने में मदद करता है।

3. गतिविधि ट्रैकर्स (Activity Trackers)

आपकी कलाई पर हृदय गति पैटर्न, कैलोरी व्यय, गतिविधि स्तर और त्वचा के तापमान को पकड़ने में आपकी सहायता करता है।

3. स्मार्ट आउटलेट (Smart Outlets)

स्मार्ट आउटलेट दूर से किसी भी डिवाइस को चालू या बंद कर सकते हैं। यह आपको डिवाइस के ऊर्जा स्तर (device’s energy level) को ट्रैक करने और सीधे आपके स्मार्टफोन में कस्टम सूचनाएं प्राप्त करने की अनुमति देते है।

error: Content is protected !!