Computer Fundamentals

Cache memory (कैश मेमोरी)

Cache memory (कैश मेमोरी)

यह एक विशेष प्रकार की तीव्र गति की मेमोरी होती है जो कि कंप्यूटर की प्रोसेसिंग की गति को बढ़ा देती है| C.P.U. की गति अधिक होती है लेकिन RAM की गति कम होने के कारण CPU व RAM के मध्य डेटा स्थानांतरण की गति कम हो जाती है कैश मेमोरी की गति अधिक होती है यह CPU को अधिक तेज गति से डाटा उपलब्ध करा देती है उसी प्रकार CPU से प्रोसेस के डाटा को तीव्र गति से ग्रहण भी कर लेती है इससे पूरे कंप्यूटर का एक्सेस टाइम कम हो जाता है अर्थात कंप्यूटर की गति बढ़ जाती है|


कैश मेमोरी (Cache Memory) आकार में बहुत छोटी लेकिन कंप्‍यूटर की मुख्‍य मेमोरी से बहुत ज्‍यादा तेज होती है, इसे सीपीयू की मैमोरी भी कहा जाता है जिन प्रोग्राम और निर्देशों का बार-बार इस्‍तेमाल किया जाता है उनको कैश मेमोरी (Cache Memory) अपने अंदर सुरक्षित कर लेती है, प्रोसेसर कोई भी डाटा प्रोसेस करने से पहले कैश मेमोरी (Cache Memory) को चैक करता है और अगर वह फाइल उसे वहां नहीं मिलती है तो उसके बाद वह रैम यानि प्राइमरी मेमरी को चैक करता है |

 

 


Memory Access time (मेमोरी एक्सेस टाइम)

मेमोरी की एक लोकेशन को पढ़ने या लिखने में जो समय लगता है Memory Access time (मेमोरी एक्सेस टाइम) कहलाता है एक्सेस टाइम जितना कम होता है कंप्यूटर की गति इतनी अधिक होती है|

Memory cycle time (मेमोरी साइकल टाइम)

दो स्वतंत्र कार्यों को शुरू करने के मध्य का समय Memory cycle time(मेमोरी साइकल टाइम) कहलाता है

मेमोरी साइकल टाइम मेमोरी एक्सेस टाइम से थोड़ा अधिक होता है क्योंकि दो कार्यों के मध्य टाइम डिले (पहले कार्य के खत्म होने व दूसरे कार्य को शुरू करने के मध्य का समय) भी शामिल होता है

memory cycle time = memory access time + time delay

Latest update on Whatsapp




Download our Android App

Computer Hindi Notes Android App