Multimedia

Color Science in Multimedia

Color Science in Multimedia (रंग विज्ञान)

Color मल्टीमीडिया का एक अहम भाग है रंगों से images को गहराई मिलती है, images को आकर्षक बनाया जा सकता है और इनसे images को बैकग्राउंड से अलग करके देखा जा सकता है| color या ग्रे स्केल हमारे जीवन का भी हिस्सा है हम अपने वाक्यों में भी रंगों का विवरण जोड़ते हैं जैसे लड़की ने लाल color की साड़ी पहनी है, आकाश का color नीला है, घास हरे color की है इत्यादि|


प्रकाश परमाणु से आता है जब इलेक्ट्रॉन उच्च से निम्न ऊर्जा स्तर की ओर बढ़ते हैं| प्रत्येक परमाणु अलग एवं विशेष color उत्पन्न करता है इससे क्वांटम सिद्धांत कहा जाता है| यह सिद्धांत भौतिकविद मैक्स प्लैंक (Max Planck) के द्वारा 19वी शताब्दी में विकसित हुआ था| नील्स बोर (Neils Bohr), एक अन्य भौतिकविद के बाद में यह दिखाया कि एक सक्रिय परमाणु जिसने ऊर्जा का अवशोषण किया है और जिसके इलेक्ट्रॉन उच्च कक्षों (orbits) में चले गए हैं वो अब क्वांटा या फोटोंस के रूप में ऊर्जा को बाहर फेकेंगे, जब तक कि यह एक स्थिर स्थिति में ना आ जाए| यहीं से प्रकाश की उत्पत्ति होती है| color विज्ञान कुछ उद्योगों जैसे डिजिटल प्रिंटिंग एवं प्रिंटर्स का उत्पादन, फोटो फर्निशिंग, मेडिकल इमेजिंग, रिमोट सेंसिंग, सर्वेइंग, एस्ट्रोनॉमी एवं विज्ञान के कई अन्य क्षेत्रों में एक महत्वपूर्ण विषय है|

color विज्ञान आपको रंगों को मापने एवं उन्हें मानव दृष्टि तंत्र के अनुसार बदलने की अनुमति देता है जो एक डिवाइस characterization स्टेप के साथ शुरू होती है| डिवाइस characterization हमें यह समझने की अनुमति देता है कि कैसे कोई डिवाइस रंगों के प्रति प्रतिक्रिया देता है या किसी जाने-माने सिग्नल से रंगों को तैयार करती है| एक बार जब कोई डिवाइस सभी संभावित सिग्नल रेंज का प्रयोग करके characterized हो जाती है तब एक model तैयार किया जा सकता है जो input signals को manipulate करें और उन्हें नए सिग्नल्स में ट्रांसफार्म करें जो वांछित रिजल्ट दे सके इनपुट आउटपुट एवं मध्यवर्ती डिस्प्ले डिवाइसेस के बीच रंगों को उत्पन्न करने की व्यवस्था या प्रबंधन को कलर मैनेजमेंट कहा जाता है|

रंगों की मापन प्रणाली को Cliometric कहां जाता है जो एक आधार तैयार करती है जहां से रंगों को manipulate किया जा सकता है Mathematics models जो मानव दृष्टि तंत्र के अंतर्गत आते हैं हमें रंगों को संख्यात्मक रूप से परिभाषित करने एव कच्चे Spectrum मापो से रंगों को लाकर अंदाज से गणना करने की अनुमति प्रदान करते हैं|
जैसे-जैसे उद्योगों की प्रतिक्रिया ग्राहकों की मांग के अनुसार अधिकांश उत्पादों में रंगों की गुणवत्ता बढ़ाने के लिए होती हैं| उसी तरह से color विज्ञान का महत्व इन उत्पादों के विकास में और भी बढ़ता जाता है|





Latest update on Whatsapp

Download our Android App

Computer Hindi Notes Android App