सी प्रोग्रामिंग सी++ प्रोग्रामिंग

लाइब्रेरी फाइल एवं बिल्ट-इन-फंक्शन

लाइब्रेरी फाइल एवं बिल्ट-इन-फंक्शन (Library files and In-Built Functions)

‘सी’ प्रोग्रामिंग भाषा में दो प्रकार के फंक्शन प्रयोग किए जाते हैं। प्रथम प्रयोगकर्ता द्वारा फंक्शन एवं द्वितीय बिल्ट-इन-फंक्शन जैसे- scanf(), getc आदि।

‘सी’ प्रोग्रामिंग भाषा में बिल्ट-इन- फंक्शन एक निश्चित फाइल में उपलब्ध होते हैं। इन्हें हैडर फाइल कहा जाता है। इन सभी फंक्शनो के प्रयोग से पहले फंक्शन से सम्बन्धित फाइल को include करना होता है। एक प्रोग्राम में हम एक से ज्यादा हैडर फाइलों का भी प्रयोग कर सकते है। इसके लिए हमेँ एक से ज्यादा include स्टेटमेन्ट प्रयोग करने पड़ते है।


C में कार्यं करने के लिए निम्नलिखित हैडर फाइलों का होना आवश्यक है।

  • ctype.h
  • math.h
  • stdio.h
  • stdlib.h
  • string.h
  • time.h

ctype.h फाइल में प्रयुक्त फंक्शन (Functions used in ctype.h)

  • isalnum(char) – इस फंक्शन का प्रयोग अक्षर को alphanumeric जांचने के लिए किया जाता है। आर्ग्यूमेंट यदि alphanumeric है तो non-zero अन्यथा zero लौटाता है।
  • inalpha (char) – इस फंक्शन का प्रयोग अक्षर को alphabetic जांचने के लिए किया जाता है। आर्ग्यूमेंट यदि alphabetic है तो non-zero अन्यथा zero लौटता है।
  • isascii (char) – इस फंक्शन का प्रयोग आर्ग्यूमेंट को ASCII अक्षर जांचने के लिए किया जाता है यदि आर्ग्यूमेंट ASCII अक्षर है तो non-zero अन्यथा zero लौटता है।
  • Incntrl(char) – इस फंक्शन का प्रयोग आर्ग्यूमेंट को ASCII Control अक्षर जांचने के लिए किया जाता है। यदि आर्ग्यूमेंट ASCII Control अक्षर है तो non zero अन्यथा zero लौटता है।
  • Isdigit(char) – इस फंक्शन का प्रयोग आर्ग्यूमेंट में दिए गए मान को संख्या से जाचने के लिए किया जाता है। यदि आर्ग्यूमेंट संख्या है तो non-zero अन्यथा zero लौटाता है।
  • Islower(char) इस फंक्शन का प्रयोग आर्ग्यूमेंट में दिए गए मान को case जांचने के लिए किया जाता है। यदि आर्ग्यूमेंट lower case अक्षर है तो non zero  अन्यथा zero लौटाता  है।
  • isupper(char) – इस फंक्शन का प्रयोग आर्ग्यूमेंट में दिए गए मान को case जांचने के लिए किया जाता है। यदि आर्ग्यूमेंट upper case अक्षर  है तो non zero  अन्यथा zero लौटाता  है।
  • isodigit(char) – इस  फंक्शन का प्रयोग आर्ग्यूमेंट में दिए गए मान को octal digit से जांचने के लिए किया जाता है। यदि आर्ग्यूमेंट octal digit है तो non zero  अन्यथा zero लौटाता  है।
  • isxdigit(char) – इस  फंक्शन का प्रयोग आर्ग्यूमेंट में दिए गए मान को hexadecimal digit  से जांचने के लिए किया जाता है। यदि आर्ग्यूमेंट hexadecimal digit  है तो non zero  अन्यथा zero लौटाता  है।
  • isprint(char) – इस फंक्शन का प्रयोग आर्ग्यूमेंट में दिए गए अक्षर के ASCII मान की प्रिंटिंग जांचने के लिए किया जाता है। यदि आर्ग्यूमेंट प्रिंट हो सकता है तो non zero  अन्यथा zero लौटाता  है।
  • ispunct(char) – इस फंक्शन का प्रयोग आर्ग्यूमेंट में दिए गए मान को Punctuation अक्षर से जांचने के लिए किया जाता है। यदि आर्ग्यूमेंट Punctuation अक्षर है तो non zero  अन्यथा zero लौटाता  है।
  • ispace(char) – इस फंक्शन का प्रयोग आर्ग्यूमेंट में दिए गए मान को Space  से जांचने के लिए किया जाता है। यदि आर्ग्यूमेंट Space अक्षर है तो non zero  अन्यथा zero लौटाता  है।
  • toascii(char) – इस  फंक्शन का प्रयोग आर्ग्यूमेंट में दिए गए मान को ASCII मान में बदलने के लिए किया जाता है।
  • tolower(char) – इस  फंक्शन का प्रयोग आर्ग्यूमेंट में दिए गए मान को lower case में बदलने के लिए किया जाता है।
  • toupper(char) – इस  फंक्शन का प्रयोग आर्ग्यूमेंट में दिए गए मान को upper case में बदलने के लिए किया जाता है।

math.h फाइल में प्रयुक्त फंक्शन

  • acos(double) – इस फंक्शन का प्रयोग आर्ग्यूमेंट में दिए गए मान का cosine मान ज्ञात करने के लिए किया जाता है।
  • Asin(double) – इस  फंक्शन का प्रयोग आर्ग्यूमेंट में दिए गए मान का sine  मान ज्ञात करने के लिए किया जाता है।
  • atan(double) – इस फंक्शन का प्रयोग आर्ग्यूमेंट में दिए गए मान का tengent  मान ज्ञात करने के लिए किया जाता है।
  • Atan2(double1,double2) – इस  फंक्शन का प्रयोग आर्ग्यूमेंट में दिए गए मान double1/double2 मान ज्ञात करने के लिए किया जाता है।
  • ceil(double) – इस फंक्शन का प्रयोग संख्या को अगले मबसे अधिक पूर्णांक से rounded करने के लिए किया जाता है।
  • Cos(double) – इस  फंक्शन का प्रयोग आर्ग्यूमेंट में दिए गए मान का cosine मान ज्ञात करने के लिए किया जाता है।
  • cosh(double) – इस फंक्शन का प्रयोग आर्ग्यूमेंट में दिए गए मान का hyperboloc cosine मान ज्ञात करने के लिए किया जाता है।
  • exp(double) – इस फंक्शन का प्रयोग e की पावर P ज्ञात करने के लिए किया जाता है।
  • fabs(double) – इस फंक्शन का प्रयोग आर्ग्यूमेंट में दिए गए double मान मान की Absolute value ज्ञात करने के लिए किया जाता है।
  • floor(double) – इस फंक्शन का प्रयोग संख्या को अगले सबसे कम पूर्णांक से rounded करने के लिए किया जाता है।
  • Fmod(d1,d2) – इस फंक्शन का प्रयोग d1/d2 का भाग शेष ज्ञात करने के लिए किया जाता है ।
  • Labs(long) – इस फंक्शन का प्रयोग आर्ग्यूमेंट  का Absolute मान ज्ञात करने के लिए किया जाता है।
  • log(double) – इस फंक्शन का प्रयोग logarithm संख्या ज्ञात करने के लिए किया जाता है।
  • pow(double1,double2) – इस फंक्शन का प्रयोग double1 की पावर double2 ज्ञात करने के लिए किया जाता है।
  • sin(double) – इस फंक्शन का प्रयोग sine मान ज्ञात करने के लिए किया जाता है।
  • sinh(double) – इस फंक्शन का प्रयोग hyperbolic sine मान ज्ञात करने के लिए किया जाता है।
  • sqrt(double) – इस फंक्शन का प्रयोग संख्या का वर्ग करने के लिए किया जाता है।
  • tan(double) – इस फंक्शन का प्रयोग संख्या का tangent मान ज्ञात करने के दिए किया जाता है।
  • tanh(double) – इस फंक्शन का प्रयोग संख्या का hyperbolic tangent मान ज्ञात करने के दिए किया जाता है।

stdio.h फाइल में प्रयुक्त फंक्शन

  • Fclose(file_pointer) – इस फंक्शन का प्रयोग फाइल को बंद करने के लिए किया जाता है। यदि फाइल सही प्रकार बंद होती है तो यह zero लौटाता है।
  • Feof(file_pointer) – इस फंक्शन का प्रयोग फाइल को पढ़ते समय फाइल की स्थिति ज्ञात करने के लिए किया जाता है। यदि file­_pointer फाइल के अंत में है तो यह non-zero अन्यथा zero लौटाता है।
  • fgetc(file_pointer) – इस फंक्शन का प्रयोग फाइल से अक्षर पढ़ने के लिए किया जाता है।
  • fgets(string,integer,file_pointer)- इस फंक्शन का प्रयोग फाइल से स्ट्रिंग पढ़ने के लिए किया जाता है। यह फंक्शन file_pointer से स्ट्रिंग पढ़कर स्ट्रिंग में स्टोर करता है जिसकी अधिकतम संख्या integer होती है।
  • fopen(file_pointer) – इस फंक्शन का प्रयोग फाइल को विभिन्न mode मेँ खोलने के लिए प्रयोग किया जाता है।
  • fprintf(file_pointer) – इस फंक्शन का प्रयोग फाइल में विभिन्न प्रकार के मानों को लिखने के लिए किया जाता है।
  • Fputc(char,file_pointer) – इस फंक्शन का प्रयोग फाइल में विभिन्न प्रकार के मानों को लिखने के लिए किया जाता है।
  • Fputs(string,file_pointer) – इस फंक्शन का प्रयोग फाइल में अक्षर लिखने के किया जाता है।
  • Fscan(file_pointer,long,integer) – इस फंक्शन का प्रयोग file_pointer द्वारा विभिन्न प्रकार के मानों को पढने के लिए किया जाता है।
  • Fseek(file_pointer,long,integer) – इस फंक्शन का प्रयोग file_pointer की स्थिति integer से बदलकर long तक खिसकाने के लिए किया जाता है।
  • Ftell(file_pointer) – इस फंक्शन का प्रयोग file_pointer की स्थिति जांचने के लिए किया जाता है। यह फंक्शन long प्रकार का मान लौटाता है।
  • Getc(file_pointer) – इस फंक्शन का प्रयोग फाइल से अक्षर पढने के लिए किया जाता है।
  • Getchar(void) – इस फंक्शन का प्रयोग standard input device से अक्षर पढने के लिए किया जाता है।
  • Gets(string) – इस फंक्शन का प्रयोग standard input device से स्ट्रिंग पढ़ने के लिए किया जाता है।
  • Printf(….) – इस फंक्शन का प्रयोग standard input device पर स्ट्रिंग लिखने के लिए किया जाता है।
  • Putc(char,file_pointer) – इस फंक्शन का प्रयोग फाइल में अक्षर लिखने के लिए किया जाता है।
  • Putchar(char) – इस फंक्शन का प्रयोग standard input device पर अक्षर लिखने के लिए किया जाता है।
  • Puts(string) – इस फंक्शन का प्रयोग standard input device पर न्यू लाइन अक्षर के साथ स्ट्रिंग को लिखने के लिया जाता है।
  • Rewind(file_pointer) – इस फंक्शन का प्रयोग file_pointer को फाइल की प्रथम बाइट पर पहुंचाने के लिए किया जाता है।
  • Scanf(- .) – इस फंक्शन का प्रयोग standard input device द्वारा अक्षर पढ़ने के लिए किया जाता है।

stdio.h फाइल में प्रयुक्त फंक्शन

  • Abs(integer) – इस फंक्शन का प्रयोग integer मान की absolute value ज्ञात करने के लिए किया जाता है।
  • Atoi(string) – इस फंक्शन का प्रयोग string को double प्रकार की संख्या में बदलने के लिए किया जाता है। यह फंक्शन integer प्रकार का मान लौटाता हैं।
  • Atof(string) – इस फंक्शन का प्रयोग string को double प्रकार की संख्या में बदलने के लिए किया जाता है।
  • Atol(string) – इस फंक्शन का प्रयोग स्ट्रिंग को long प्रकार की संख्या में बदलने के लिए किया जाता हैं।
  • Calloc(u1,u2) – इस फंक्शन का प्रयोग मैमोरी में u1 elements का स्पेस बनाने के लिए प्रयोग किया जाता है जिनको संख्या u2 है। यह फंक्शन बनाये गए स्पेस का base address लौटाता है।
  • Exit(u) – इस फंक्शन का प्रयोग प्रोग्राम का कार्यान्वयन समाप्त करने के लिए किया जाता है। u समापन का status निर्धारित करता है।
  • Free(pointer) – इस फंक्शन का प्रयोग बनाई गई मैमोरी को रिक्त करने के लिए किया जाता है जिसका सूचकांक pointer है।
  • malloc(integer) – इस फंक्शन का प्रयोग integer बाइटूस का स्पेस बनाने के लिए प्रयोग किया जाता है।
  • Rand(void) – इस फंक्शन का प्रयोग random positive पूर्णाक ज्ञात करने के लिए किया जाता है।
  • Reallc(pointer,u) – इस फंक्शन का प्रयोग बनाई गई मैमोरी का आकार दलने के लिए किया जाता है।
  • System(string) – इस फंक्शन का प्रयोग ऑपरेटिंग सिस्टम पर स्ट्रिंग पास करने के लिए किया जाता है यदि कमांड सही प्रकार execute होती है तो यह zero अन्यथा non zero मान लौटाता है।

String.h फाइल में प्रयुक्त फंक्शन

  • strcmp(string1,string2) – इस फंक्शन का प्रयोग दो स्ट्रिंग string1 एवं string2 को lexicographically जांचने के लिए किया जाता है। यदि string1, string2 के बराबर है तो यह शुन्य लौटाता है। यदि string1, string2 से छोटी है तो ऋणात्मक मान लौटाता है और यदि string1, string2 से बडी है तो यह धनात्मक मान लौटाता है।
  • Strcmpi(string1,string2) – इस फंक्शन का प्रयोग दो स्ट्रिंग string1 एवं string2 को बिना case को ध्यान में रखे lsxicographically जांचने के लिए किया जाता है। यदि string1, string2 के बराबर है तो यह शून्य लौटाता है। यदि string1, string2  से छोटी है तो यह ऋणात्मक मान लौटाता  है और यदि string1, string2 से बड़ी है तो यह धनात्मक मान लौटाता है।
  • Strcpy(string1,string2) – इस फंक्शन का प्रयोग string2 को string1 में कॉंपी करने के लिए किया जाता है।
  • Strlen(string) – इस फंक्शन का प्रयोग स्ट्रिंग की लम्बाई ज्ञात करने के लिए किया जता है।
  • Strset(string,char) – इस फंक्शन का प्रयोग स्ट्रिंग के प्रत्येक अक्षर में char स्टोर करने के लिए किया जाता है।

Time.h फाइल में प्रयुक्त फंक्शन

  • Time(variable) – इस फंक्शन का प्रयोग वर्तमान समय को long int प्रकार के परिवर्तनांक में स्टोर करने के लिए किया जाता है।
  • Diftime(variable,variable) – -इस फंक्शन का प्रयोग दो विभिन्न समय के बीच अंतर ज्ञात करने के लिए किया जाता है। यह फंक्शन long int प्रकार का मान लौटाता है|

ये भी जरुर देखें

%d bloggers like this: