Interesting Facts

महिलाओं द्वारा बनाई गई 5 प्रोग्रामिंग भाषाएं

programming languages made by women

महिलाओं द्वारा बनाई गई 5 प्रोग्रामिंग भाषाएं (5 programming languages ​​made by women)

सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट इंडस्ट्री पूरी दुनिया में शुरुआत से ही पुरुष प्रधान रही है। जबकि महिलाओं द्वारा इस इंडस्ट्री में दिए गए महत्वपूर्ण योगदान को मीडिया द्वारा बड़े पैमाने पर कवर नहीं किया गया है | प्रोग्रामिंग लैंग्वेज (Programming Language) डेवलपमेंट ऐसा क्षेत्र है जहां पर महिलाओं ने प्रोग्रामिंग भाषाओं के विकास में महत्वपूर्ण और स्थाई रूप से अपना योगदान दिया है | यही नहीं दुनिया की पहली कंप्यूटर प्रोग्रामर एक महिला ही थी।

महिलाओं द्वारा बनाई गई 5 प्रोग्रामिंग भाषाएं निम्नलिखित हैं –

1. ARC Assembly by Kathleen Booth (1950)

कंप्यूटर प्रोग्रामिंग के शुरुआती दिनों में प्रोग्रामिंग भाषा को मशीनी कोड में लिखा जाता था । यह वह टाइम था जब प्रोग्रामिंग मशीनी कोड यानी 0 और 1 के फॉर्म में लिखी जाती थी। इसके बाद कंप्यूटर प्रोग्राम को आसान और भरोसेमंद बनाने के लिए असेंबली लैंग्वेज का विकास किया गया | ARC असेंबली प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को Kathleen Booth द्वारा 1950 में एआरसी कंप्यूटर के लिए विकसित किया गया था | कैथरीन ने जब यह लैंग्वेज विकसित की थी तब वह Birkbeck (UK) कॉलेज में काम करती थी ।

2. COBOL by Grace Hopper (1959)

डॉक्टर ग्रेस हॉपर जो कि यू.एस. नेवी में ‘रीयर एडमिरल जनरल’ के पद पर थी, उन्होंने दुनिया की पहेली “इंप्लीमेंटेड कंपाइलर” को लिखा था। इसके अलावा डॉक्टर ग्रेस हॉपर ने सन 1959 में कॉन्फ्रेंस ऑफ डाटा सिस्टम लैंग्वेज के अन्य सदस्यों के साथ मिलकर कोबोल (COBOL) भाषा को भी डिजाइन किया था।



इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज का विकास उस समय यू.एस. गवर्नमेंट और अन्य व्यवसाय की जरूरतों के आधार पर डाटा प्रोसेसिंग के लिए किया गया था। इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को लिखते समय या  डिजाइन करते समय डॉक्टर हॉपर यूनीवैक (UNIVAC) सिस्टम की डिजाइनिंग पर भी कार्यरत थी।

3. FORMAC by Jean Sammet (1962)

FORTRAN कंप्यूटर प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है जिसे आईबीएम कंपनी द्वारा 1950 में मैथमेटिकल कंप्यूटेशन और साइंटिफिक कंप्यूटिंग के लिए विकसित किया गया था| इस काम के लिए कंपनी ने Jean Sammet को हायर किया था । उन्होंने 1962 में फोर्ट्रन भाषा के लिए एक एक्सटेंशन को डेवलप किया जिसे FORMAC ( FORmula MAnipulation Compiler) नाम दिया गया | बाद में यह भाषा सिंबॉलिक मैथमेटिक कंप्यूटेशन के लिए सबसे लोकप्रिय भाषा बन गई |

4. CLU by Barbara Liskov (1974)

CLU का आविष्कार ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की तरफ एक विकासशील कदम था । इस भाषा का विकास Barbara Liskov द्वारा किया गया । Barbara Liskov पहेली यू.एस. महिला थी जिन्हें कंप्यूटर साइंस में पीएचडी के लिए अवार्ड प्रदान किया गया था । उन्होंने इसके अलावा कई सारे कंसेप्ट जैसे abstract data types, iterators, and parallel assignment भी विकसित किए । हालांकि इस भाषा में OO features का अभाव था , जिसके प्रभाव से आगे चलकर काफी सारी प्रोग्रामिंग भाषाओं जैसे जावा ,पाइथन ,सी प्लस प्लस का विकास हुआ।

5. BBC BASIC by Sophie Wilson (1981)

बीबीसी बेसिक पहेली प्रोग्रामिंग लैंग्वेज थी जिसे टेलीविजन में प्रोग्रामिंग के लिए विकसित किया गया था। 1981 में बीबीसी लोगों को प्रोग्रामिंग सिखाने के लिए एक प्रोजेक्ट को प्रसारित करना चाहता था जिसका नाम कंप्यूटर लिटरेसी प्रोजेक्ट था । इस प्रोजेक्ट का उद्देश्य लोगों को प्रोग्रामिंग सिखाना था । इस भाषा को मुख्य रूप से प्रोग्रामिंग के लिए डिजाइन किया गया था  | इस प्रोग्रामिंग लैंग्वेज में procedures, functions और IF-THEN-ELSE स्ट्रक्चर पहले से मौजूद थे|

सरल शब्दों में सारांश (Summary Words)
  1. कंप्यूटर प्रोग्रामिंग के शुरुआती दिनों में प्रोग्रामिंग भाषा को मशीनी कोड में लिखा जाता था ।
  2. ARC असेंबली प्रोग्रामिंग लैंग्वेज को Kathleen Booth द्वारा 1950 में एआरसी कंप्यूटर के लिए विकसित किया गया था |
  3. डॉक्टर ग्रेस हॉपर ने सन 1959 में कॉन्फ्रेंस ऑफ डाटा सिस्टम लैंग्वेज के अन्य सदस्यों के साथ मिलकर कोबोल (COBOL) भाषा को डिजाइन किया था।
  4. FORTRAN कंप्यूटर प्रोग्रामिंग लैंग्वेज है जिसे आईबीएम कंपनी द्वारा 1950 में मैथमेटिकल कंप्यूटेशन और साइंटिफिक कंप्यूटिंग के लिए विकसित किया गया था|
  5. CLU का आविष्कार ऑब्जेक्ट ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग लैंग्वेज की तरफ एक विकासशील कदम था, इस भाषा का विकास Barbara Liskov द्वारा किया गया|
  6. Barbara Liskov पहेली यू.एस. महिला थी जिन्हें कंप्यूटर साइंस में पीएचडी के लिए अवार्ड प्रदान किया गया था ।

सिलेबस के अनुसार नोट्स
DCA, PGDCA, O Level, ADCA, RSCIT, Data Entry Operator
यहाँ क्लिक करें