एम् एस एक्सेस

Introduction of Relationship

Introduction of Relationship

Relationships मे दो टेबिल को आपस मे जोडा जाता है। इसके लिये दोनो टेबिल मे एक काॅमन फील्ड होना चाहिये। जिनमे दोनो का नाम एवं डाटा टाईप एक समान होना जरूरी है। टेबिल मे Relation बनाने के बाद यूजर फाॅर्म एवं रिपोर्ट में  multiple table का प्रयोग करके रिर्पोट एवं फाॅर्म को डिजाइन कर सकता है।

प्रायः Master Table और Transaction Table के बीच रिलेशन बनायीं जाती है, जिस टेबल में प्राइमरी की (Primary Key) होती है उस टेबल तो मास्टर टेबल कहते हैं, Transaction Table में जो फील्ड कॉमन होती है उसे हम Foreign Key कहते हैं|

Relationships creation रिलेशनशिप बनाना 



1.At table  level in the relationship window(मीनू  की सहायता से रिलेशन बनाना )

2.At the query level, while creating queries to display inform to(क्वेरी की सहायता से रिलेशन बनाना)

 

सिलेबस के अनुसार नोट्स
DCA, PGDCA, O Level, ADCA, RSCIT, Data Entry Operator
यहाँ क्लिक करें