DTP

What is Laser Printer and its types

What is Laser Printer  (लेजर प्रिंटर क्या हैं?)

लेजर प्रिंटर यह कम्‍प्‍यूटर से जुड़ा हुआ प्रिंटर होता हैं। यह वर्तमान में बहुत अधिक प्रयोग हो रहा हैं। इस प्रिंटर में कागज के साथ ही, फिल्‍म transparent paper, butter paper एवं PVC place आदि पर भी प्रिंट निकाला जा सकता हैं। इसकी तकनीक कॉपियर (झेराक्‍स) तकनीक के समान होती हैं। इसमें किसी प्रकर के रिबन का प्रयोग नही किया जाता इसमें लेजर किरण एवं प्रकाश के स्‍त्रोतों से इमेज को उत्‍पन्‍न किया जाता हैं। लेजर के किरणों को कम्‍प्‍यूटर द्वारा नियंत्रित किया जाता हैं। कोई इमेज Raster Scan तकनीक से प्रिंट की जाती हैं। लेजर प्रिंटर में, किसी इमेज को प्रिंट करने की प्रक्रिया सात पदों में पूर्ण होती हैं।


Resting Image Processing

पेज की एक लाइन में जो डाटा प्रिंट होता हैं, वह प्रिंटर के टोनर से काले डॉट में प्रिंट होता हैं। पेज की एक आड़ी लाइन के डाट को Raster line या Scan Line कहा जाता हैं। इन Raster Line को Raster Image Processor प्रिंट करता हैं। यह प्रोसेसर विभिन्‍न कम्‍प्‍यूटर भाषाओं में बनाया जाता हैं, जैसे adobe script, HP printer command language, XML page specification आदि। कलर प्रिंटर में प्रत्‍येक कलर (CYMK) की अलग परत आती हैं।

Charging

प्रिंटर में एक ड्रम लगा होता हैं। वह electrostatic चार्च होता हैं। जैसे जैसे पेज आगे जाता हैं, यह ड्रम घुमते जाते हैं। जैसे ड्रम घूमता हैं, वैसे लेजर बीम उससे टकराता हैं, लेजर बीम यह प्रकाश के Photons होते हैं। ड्रम में का जो हिस्‍सा लेजर बीम से टकराता हैं, उसे चार्च ड्रम के चार्च से विपरीत हो जाता हैं। लेजर बीम उस ड्रम पर वांछित डाटा की प्रतिकृती बनाया हैं। पाजीटिव चार्च का जो हिस्‍सा लेजर बीम से टकराता हैं वह हिस्‍सा निगोटिव चार्च हो जाता हैं।

Fusion

उसके बाद पेपर पर टोनर पाउडर छिड़क दिया जाता हैं। यह पाउड़र पाजीटिव चार्च होता हैं। जैसे ड्रम घुमता हैं, टोनर पाउड़र उस हिस्‍से में चिपकता हैं, जहाँ पर लेजर बीम ने प्रतिकृती बनाई हैं। ड्रम पूरा घुमने बाद, पेपर एक बेल्‍ट से निकलता हैं। यह बेल्‍ट ड्रम से लगा होता हैं। पेपर को नेगोटिव चार्च किया जाता हैं। पेपर को नेगोटिव चार्च यह लेजर बीम से ड्रम पर लगाये नेगेटिव चार्च से भारी होता हैं। पेपर जैसे-जैसे बाहर जाता हैं, वैसे discharge होता जाता हैं। फिर पेपर fuse से गुजरता हैं। fuse से पेपर जाते समय उष्‍मा के कारण पाउड़र पिघलाते हैं। जिस हिस्‍से में टोनर चार्च होता, वह पेपर से चिपक जाता हैं। यह Fusion की प्रक्रिया ताप या दाब से होती हैं। इसीलिए जब कोई पेपर लेजर प्रिंटर से प्रिंट होकर निकलता हैं तब वह थोड़ा गरम रहता हैं।

 

Printing

इसकी छपाई की गुणवत्‍ता बहुत उच्‍च दर्जे की होती हैं, तथा प्रिन्‍ट होते समय कोई आवाज या शोर नही होता हैं। सामान्‍यत: 600 से 1200 vpi (एक चौरस इंच से 600 से 1200 डॉट) तथा 6 से 12 पेज एक मिनिट में प्रिंट होते हैं। इन प्रिंटर की मूल कीमत तथा प्रति पेज छपाई की कीमत ज्‍यादा होने के कारण साधारण कार्यालयीन कामो में ज्‍यादा उपयोग नही होता हैं। इस प्रिंटर का प्रयोग डेस्‍कटॉप पब्लिकेशन के कामों से ज्‍यादा होता हैं। वर्तमान में रंगीन लेजर प्रिंटर भी उपलब्‍ध के कामों से ज्‍यादा होता हैं। वर्तमान में रंगीन लेजर प्रिंटर भी उपलब्‍ध हैं, जिसमें विशेष टोनर होता हैं, जिसमें अलग अलग रंगों के कण रहते हैं।


Types of Laser Printer (लेजर प्रिंटर के प्रकार)

यद्यपी सभी लेजर प्रिंटर की प्रिंट करने के तकनीक एक समान होती हैं, लेकिन उनके आकार, प्रिन्‍ट करने की गति के अनुसार उन्‍हें वर्गीकृत किया गया हैं।

Personal :-

इस प्रकार के लेजर प्रिंटर आकार में छोटे होते हैं। इन्‍हे आप एक टेबल पर कम्‍प्‍यूटर के साथ जोड़ कर रख सकते हैं। इस साधारणत: एक ही कम्‍प्‍यूटर से जोड़ा जा सकता हैं। सभी पर्सनल लेजर प्रिंटर यह Simplex प्रकार के होते हैं, अर्थात् एक समय में कागज के एक ही तरफ प्रिटिंग की जा सकती हैं । इन प्रिंटर की प्रिंट करने की गति कम होती हैं, यह साधारणत: 4 पेज प्रति मिनट की दर से प्रिंट कर सकते हैं। इस प्रकार की प्रिंटर की मेमोरी भी कम होती है, बहुत जटिल या अधिक ग्राफिक्‍स का डाटा प्रिंट करने मुश्किल हो सकती हैं।

Office:-

इस प्रकार के लेजर प्रिंटर यह Personal laser printer से बड़े होते हैं, लेकिन इन्‍हें भी आप टेबल पर रख सकते हैं। इसमें एक से अधिक कम्‍प्‍यूटर के साथ LAN (local area network) से साझा किया जा सकता हैं। इस प्रकार के प्रिंटर की प्रिंट करने की गति 8 से 10 पेज प्रति मिनट तक होती हैं। इन प्रिंटर में आप एक साथ बहुत से प्रिंट निकाल सकते हैं। इस प्रकार के प्रिंटर में एक sheet feeder होता हैं, उसमें 250 पन्‍ने रख सकते हैं, प्रिंटर उसमें स्‍ंवय ही एक पेज लेते जाता हैं। इस प्रकार के प्रिंटर में कम्‍प्‍यूटर से जोड़ने के लिए Parallel और serial दो प्रकार के पोर्ट होते हैं, जिससे और अधिक कम्‍प्‍यूटर से उस प्रिंटर का साझा किया जा सकता हैं। इन प्रिंटर में मेमोरी Personal प्रिंटर से अधिक होती हैं, तथा कुछ प्रिंटर में मेमोरी बढ़ाने की संभावना होती हैं। इस प्रकार के प्रिंटर भी Simplex प्रकार के होते हैं। इस प्रकार के प्रिंटर का उपयोग छोटे ऑफिस, डीटीपी ऑपरेटर इत्‍यादि जगह होता हैं।

Work group :-

इस प्रिंटर का उपयोग बहुत से कम्‍प्‍यूटर से जोड़ कर किया जाता हैं। इस प्रकार के प्रिंटर आकार में बडे होते हैं, इन्‍हें जमीन पर रखा जाता हैं, लेकिन वर्तमान में कुछ छोटे आकार के Workgroup लेजर प्रिंटर भी उपलब्‍ध हैं, जिन्‍हे टेबल पर रखा जा सकता हैं। इस की गति 15 से 30 पेज प्रति मिनट की होती हैं। इसमें पेपर रखने की बड़ी ट्रे होती हैं, जिसमें 1500 से 2500 पेज रखे जा सकते हैं। इन प्रिंट में भी expansion slot होता हैं। इन प्रिंटर की मेमोरी office प्रिंटर से अधिक होती हैं। इस प्रकार के प्रिंटर duplex प्रकार के होते हैं, जिससे एक साथ दोनों तरफ प्रिंट किया जा सकता हैं।

Production:-

इस प्रकार के प्रिंटर की गति सबसे ज्‍यादा होती हैं। यह एक बडे आकार का प्रिंटर हैं, जिसे टेबल पर नही रखा जा सकता हैं। कुछ स्थितियों में इस प्रिंटर को अलग वातानुकुलित कमरे में भी रखा जाता हैं। इस प्रकार के प्रिंटर का उपयोग जहॉं लगातार प्रिंटिंग की आवश्‍यकता होती हैं, वहॉ किया जाता हैं। इस प्रकार के प्रिंटर हैं। इन प्रिंटर की गति 50 से 135 पेज प्रति मिनट तक हो सकती हैं। इस प्रकार के प्रिंटर में 70,000 पेज एक दिन में प्रिंट किये जा सकते हैं। इन प्रिंटर में मेमोरी भी बहुत अधिक होती हैं।

Color :-

वर्तमान में कलर लेजर प्रिंटर भी उपलब्‍ध हैं, इनमें बहरंगी प्रिंटिंग की जा सकती हैं। इस प्रिंटर में चार हिस्‍से होते हैं, जो नीला (Cyan), लाल (Magenta), पीला (Yellow), एवं काला (Black) रंग प्रिंट होता हैं, इन चारों हिस्‍से से प्रिंट हो बहुरंगी प्रिंन्‍ट निकलता हैं। इन प्रिंटर की गति 2 से 8 पेज प्रति मिनट तक होती हैं।  

Advantages of Laser Printer (लेजर प्रिंटर के लाभ)

  1. इसकी प्रिंटिंग की गुणवत्‍ता अच्‍छी होती हैं।
  2. प्रिंटिंग की गति बाकी प्रिंटर से अधिक होती हैं।
  3. कागज के अतिरिक्‍त दूसरे मीडिया जैसे butter paper, pvc plate आदि पर भी प्रिंट किया जा सकता हैं।
  4. ग्राफिक्‍स डाटा अधिक सूक्ष्‍मता से प्रिंट होता हैं।
  5. प्रिंट करते समय आवाज नही करता हैं।
  6. छोटे कार्यलयीत कार्य से लेकर बड़े नेटवर्क प्रिंटर में भी इसका उपयोग किया जा सकता हैं।

Disadvantages of Laser Printer (लेजर प्रिंटर की कमीयाँ)

  1. लेजर प्रिंटर बाकी सभी कम्‍प्‍यूटर प्रिंटर से महंगा होता हैं।
  2. कलर लेजर प्रिंटर अधिक महंगा होता हैं।
  3. लेजर प्रिंटर इंकजेट प्रिंटर से बड़ा एवं भारी होता हैं।
  4. Dot Matrix Printer के समान इसमें डुप्‍लीकेट प्रिंटिंग नही कर की जा सकती।
  5. लेजर प्रिंटर से प्रिंट करने के लिए अधिक इलेक्ट्रिक पावर की आवश्‍यकता होती हैं।

प्रिंटर से संबंधिक और जानकारी प्राप्त करने के लिए कृपया यह भी पढ़े –




Computer Hindi Notes Android App