आवश्यकता विश्लेषण (Requirement Analysis) क्या है?

किसी भी संगठन में, प्रत्येक नए उत्पाद (product) या सेवा (service) को व्यवसाय (business) की आवश्यकता के जवाब (response) में बनाया जाता है। हालांकि, विकास (development) पर समय और संसाधन खर्च करने के बावजूद, आवश्यक उत्पाद (required product) और अंतिम उत्पाद (final product) के बीच एक बेमेल हो सकता है। इसलिए, भविष्य में बड़ी समस्याओं से बचने के लिए किसी भी परियोजना के प्रारंभिक चरणों में एक केंद्रित (focused) और विस्तृत (detailed) आवश्यकताओं के विश्लेषण की आवश्यकता है।

आवश्यकता विश्लेषण (Requirements Analysis) क्या है?

आवश्यकताएँ विश्लेषण (Requirements Analysis) या requirements engineering एक ऐसी प्रक्रिया है जिसका उपयोग किसी नए उत्पाद (product) की ज़रूरतों (needs ) और अपेक्षाओं (expectations) को निर्धारित करने के लिए किया जाता है। इसमें expectations को परिभाषित करने, संघर्षों (conflicts) को हल करने और सभी प्रमुख आवश्यकताओं (Requirements) को हितधारकों (stakeholders) और उत्पाद के अंतिम उपयोगकर्ताओं के साथ लगातार संचार (communication) शामिल है।
किसी भी संगठन के सामने सबसे बड़ी चुनौतियों में से एक है ग्राहकों (customers) के साथ अंतिम product के दृष्टिकोण को साझा करना। इसलिए, एक व्यावसायिक आवश्यकता विश्लेषण (business requirements analysis) में सभी प्रमुख हितधारकों (stakeholders), सॉफ्टवेयर डेवलपर्स (software developers), अंतिम-उपयोगकर्ताओं (end-users) और ग्राहक प्रबंधकों (customer managers) का एक टीम प्रयास (team effort) शामिल होता है ताकि product को क्या करना चाहिए, इसकी एक अच्छी समझ हासिल हो सके। यह हमेशा किसी भी project के प्रारंभिक चरण में यह सुनिश्चित करने के लिए किया जाता है कि अंतिम product सभी आवश्यकताओं (requirements) के अनुरूप है।

आवश्यकताएँ विश्लेषण प्रक्रिया (Requirements Analysis Process)

एक आवश्यकता विश्लेषण प्रक्रिया (Requirements Analysis Process) में निम्नलिखित चरण (step) शामिल हैं:

Step 1: प्रमुख हितधारकों (Stakeholders) और अंतिम उपयोगकर्ताओं (End-Users) की पहचान करें|

एक आवश्यकता विश्लेषण प्रक्रिया (Requirements Analysis Process) का पहला चरण उन प्रमुख हितधारकों (Stakeholders) की पहचान करना है जो project के मुख्य प्रायोजक (sponsors) हैं।
इसके बाद, product के अंतिम उपयोगकर्ताओं (end-users) की पहचान करें। चूंकि product का उद्देश्य end-users की जरूरतों को पूरा करना है, इसलिए उनके इनपुट समान रूप से महत्वपूर्ण हैं।


Step 2: कैप्चर आवश्यकताएँ (Capture Requirements)


प्रत्येक हितधारकों (stakeholders) और अंतिम उपयोगकर्ताओं (end-users) से नए product के लिए उनकी आवश्यकताओं के बारे में पूछें। यहां कुछ आवश्यकता विश्लेषण तकनीकें (requirements analysis techniques) दी गई हैं जिनका उपयोग आप आवश्यकताओं (requirements) को capture करने के लिए कर सकते हैं:

1. आमने-सामने साक्षात्कार (interview) आयोजित करें

प्रत्येक हितधारक (stackholder) और अंतिम उपयोगकर्ता (ens user) का व्यक्तिगत रूप से साक्षात्कार करें। यह तकनीक आपको विशिष्ट आवश्यकताओं (requirements) को इकट्ठा करने में मदद करेगी।

2. फोकस समूहों (Focus Groups) का प्रयोग करें

विभिन्न हितधारकों (stackholder) और अंतिम उपयोगकर्ताओं (end user) के बीच सूचना के प्रवाह को समझने के लिए समूह साक्षात्कार या समूह कार्यशाला आयोजित करना। यह तकनीक सुनिश्चित करेगी कि project के दौरान interest का टकराव (conflict) नहीं होगा।

3. Use Casesका उपयोग करें


Use Cases अंतिम उपयोगकर्ता (end user) की नज़र में पूरे उत्पाद (product) का पूर्वाभ्यास (walkthrough ) प्रदान करते हैं। यह तकनीक यह कल्पना करने में मदद करेगी कि उत्पाद (product) वास्तव में कैसे काम करेगा।

4. प्रोटोटाइप बनाएं (Build Prototypes)

एक प्रोटोटाइप उपयोगकर्ताओं को अंतिम उत्पाद (product) का एक नमूना रूप और अनुभव प्रदान करता है। यह तकनीक व्यवहार्यता के मुद्दों (feasibility issues) को दूर करने और समय से पहले समस्याओं की पहचान करने में मदद करेगी।


Step 3: आवश्यकताओं को वर्गीकृत करें (Categorize Requirements)

चूंकि आवश्यकताएं (requirements) विभिन्न प्रकार की हो सकती हैं, इसलिए भ्रम (confusion) से बचने के लिए उन्हें समूहीकृत किया जाना चाहिए। आवश्यकताओं ( (requirements) को आमतौर पर चार श्रेणियों में विभाजित किया जाता है:

  • कार्यात्मक आवश्यकताएँ (Functional Requirements) – कार्य करने के लिए Product की आवश्यकता होती है।
  • तकनीकी आवश्यकताएं (Technical Requirements) – Product के सफल कार्यान्वयन (implementation) के लिए तकनीकी मुद्दों पर विचार किया जाना चाहिए।
  • संक्रमणकालीन आवश्यकताएँ (Transitional Requirements) – यह एक नए product को सुचारू रूप से लागू करने के लिए आवश्यक होता है|
  • परिचालन आवश्यकताएँ (Transitional Requirements) – Product के समुचित कार्य (proper functioning) के लिए backend में किए जाने वाले संचालन (Operations)

Step 4: Requirements को interpret और record करना

एक बार आवश्यकताओं (Requirements) को वर्गीकृत करने के बाद, निर्धारित करें कि कौन सी आवश्यकता (Requirement) वास्तव में प्राप्त करने योग्य हैं और उनमें से प्रत्येक का दस्तावेजीकरण करें। आवश्यकताओं (Requirements) को interpret और record करने के लिए यहां कुछ तकनीकें दी गई हैं:

आवश्यकताओं (Requirements) को सटीक रूप से परिभाषित करें

सुनिश्चित करें कि आवश्यकताएं (requirements) स्पष्ट रूप से व्यावसायिक आवश्यकताओं (business needs) से संबंधित हैं।

आवश्यकताओं को प्राथमिकता दें (Prioritize Requirements)

आवश्यकताओं (Requirements) को प्राथमिकता दें और उन्हें इस आधार पर सूचीबद्ध करें कि कौन से “सबसे महत्वपूर्ण” हैं और कौन से “अच्छे-से-अच्छे (nice-to-have)” हैं।

प्रभाव विश्लेषण (Impact Analyse) करें

यह सुनिश्चित करने के लिए प्रभाव विश्लेषण (Impact Analyse) करें कि आप आवश्यकताओं (requirements) के परिणामों को पूरी तरह से समझते हैं।

विवादों (Conflicts) को सुलझाना

प्रमुख हितधारकों (stakeholders) के साथ एक बैठक की व्यवस्था करें और परस्पर विरोधी आवश्यकताओं (conflicting requirements) को हल करें। विभिन्न संभावित परिदृश्यों (scenario) के लिए आवश्यकताएं कैसे काम करेंगी, इसका पता लगाने के लिए आप एक परिदृश्य विश्लेषण (scenario analysis) भी कर सकते हैं।

व्यवहार्यता का विश्लेषण करें (Analyze Feasibility)

Product की विश्वसनीयता निर्धारित करने और किसी भी बड़ी समस्या की पहचान करने के लिए एकत्रित आवश्यकताओं (requirements) के आधार पर product का विस्तृत विश्लेषण करें।
एक बार सभी आवश्यकताओं (requirements) का विश्लेषण (analyse) करने के बाद, एक विस्तृत लिखित दस्तावेज (document) बनाएं और इसे प्रमुख हितधारकों (stakeholders), अंतिम उपयोगकर्ताओं (end-users) और विकास टीमों (development teams) के बीच प्रसारित करें।


Step 5: साइन ऑफ (Sign off) करें

आवश्यकताओं (requirements) पर अंतिम निर्णय लेने के बाद, सुनिश्चित करें कि आपको प्रमुख हितधारकों (stakeholders) से एक हस्ताक्षरित समझौता (signed agreement) प्राप्त होगा। यह सुनिश्चित करने के लिए किया जाता है कि project के दायरे में कोई परिवर्तन या अनियंत्रित वृद्धि (uncontrolled growth) न हो।


आवश्यकता विश्लेषण तकनीक (Requirement Analysis Techniques)

बिजनेस प्रोसेस मॉडल (Business Process Model) और नोटेशन (Notation) (BPMN)

बिजनेस प्रोसेस मॉडल और नोटेशन का उपयोग ऐसे ग्राफ बनाने के लिए किया जाता है जो बिजनेस प्रोसेस की समझ को आसान बनाते हैं। यह व्यावसायिक विश्लेषकों (business analysts) द्वारा संबंधित गतिविधियों (activities) के सेट में विभिन्न प्रतिभागियों (participants) के बीच संदेशों (messages) के अनुक्रम को समन्वित करने के लिए उपयोग की जाने वाली एक लोकप्रिय तकनीक है।

फ़्लोचार्ट(Flowchart)

फ़्लोचार्ट(flowchart) गतिविधियों के संबंधित सेट के अनुक्रमिक प्रवाह(sequential flow) और नियंत्रण तर्क(control logic) को दर्शाते हैं। वे तकनीकी और गैर-तकनीकी सदस्यों(technical and non-technical members) दोनों के लिए उपयोगी हैं।

Gantt Charts

Gantt Chart उनकी निर्धारित समय-सारिणी(scheduled timelines) के साथ कार्यों का एक दृश्य प्रतिनिधित्व प्रदान करते हैं। वे व्यापार विश्लेषकों(business analysts) को एक project में सभी कार्यों(task) की शुरुआत और समाप्ति तिथियों(start and end dates) की कल्पना करने में मदद करते हैं।

अंतर विश्लेषण(Gap Analysis)

गैप विश्लेषण(Gap Analysis) यह निर्धारित करने के लिए product के प्रदर्शन(product’s performance) में अंतराल(gaps) का मूल्यांकन करता है कि आवश्यकताओं को पूरा किया गया है या नहीं। वे व्यापार विश्लेषकों(business analysts) को किसी product की वर्तमान स्थिति(present state) और लक्ष्य स्थिति(target state) निर्धारित करने में मदद करते हैं।


आवश्यकता विश्लेषण उपकरण(Requirement Analysis Tools)

उपकरणों(tools) के सही सेट का उपयोग करके आवश्यकताओं का विश्लेषण(Requirement Analysis) सफलतापूर्वक किया जा सकता है। कुछ सबसे लोकप्रिय tools हैं:

  • Jama Software
  • Caliber
  • Visure Requirements
  • Orcanos
  • Modern Requirements
  • IBM Engineering Requirements Management DOORS Next
  • Accompa
  • ReqSuite
  • Perforce Helix RM
  • Pearls

किसी भी project की सफलता के लिए, आवश्यकताओं का विश्लेषण((Requirement Analysis) करना महत्वपूर्ण है जब Requirements एकत्र की जाती हैं और साथ ही project के पूरे जीवन चक्र में भी। इसलिए, व्यापार विश्लेषकों(business analysts) की उच्च मांग है जो product की आवश्यकताओं को व्यवसाय की जरूरतों और उद्देश्यों के अनुरूप रख सकते हैं।

error: Content is protected !!