टेक्नोलॉजी में करियर

इस लेख में हम टेक्नोलॉजी में करियर के विभिन्न पहलुओ के बारे में जानेंगे। टेक्नोलॉजी को मूल रूप से industry-based products और scientific research की आवश्यकताओं के कार्यान्वयन में उपयोग की जाने वाली विभिन्न प्रकार की कार्यप्रणाली (methodology) के रूप में जाना जाता है। ‘टेक्नोलॉजी ‘ शब्द मुख्य रूप से उन प्रक्रियाओं से संबंधित ज्ञान और विचारों से संबंधित है जिन्हें वांछित आउटपुट उत्पन्न करने के लिए लागू किया जा सकता है। वर्तमान बाजार मानकों के अनुसार टेक्नोलॉजी के अपने अलग प्रभाव हैं। वर्तमान बाजार मानक (market standard) के अनुसार, टेक्नोलॉजी पर आधारित कई प्रकार के कार्य है|

टेक्नोलॉजी कुछ लाभ (Advantage of Technology)

  • किसी भी व्यावसायिक तकनीक (business technology) का मुख्य उद्देश्य workflow process को बढ़ाना है बेहतर आउटपुट (better-optimized outputs) को सुविधाजनक तरीके से उपलब्ध कराना है।
  • Technology का एक अन्य महत्वपूर्ण लाभ है कि इसने डेटा स्टोरेज और जानकारी साझा करने में काफी मदद की है।
  • डेटा को सुव्यवस्थित तरीके से स्टोर करने और इसे मैनेज करने में टेक्नोलॉजी का कई तरह से उपयोग किया जाता है। व्यवसाय के विकास (business growth) और राजस्व सृजन (revenue generation) के दृष्टिकोण से आवश्यक संसाधनों (resources) को टेक्नोलॉजी के माध्यम से साझा किया जा सकता है।
  • आज के समय में, दूरसंचार उद्योग (telecommunication industry) में एक बड़ी वृद्धि देखी गई है। इस प्रकार की टेक्नोलॉजी की सहायता से औद्योगिक विकास (industrial growth) के दृष्टिकोण से संचार प्रक्रिया (communication process) अधिक सुविधाजनक और आसान हो जाती है।
  • टेक्नोलॉजी की सहायता से आज के समय में विभिन्न कार्य आटोमेटिक तरीके से किये जा सकते है, जिनको मैनुअली करने में बहुत मेहनत लगने के साथ थकान भी होती है। इस प्रकार, टेक्नोलॉजी का उपयोग लागत प्रभावी (cost-effective) तरीका होने के साथ यह आर्थिक विकास दोनों में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

टेक्नोलॉजी में करियर बनाने के लिए आवश्यक शिक्षा (Education needed to make a career in technology)

विभिन्न तकनीकी कौशल (technical skills) के आधार पर विभिन्न करियर पथ (career paths) स्थापित किए जाते हैं, और विद्यार्थियों को उनके चुने हुए तकनीकी डोमेन (technical domain) के आधार पर शिक्षित करने की आवश्यकता होती है। वर्तमान समय में software industry में टेक्नोलॉजी एक महत्वपूर्ण भूमिका निभा रही है।

स्नातक (Graduation): टेक्नोलॉजी में करियर बनाने के लिए आमतौर पर स्नातक की डिग्री (bachelor’s degree) की आवश्यकता होती है।

स्नातकोत्तर (Masters): किसी एप्लीकेबल टेक्नोलॉजिकल डोमेन (applicable technological domain) स्नातकोत्तर की डिग्री (Master’s degree) में प्राप्त करने पर आपके तकनीकी ज्ञान में वृद्धि होती है, जिसके परिणामस्वरूप आप एक अच्छी, उच्च भुगतान वाली नौकरी प्राप्त कर सकते है।

Certification: कभी-कभी, कुछ निश्चित प्रमाणपत्र या यूँ कहे कि कोई सर्टिफाइड कोर्स करने पर टेक्नोलॉजी आधारित करियर के लिए अतिरिक्त लाभ भी मिलता हैं।


टेक्नोलॉजी में कैरियर पथ (Career Path in Technology)

नीचे दो श्रेणियां दी गई है, जो टेक्नोलॉजी के आधार पर करियर बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं:

सॉफ्टवेयर डेवलपमेंट इंजीनियर्स (Software Development Engineers): सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग एक महत्वपूर्ण जॉब कैटेगरी है जो टेक्नोलॉजी आधारित लर्निंग अप्रोच और स्टडी पर आधारित है। ये इंजीनियर्स सॉफ्टवेयर विश्लेषण (software analysis) और सॉफ्टवेयर विकास (software development) से सम्बंधित विभिन्न पहलुओं को हल करते हैं।

सॉफ्टवेयर QA प्रोफेशनल (Software QA Professional): सॉफ्टवेयर QA प्रोफेशनल के अंतर्गत मुख्य रूप से दो दृष्टिकोण शामिल हैं।

मैनुअल (Manual) और स्वचालन (Automation)|

  • मैन्युअल परीक्षण (Manual Testing) मूल रूप से किसी भी सॉफ़्टवेयर उत्पाद या एप्लिकेशन में बग (bug) या दोषों (defects) का मैन्युअल रूप से पता लगाने का एक तरीका है। मैन्युअल परीक्षण का लाभ यह है कि यह परीक्षण करने वाले परीक्षक (tester) को विभिन्न सकारात्मक और नकारात्मक परिदृश्यों (positive and negative scenarios) का उपयोग करने की अनुमति देता है जो कि स्वचालित सिस्टम के द्वारा चूक सकता है|
  • दूसरी ओर, स्वचालन परीक्षण (Automation Testing) द्वारा किसी भी परिदृश्य (scenario) की जाँच करने के लिए विभिन्न प्रकार की प्रक्रियाओं (procedures)/विधियों (methods)/परीक्षण मामलों (test cases) के एक सेट को स्वचालित रूप से चलाने के लिए विभिन्न टूल (tools), स्क्रिप्ट (scripts) या फ्रेमवर्क (framework) का उपयोग करता है।

धारणा यह है कि स्वचालन परीक्षण (Automation Testing) मैनुअल परीक्षण (manual Testing) की तुलना में अधिक समय बचाता है। मैनुअल परीक्षण (manual testing) के मामले में, अधिकांश समय खोजपूर्ण और कार्यात्मक परीक्षण (exploratory and functional testing) के लिए उपयोग किया जाता है, जहां हम मैन्युअल रूप से त्रुटियों की खोज करते हैं। एक बार यह प्रक्रिया पूरी हो जाने के बाद, मैन्युअल परीक्षक (manual tester) को बार-बार उन्हीं चरणों से गुजरना होगा। लेकिन ऑटोमेशन टेस्टिंग (automation testing) के मामले में समय में बचत होती है। लेकिन बचाये गए समय का उपयोग ऑटोमेशन परीक्षकों (automation tester) द्वारा परीक्षणों की कोडिंग को सुधार करने के लिए किया जाता है क्योंकि संवर्द्धन (enhancements) की आवश्यकता होती है। साथ ही, स्वचालन परीक्षण (automation testing) के मामले में, उपयोग किये जाने वाले टूल्स के लिए भुगतान भी करना पड़ता हैं।


नौकरी के पद (Job Positions)

टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में, करियर विकसित करने के लिए कंप्यूटर विज्ञान और सॉफ्टवेयर इंजीनियरिंग उद्योग में विभिन्न नौकरिया (jobs) उपलब्ध हैं, जैसे सॉफ्टवेयर डेवलपर, बिजनेस डेवलपमेंट प्रोफेशनल, सॉफ्टवेयर एनालिस्ट, टेक्निकल आर्किटेक्ट, सॉफ्टवेयर टेस्टर, सीनियर सॉफ्टवेयर टेस्ट इंजीनियर, लीड टेस्ट इंजीनियर आदि|


वेतन (salary)

वर्तमान उद्योग मानकों (industry standards) के अनुसार, टेक्नोलॉजी-आधारित डोमेन में अपना करियर बनाने के विभिन्न विकल्प उपलब्ध है।
भारत में सॉफ्टवेयर टेक्नोलॉजी (Software Technology) , अनुसंधान और विश्लेषिकी (Research and Analytics ) पेशेवरों (professionals) के वेतन को दर्शाने वाले अनुमानित आंकड़े नीचे दिए गए इन्हे जरूर देखे:-

CompanySalary Range (INR)
Cognizant Technology Solutions478K – 870K
Accenture Solutions600K – 1000K
Tata Consultancy Services476K – 750K
Tech Mahindra634K – 1548K
Deloitte763K – 1259K
Boston Scientific590K- 1100K
Amdocs715K – 856K

करियर आउटलुक (Career Outlook)

टेक्नोलॉजी के क्षेत्र में कई अलग-अलग प्रकार के करियर उपलब्ध हैं। वर्तमान उद्योग मानकों (industry standards) के अनुसार, विभिन्न प्रकार की कंप्यूटर नौकरियां लोग एक टेक्नोलॉजी पेशेवर (technology professional) के रूप में ले सकते हैं|

US, Asia Pacific और Europe में तकनीकी डोमेन (Technical domains) पर आधारित ओपन जॉब स्कोप (open job scope) और आवश्यकताएं प्रतिदिन बढ़ रही हैं। बड़ी ग्राहक-आधारित कंपनियों (customer-based companies) में कई तकनीकी गतिविधियाँ (technical activities) या कार्य होते हैं, जिन्हें तकनीकी ज्ञान (technical knowledge) और स्वचालित उपकरणों (automated tools) की मदद से अधिक आसानी से और सटीक रूप से किया जा सकता है।

कस्टमर के डेटा को सुरक्षित रखना, किसी सॉफ़्टवेयर एप्लिकेशन या product व्यवसायों की एक बड़ी आवश्यकता है, वर्तमान उद्योग मानकों के अनुसार सॉफ्टवेयर इंजीनियर सर्वोत्तम और अनुकूलित गुणवत्ता (best and optimized quality) वाले व्यावसायिक समाधान प्रदान करते है,जो कि बाजार में उपलब्ध सर्वोत्तम तकनीकी प्रगति (technological advancement) में से एक है।

error: Content is protected !!