अंतर कंप्यूटर फंडामेंटल्स

एल्गोरिथम और फ़्लोचार्ट के बीच अंतर

एल्गोरिथम और फ़्लोचार्ट के बीच अंतर
(Difference between Algorithm and Flowchart)

प्रोग्रामिंग में, किसी भी समस्या के समाधान को पहले एल्गोरिथ्म के रूप में स्पष्ट किया जाता है जिसमें उस समस्या के समाधान के लिए अनुक्रमिक चरण होते हैं। प्रोग्रामर की सुविधा के लिए, एल्गोरिथ्म को दो रूपों में विकसित किया गया है जो कि फ्लोचार्ट और स्यूडोकोड है। एक फ्लोचार्ट को बनाने में विभिन्न प्रतीकों का प्रयोग किया जाता है जो एल्गोरिथ्म को समझने में मदद करता है | एल्गोरिथ्म और फ़्लोचार्ट एक ही सिक्के के दो पहलू होते है जो एक दूसरे पर आश्रित होते है| प्रोग्रामिंग में एक एल्गोरिथ्म बनाना बहुत ही महत्वपूर्ण कदम होता है, क्योंकि यह प्रोग्राम की दक्षता को तय करता है।

इस पोस्ट में आप जानेंगे-
  • एल्गोरिथ्म और फ़्लोचार्ट का तुलना चार्ट
  • एल्गोरिथ्म और फ़्लोचार्ट की परिभाषा
  • एल्गोरिथ्म और फ़्लोचार्ट में महत्वपूर्ण अंतर
  • एल्गोरिथ्म और फ़्लोचार्ट के उदाहरण
  • एल्गोरिथ्म और फ़्लोचार्ट से फायदे
  • एल्गोरिथ्म और फ़्लोचार्ट से नुकसान
  • निष्कर्ष

1. एल्गोरिथ्म और फ़्लोचार्ट का तुलना चार्ट

तुलना के आधार
एल्गोरिथ्म
फ्लो चार्ट
बुनियादी उन चरणों का अनुक्रम शामिल है जो समाधान की प्रक्रिया को दर्शाते हैं। विभिन्न आकृतियों से बना एक सूचना आरेख डेटा प्रवाह को दर्शाता है।
बोधगम्यता समझने में कठिन होता है इसे आसानी से समझा जा सकता है |
उपयोग टेक्स्ट प्रतीक
साधन इसका कोई नियम नहीं होता हैं। पूर्वनिर्धारित नियम लागू होते हैं।
डिबगिंग आसान कठिन
निर्माण हैरान करने वाला आसान

2. (a) एल्गोरिथ्म की परिभाषा 

हम जानते हैं कि कंप्यूटर किसी भी समस्या को जो कंप्यूटर से सम्बंधित है उसको हल कर सकता है, लेकिन यह कैसे काम करता है? किसी समस्या को हल करने से पहले हमेशा यह जानना चाहिए कि क्या करना है और कैसे करना है, और किस तरह के कदम उठाने चाहिए आदि। इसलिए, एक एल्गोरिथ्म चरणों की एक श्रृंखला होती है जिसे किसी समस्या को हल करने के लिए निष्पादित किया जाता है ।

इसी तरह प्रोग्रामिंग में, प्रोग्राम को लिखते समय, एक एल्गोरिथ्म का पालन किया जाना चाहिए। इसी तरह से एक प्रोग्राम में निर्देशों का सेट शामिल होता है जो दिए गए इनपुट का वांछित आउटपुट उत्पन्न करता है। प्रोग्राम को ठीक से काम करने के लिए एल्गोरिथ्म को ठीक से डिज़ाइन किया जाना चाहिए। एल्गोरिथ्म का डिज़ाइन कंप्यूटिंग संसाधनों के प्रभावी उपयोग को भी सुनिश्चित करता है, उदाहरण के लिए, सीपीयू , रैम, आदि। एक kludge  एल्गोरिथ्म इनपुट के एक सेट पर अच्छी तरह से काम कर सकता है लेकिन खराब इनपुट के दूसरे सेट पर, जिसके परिणामस्वरूप सिस्टम धीमा हो सकता है और सिस्टम क्रैश हो सकता है।

एल्गोरिथ्म की विशेषताएं:

  1. जैसा कि हम जानते हैं कि एक एल्गोरिथ्म कुछ इनपुट लेता है, कुछ सीमित चरणों को निष्पादित करता है और एक आउटपुट देता है। तो एल्गोरिथ्म में शामिल कुछ निश्चित स्टेप executable होने चाहिए।
  2. यह परिणाम उत्पन्न करता है |

(b) फ्लोचार्ट की परिभाषा

हमने पिछली परिभाषा में एल्गोरिथ्म की परिभाषा पर चर्चा की है। अब, फ्लोचार्ट क्या है? यह एक एल्गोरिथ्म को रिप्रेजेंट करने का तरीका होता है| इसे फ्लो डायग्राम के रूप में भी जाना जाता है, जो एक प्रक्रिया या एक विशिष्ट उत्पादन के लिए आवश्यक चरणों की एक विस्तृत श्रृंखला को दिखाता है। फ्लो चार्ट में प्रतीकों को जोड़ने के लिए विभिन्न प्रतीक और नियंत्रण रेखाओ का प्रयोग किया जाता है | प्रत्येक प्रतीको का अलग-अलग कार्य होता है। यह प्रोग्रामिंग में बहुत उपयोगी होता है क्योंकि यह जटिल एल्गोरिथ्म को सरल करता है और इसे समझने योग्य बनाने के लिए एक डायग्राम के रूप में बनाया जाता है| फ्लोचार्ट की मदद से, एप्लिकेशन डिजाइनर आसानी से प्रक्रिया के विभिन्न घटकों को अलग कर सकता है। यह समस्या को चरण-दर-चरण प्रक्रिया प्रदान करके विश्लेषण की सुविधा प्रदान करता है।

फ्लोचार्ट का निर्माण:

फ़्लोचार्ट में इस्तेमाल किए गए प्रतीकों का वर्णन नीचे किया गया है।

राउंडेड रेक्टेंगल: यह प्रक्रिया के प्रारंभिक और अंतिम बिंदु को प्रदर्शित करता है |

आयत: यह प्रोसेसिंग स्टेप को दिखता है|     

            

डायमंड: यह डिसीजन पॉइंट को हां / नहीं या सही / गलत के रूप में प्रस्तुत करता है।

नियंत्रण फ्लो रेखा: डेटा के फ्लो और नियंत्रण का वर्णन करता है।

चतुर्भुज: प्रक्रिया को दिए गए इनपुट या प्रक्रिया द्वारा उत्पन्न आउटपुट को प्रदर्शित करता है।

3. एल्गोरिथम और फ़्लोचार्ट के बीच महत्वपूर्ण अंतर

  1. एक एल्गोरिथ्म में समाधान के तर्क की व्याख्या करने के लिए अनुक्रमिक चरणों का संयोजन शामिल है। इसके विपरीत, एक फ्लोचार्ट एल्गोरिथम का सचित्र चित्रण है।
  2. एल्गोरिथ्म की तुलना में फ्लो चार्ट अधिक समझने योग्य होता है।
  3. एल्गोरिथ्म एक ऐसी भाषा में लिखा गया है जिसे मनुष्य समझ सके | दूसरी ओर, फ्लोचार्ट विभिन्न आकृतियों और प्रतीकों का उपयोग करके बनाया जाता है।
  4. एल्गोरिथ्म में कोई कठोर नियम लागू नहीं किए गए हैं जबकि फ़्लोचार्ट को पूर्वनिर्धारित नियमों द्वारा लागू किया गया है।
  5. एल्गोरिथ्म में फ्लो चार्ट की तुलना में त्रुटियों और बग का आसानी से पता लगाया जा सकता है।
  6. फ्लोचार्ट को बनाना आसान होता है | जबकि एल्गोरिथ्म को बनाना कठिन होता है|

4. (a) एल्गोरिथम का उदाहरण

(b) फ्लोचार्ट का उदाहरण    

                       

5. (a) एल्गोरिथ्म के लाभ

1. यह समस्या को हल करने के लिए आवश्यक समाधान प्रक्रिया, निर्णय बिंदु की पहचान करता है।

2. यह एक बड़ी समस्या के समाधान को छोटे छोटे प्रबंधनीय चरणों में विभाजित करता है |

3. प्रक्रिया का विश्लेषण और विशेष उल्लेख कार्यकुशलता को प्रगति की ओर ले जाता है | 

(b) फ्लोचार्ट के लाभ

1. फ्लोचार्ट सिस्टम के लॉजिक को व्यक्त करने का एक अच्छा तरीका है।

2. यह समस्या के विश्लेषण की सुविधा प्रदान करता है |

3. यह एक उचित दस्तावेज प्रदान करता है|

4. यह त्रुटियों और बग को आसानी से पहचान लेता है |

5. यह कार्यक्रम के विकास को निर्देशित करता है।

6. यह प्रोग्राम के रखरखाव को आसान बनाता है |

6. (a) एल्गोरिथ्म के नुकसान

1. एक विशिष्ट बिंदु पर, एल्गोरिथ्म समाप्त हो जाता है।

2. इसमें बहुत टाइम लगता है | 

(b) फ्लोचार्ट के नुकसान

1. एक जटिल लॉजिक कार्य करने के लिए जो फ्लो चार्ट बनाया जाता है उसका रिजल्ट भी कठिन होता है |

2. फ्लो चार्ट में कोई गलती या कुछ परिवर्तन होने पर फ्लो चार्ट को फिर से बनाया जाता है|

7. निष्कर्ष

एल्गोरिथ्म निर्देशों का एक समूह होता है जिसका समस्या को हल करने के लिए पालन किया जाता है। दूसरी ओर, फ्लोचार्ट एक एल्गोरिथ्म को व्यक्त करने की एक विधि है, सरल शब्दों में, यह एल्गोरिथ्म का आरेखीय रिप्रजेंटेशन है।