इन्टरनेट एंड वेब पेज डिजाइनिंग इन्टरनेट और ई-कॉमर्स

मोबाइल आई पी क्या है?

मोबाइल आई पी क्या है? यह कैसे काम करता है?

मोबाइल आई पी क्या है? (What is Mobile IP?)

मोबाइल आईपी एक कम्युनिकेशन प्रोटोकॉल हैं जिसे इंटरनेट प्रोटोकॉल, आईपी का विस्तार करके बनाया गया है| Mobile IP का पूरा नाम Mobile Internet Protocol है| इसे MIP भी कहा जाता है| यह एक standard communication protocol है जिसके द्वारा मोबाइल यूजर्स एक नेटवर्क से दूसरे नेटवर्क पर एक permanent IP address के माध्यम से जा सकते है, अर्थात् यूजर्स का IP address दूसरे नेटवर्क में जाने पर बदलता नहीं है| इसे internet engineering task force (IETF) RFC 2002 में डिफाइन किया गया है|

मोबाइल आईपी, internet protocol पर आधारित है, इसलिए यह इंटरनेट के लिए स्केलेबल है। कोई भी मीडिया जो आईपी को सपोर्ट करती है वह मोबाइल आईपी को भी सपोर्ट कर सकती है।

मोबाइल आई पी के तत्व (Components of Mobile IP)

  1. Mobile Node (MN)
  2. Home Agent (HA)
  3. Foreign Agent (FA)
  4. Home Network (HN)
  5. Foreign Network (FN)
  6. Corresponding Node (CN)
  7. Care of Address (COA)

Mobile Node

मोबाइल नोड एक डिवाइस या एक यूजर या एक राउटर होता है जो अक्सर अपने मूल आईपी एड्रेस को बदले बिना अपने नेटवर्क की स्थिति को बदल सकता है। मोबाइल नोड के उदाहरण cell phone, personal digital assistant (PDA), laptop आदि हैं Mobile Node में roaming facilities होती है|

Home Agent

होम एजेंट, होम नेटवर्क में एक राउटर होता है। यह मोबाइल नोड के साथ कम्युनिकेशन के लिए anchor point के रूप में कार्य करता है। जो कि mobile node से कम्युनिकेशन करने में मदद करता है|यह mobile nodes की पूरी जानकारी स्टोर करके रखता है तथा यह correspondent node से roaming mobile node तक data को tunnel से होकर भेजता है|

Foreign Agent

फॉरेन एजेंट एक राउटर है जो कई सेवाओं को प्रदान करता है जैसे कि डेटा नोड को tunnel बनाना जब भी कोई मोबाइल नोड फॉरेन नेटवर्क में चला जाता है। तब home agent आईपी एड्रेस को care-of-address को भेज देता है उसके बाद care-of-address इसको foreign agent को भेज देता है और अंत में foreign agent इस IP address को mobile device को भेज देता है|

Home Network

होम नेटवर्क बेस स्टेशन नेटवर्क है, इस नेटवर्क में किसी भी मोबाइल IP सपोर्ट की आवश्यकता नहीं होती है।

Foreign Network

होम नेटवर्क को छोड़कर बाकि सभी नेटवर्क जिन पर मोबाइल नोड में एक पंजीकृत आईपी है, उन्हें फॉरेन नेटवर्क कहा जाता है।

Corresponding Node

पार्टनर नोड्स जो मोबाइल नोड्स के साथ कम्युनिकेशन के लिए उपयोग किए जाते हैं, उन्हें corresponding nodes कहा जाता है।

Care of address

यह एक temporary address होता है जिसका प्रयोग mobile node के द्वारा तब किया जाता है जब वह अपने home network से बाहर चला जाता है|

मोबाइल आई पी की कार्यप्रणाली (Working of Mobile IP)

Mobile IP के कार्य को 3 स्टेप्स में वर्णित किया जा सकता है:

1. Agent Discovery

इसमें मोबाइल नोड अपने फॉरेन और होम एजेंटों को  discover करते हैं। होम एजेंट और फॉरेन एजेंट ICMP Router Discovery Protocol (IRDP) का उपयोग करके नेटवर्क पर अपनी सेवाओं का विज्ञापन करते हैं।

2. Registration

रजिस्ट्रेशन का मुख्य उद्देश्य पैकेट को सही फॉरवर्ड करने के लिए वर्तमान लोकेशन के होम एजेंट को इन्फॉर्म करना है। इसमें मोबाइल नोड अपनी current location को foreign agent तथा home agent के साथ register करता है|

3. Tunneling

इसका उपयोग tunnel entry और tunnel endpoint के बीच डेटा पैकेट को transfer करने के लिए पाइप के रूप में एक वर्चुअल कनेक्शन स्थापित करने के लिए किया जाता है। टनलिंग को “port forwarding” के रूप में भी जाना जाता है

मोबाइल आई पी की एप्लीकेशन (Applications of Mobile IP)

  • मोबाइल आईपी तकनीक का उपयोग कई एप्लीकेशन में किया जाता है जहां नेटवर्क कनेक्टिविटी और आईपी एड्रेस में अचानक परिवर्तन से समस्याएं हो सकती हैं। इसे सरल और निरंतर इंटरनेट कनेक्टिविटी करने के लिए डिज़ाइन किया गया था।
  • इसका उपयोग कई वायर्ड और वायरलेस डिवाइस में किया जाता है जहां यूजर्स को अपने मोबाइल डिवाइस को कई लैन सबनेट पर ले जाना होता है।
  • हालाँकि मोबाइल IP की आवश्यकता 3G जैसे सेलुलर सिस्टम में नहीं होती है, लेकिन इसका उपयोग अक्सर 3G सिस्टम में विभिन्न packet data serving node (PDSN) डोमेन के लिए किया जाता है।

मोबाइल आई पी के लाभ (Advantage of Mobile IP)

  • इसके द्वारा हम बिना किसी परेशानी के इन्टरनेट का इस्तेमाल कर सकते है|
  • इसके द्वारा हम roaming में भी अपने मोबाइल का प्रयोग कर सकते है|

मोबाइल आई पी की कमियां (Disadvantage of Mobile IP)

इसकी एक परेशानी यह है कि मोबाइल डिवाइस में कभी कभी signal weak हो जाते है तथा signal होकर भी internet नहीं चलता हैं|

Subject Wise Notes

error: Content is protected !!