IT Trends and Technologies

What is Proxy Server

इस पोस्ट में हम प्रॉक्सी सर्वर के बारे में जानेगे|

Proxy Server

(प्रॉक्सी सर्वर)


Image result for Proxy Server

अक्‍सर आपने अपने देखा होगा कि स्‍कूल, कॉलेज या ऑफिस में कई सारी बेवसाइट ब्‍लॉक कर दी जाती हैं या कोई –कोई बेवसाइट केवल कुछ ही देश में एक्सेस करने की अनुमति होती है। इंटरनेट की कम जानकारी रखने वाले यूजर्स ऐसी वेबसाइट्स को नहीं खोल पाते हैं, लेकिन कुछ यूजर्स ब्लॉक की गई वेबसाइट्स को बडे आसानी से खोल लेते हैं, वो ऐसा कैसे कर पाते हैं ? आईये जानते है-

अगर आपको नहीं पता तो जान लीजिये कि आप इंटरनेट बिना आई0पी0 एड्रेस के नहीं चला सकते हैं, इंटरनेट चलाने के लिये हर कम्‍प्‍यूटर का अपना एक अलग आई0पी0एड्रेस होता है यह एक प्रकार का ऑनलाइन फिंगरप्रिंट है, जिसकी मदद से ही आपके कम्‍प्‍यूटर की लोकेशन आदि का पता चलता है।

किसी भी साइट को जब ब्‍लॉक किया जाता है तो वह केवल उस संस्‍था या कम्‍प्‍यूटर के IP address पर ही ब्‍लॉक की जाती है। लेकिन अगर आप वेब प्रॉक्सी सर्वर का यूज करें तो आप किसी भी ब्लॉक वेबसाइट्स को आसानी से चला सकते हैं।


असल में  वेब प्रॉक्सी सर्वर आपके और इंटरनेट के बीच एक mediator या प्रतिनिधि का काम करता है, जब आप किसी ब्‍लॉक बेवसाइट को वेब प्रॉक्सी सर्वर के जरिये खोलते हैं तो इंटरनेट पर आपका IP address छुपा दिया जाता है और कोई एक ऐसा IP address दर्शा दिया जाता है जिस पर वह साइट ब्‍लॉक न हो। इस तरह से आपके और आपके इंटरनेट सर्वर के बीच वेब प्रॉक्सी सर्वर एक बाईपास कनेक्‍शन तैयार कर देता है। जिससे आप ब्लॉक वेबसाइट्स खोल पाते हैं। जब आप ऐसा करते हैं तो आप इंटरनेट पर गुमनाम रहते हैं प्रॉक्सी सर्वर आपकी असली पहचान को छिपा देता है।

उदाहरण के लिये अगर आप किसी ब्लॉक वेबसाइट्स को खोलना चाहते हैं तो free-proxyserver.com पर जाईये और साइट का URL टाइप कीजिये और Go पर क्लिक कीजिये। बेवसाइट खुल जायेगी।

यह स्‍थानीय नेटवर्क (Local Network) से जुड़ा हुआ ऐसा सर्वर हैं , जो अपने साथ जुड़े हुए कम्‍प्‍यूटरों के इंटरनेट से जुड़ने की  request की निर्धारित नियमों के अनुसार जांच करता हैं तथा नियमानुसार सही पाये जाने पर ही उसे Main server को भेजता हैं। इस प्रकार यह Main server तथा User के बीच फिल्‍टर का कार्य करता हैं तथा Unauthorized Users से नेटवर्क को सुरक्षा प्रदान करता हैं।
प्राक्‍सी सर्वर हार्डवेयर (एक कम्‍प्‍यूटर सिस्‍टम) या सॉफ्टवेयर या दोनों हो सकता हैं।

प्रॉक्सी सर्वर के उद्देश्‍य हैं –
 Unwanted web pages या Websites को प्रतिबंधित करना।
 मालवेयर तथा वायरस पर नियंत्रण रखना ।
 मुख्‍य सर्वर की गोपनीयता बनाए रखना।
 डाटा ट्रांसफर की गति को बढ़ाना ।
 वर्गीकृत डाटा (Classified Information) को सुरक्षित रखना आदि।

 


Download our Android App

Computer Hindi Notes Android App

Latest update on Whatsapp

अति आवश्यक सूचना

यदि आपको कंप्यूटर विषय से सम्बंधित कोई नोट्स नहीं मिल रहे हैं तो हमें सूचित करें

Request Form / निवेदन फॉर्म 

जिनके नोट्स बन गए हैं वो अपने नोट्स नीचे दी गयी लिंक पर क्लिक करके देख सकते हैं
Requested notes / अनुरोध किए गए नोट