इन्टरनेट एंड वेब पेज डिजाइनिंग

E-Mail Address (ई-मेल पता)

E-Mail Address (ई-मेल पता)

ई-मेल भेजने और प्राप्‍त करने के लिए आपके पास कोई ई-मेल पता होना चाहिए। कोई ई-मेल पता किसी ई-मेल सर्वर पर ऐसा स्‍थान होता हैं, जहॉ आपकी ई-मेल स्‍टोर की जाती हैं। इस स्‍थान को मेल बॉक्‍स भी कहा जाता हैं। जब आप किसी इंटरनेट सेवा प्रदाता कम्‍पनी से इंटरनेट कनेक्‍शन खरीदते हैं, तो वह सामान्‍यता आपके लिए एक मेल बॉक्‍स भी बना देता हैं और उस मेल बॉक्‍स का पता आपको दे दिया जाता हैं, जिसे आपका ई-मेल पता (E-mail address) कहा जाता हैं।

कोई ई-मेल पता सामान्‍यतया निम्‍न रूप का होता हैं- username@hostname


यहॉ ‘username’ आपके मेल बॉक्‍स का नाम हैं। यह सामन्‍यतया आपके यूजरनेम के समान होता हैं,जिसके द्वारा आप अपने कम्‍प्‍यूटर को इंटरनेट से जोड़ते हैं। ‘hostname’ मेल सर्वर का नाम होता हैं। उदाहरण के लिए, यदि आपने बीएसएनएल से इंटरनेट कनेक्‍शन लिया है, तो आपका ई-मेल एड्रेस इस प्रकार का हो सकता हैं- ‘abc@sancharnet.in’।

कुछ वेब पोर्टल आपको मुफ्त में मेल बॉक्‍स बनाने की सुविधा भी देते हैं। ऐसे कुछ वेब पोर्टलों के नाम हैं – www.yahoo.com , www.rediffmail.com, www.e-patra.com, www.jagran.com आदि। इनमें से किसी भी वेब पोर्टल में मेल बॉक्‍स बनाने के लिए आपको अपने बारे में सूचनाएँ देते हुए एक ऑन-लाइन फार्म भरना पड़ता हैं और अपने यूजरनेम तथा पासवर्ड की पसंद भी बतानी होती हैं। स्‍वीकृती मिलने के बाद पोर्टल आपको वही यूजरनेम तथा पासवर्ड दे देता है

आपके पास जो भी मेल आते हैं वह आपके मेल बॉक्‍स में स्‍टोर कर दिए जाते है, भले ही आप उसकी प्रप्ति के समय इंटरनेट से जुड़े हों या नहीं। आप उस वेब पोर्टल के होम पेज में जाकर और अपने यूजरनेम पासवर्ड द्वारा साइन इन करके अपने मेल बॉक्‍स को कभी भी खोल सकते हैं। आप उस वेब पोर्टल से किसी को ई-मेल भेज भी सकते हैं।

ये भी जरुर देखें

%d bloggers like this: