e-RUPI क्या है? यह कैसे काम करता है?

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एक नया पेमेंट सिस्टम लॉन्च करने वाले हैं, इसका नाम ई-रूपी (e-RUPI) रखा गया है, जिसे नरेंद्र मोदी 2 अगस्त 2021 को श्याम 4:30 पर लॉन्च करेंगे। कोरोना के चलते इसका लॉन्च वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से किया जाएगा। यह पर्सन और पर्पस  स्पेसिफिक डिजिटल पेमेंट सलूशन है।

What is ई-रूपी (e-RUPI)

यह डिजिटल भुगतान के लिए एक कैशलेस और कांटेक्टलेस  साधन है यह क्यूआर कोड या S.M.S पर आधारित ई-वाउचर है। इसे यूपीआई प्लेटफार्म पर ही डिजाइन किया गया है। इसे नैशनल पेमेंट कोर्परेशन ऑफ इंडिया (NPCI) के साथ-साथ डिपार्टमेंट ऑफ फाइनेंस सर्विस, हेल्थ मिनिस्ट्री और नेशनल हेल्थ अथॉरिटी के सहयोग से बनाया गया है।

ई-रूपी (e-RUPI) यह सुनिश्चित करता है कि गवर्नमेंट की कोई भी स्कीम लाभार्थियों तक बिना किसी अन्य व्यक्ति के माध्यम से पहुंच सके।

ई-रूपी (e-RUPI) कैसे काम करता है?

यह एक ई-वाउचर की तरह कार्य करता है यह एक प्रीपेड सर्विस जिसमें हम किसी व्यक्ति को किसी विशेष उद्देश्य पर खर्चा करने के लिए पैसा दे सकते हैं।

उदाहरण के लिए अगर सरकार ने किसी व्यक्ति को घर बनाने के लिए पैसा दिया है और वह पैसा इस सर्विस के माध्यम से एक अवसर के रूप में उसके पास आया है तो वह इन पैसों का उपयोग केवल घर बनाने के लिए ही कर सकता है इसके अलावा वह इन पैसों का उपयोग कहीं और नहीं कर पाएगा।

ई-रूपी (e-RUPI) के फायदे

ई-रूपी (e-RUPI)कई सारे फायदों को हम देख सकते हैं जो कि निम्न है

  • इसके द्वारा सरकार अपनी सभी योजनाओं के तहत दिए हुए पैसों का डाटा रख सकती है।
  • इसके द्वारा किसी योजना के अंतर्गत मिले हुए पैसों का सही इस्तेमाल किया जाएगा।
  • यह सर्विस प्रीपेड है अर्थात जब वाउचर आपके पास आएगा तो उसका पैसा सरकार द्वारा दिया जा चुका है, इस कारण कभी भी पैसा भेजने में समय नहीं लगेगा।
  • इसका उपयोग करने के लिए आपके पास यूपीआई या अन्य ऑनलाइन पेमेंट सर्विस होना अनिवार्य नहीं है।
  • यह एक ऑनलाइन सर्विस है अर्थात पैसा भेजना बहुत ही आसान हो जाएगा।

ई-रूपी (e-RUPI)उपयोग कहां कहां होगा?

ई-रूपी (e-RUPI) हम शुरुआती उपयोग भारत सरकार द्वारा चलाई गई कई सारी योजनाएं जैसे प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना, आयुष्मान भारत योजना, शिशु कल्याण योजना, टीवी उन्मूलन कार्यक्रम तथा मेडिकल संबंधित योजना में जरूरतमंदों को पैसा पहुंचाने के लिए किया जाएगा। इसके अलावा निजी क्षेत्र में कर्मचारी और कॉर्पोरेट कार्यक्रमों के लिए भी डिजिटल वाउचर का उपयोग किया जा सकता है।

error: Content is protected !!